NDTV Khabar

जबलपुर की गन कैरिज फैक्ट्री के लापता अधिकारी का शव मिला

जीसीएफ में बनने वाली धनुष आर्टलरी गन में प्रतिबंधित चीनी बेयरिंग का इस्तेमाल किया गया था, मामले में मृतक एससी खाटुआ भी संदिग्ध थे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जबलपुर की गन कैरिज फैक्ट्री के लापता अधिकारी का शव मिला

जबलपुर की रक्षा सामग्री की फैक्ट्री (जीसीएफ) के एक लापता अधिकारी का शव बरामद किया गया.

खास बातें

  1. जीसीएफ में जेडब्ल्यूएम के पद पर पदस्थ एससी खटुआ
  2. गत 17 जनवरी की सुबह से लापता थे
  3. अधिकारी का शव पूरी तरह सड़ चुका था
भोपाल:

जबलपुर गन कैरिज फैक्ट्री से लापता हुए एक अधिकारी की खोज आज उस वक्त खत्म हो गई जब उसकी लाश क्षत-विक्षत हालत में गन कैरिज फैक्ट्री के पास ही बरामद हुई. लाश बुरी तरीके से सड़ चुकी थी.

खबर मिलते ही मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल और लापता अधिकारी एससी खाटुआ के परिजन भी मौके पर पहुंच गए. जीसीएफ में जेडब्ल्यूएम के पद पर पदस्थ एससी खटुआ 17 जनवरी की सुबह 7 बजे घर से निकले थे, वे तभी से लापता थे. उनकी पत्नी मौसमी खटुआ ने उनके लापता होने की रिपोर्ट 18 जनवरी को शाम को घमापुर थाने में दर्ज करवाई थी.

लापता अधिकारी का शव आज शाम चार बजे फैक्ट्री के सेक्शन दो में मार्ग पर स्थित पुल के बगल से जाने वाले रास्ते पर मिला. शव के पास से उनकी स्कूटी गाड़ी तथा एक ब्लेड भी मिला है. शव के पास खून फैला हुआ था जो सूखा हुआ था. पुलिस ने लाश को पंचनामा के बाद पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवा दिया था.


गौरतलब है कि जीसीएफ में बनने वाली धनुष आर्टलरी गन में चीन में निर्मित वायर लैस रोलिंग बेयरिंग का इस्तेमाल किया गया था. डिफेंस सेक्टर में चीन के माल का उपयोग किया जाना प्रतिबंधित है. दिल्ली सीबीआई ने जून 2017 में प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू की थी. प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई थी कि वायर लैस रोलिंग बैरिंग का ठेका दिल्ली की सिध्द सेल्स सिंडीकेट कंपनी को दिया गया था. कंपनी द्वारा जिन बेयरिंग की सप्लाई की गई थी कि उस पर 'मेड इन जर्मन' लिखा था परंतु उनका निर्माण चीन में हुआ था.

यह भी पढ़ें :  मध्य प्रदेश: नवजात सहित एक ही परिवार के चार लोगों का मिला शव, पति की हालत गंभीर, पुलिस ने शुरू की जांच 

इस मामले में मृतक एससी खाटुआ भी संदिग्ध थे. सीबीआई ने दो बार उनसे पूछताछ की थी और उनके घर से दस्तावेज भी जब्त किए थे. सीबीआई की जांच टीम जब 17 जनवरी को दोबारा फैक्ट्री में जांच करने पहुचीं थी तभी से अधिकारी खटुआ लापता थे.

VIDEO : भ्रष्टाचार के आरोपी पूर्व डीजी ने बेटे के साथ आत्महत्या की

टिप्पणियां

पुलिस के मुताबिक लापता फैक्ट्री कर्मी की लाश के पास से सूखा हुआ खून मिला है. लाश 15 दिन से अधिक पुरानी है और पूरी तरह सड़ गई है. एसपी अमित सिंह का कहना है कि पहले उन्हें शक था कि खटुआ ने आत्महत्या की है लेकिन सिर पर चोट के निशान से साफ हो रहा है कि उनकी हत्या की गई है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement