मध्यप्रदेश: भोपाल एम्स से आपातकालीन ड्यूटी कर लौट रहे डॉक्टरों पर पुलिस ने किया हमला, एक के हाथ में हुआ फ्रैक्चर, दूसरे की टूटी टांग

अस्पताल में आपातकालीन ड्यूटी करने के बाद घर लौट रहे डॉ. युवराज सिंह और डॉ. रितुपर्णा जना पर पुलिसकर्मी ने हमला कर दिया. बता दें, दोनों डॉक्टर एम्स भोपाल में फोरेंसिक मेडिसिन विभाग में पीजी निवासी डॉक्टर हैं.

मध्यप्रदेश: भोपाल एम्स से आपातकालीन ड्यूटी कर लौट रहे डॉक्टरों पर पुलिस ने किया हमला, एक के हाथ में हुआ फ्रैक्चर, दूसरे की टूटी टांग

पुलिस के हमले से डॉक्टर युवराज के हाथ में फ्रैक्चर हो गया.

खास बातें

  • आपातकाली ड्यूटी करके घर लौट रहे थे डॉक्टर
  • पुलिस ने न केवल मारपीट की बल्कि दुर्व्यवहार भी किया
  • मेडिसिन विभाग में पीजी निवासी हैं दोनों डॉक्टर
भोपाल:

मध्यप्रदेश में एक सप्ताह के भीतर डॉक्टर पर दूसरी बार हमला हुआ है. लेकिन इस बार हमला स्थानीय लोगों द्वारा नहीं बल्कि पुलिस द्वारा हुआ है. हैरान कर देने वाली यह घटना एम्स भोपाल की है. अस्पताल में आपातकालीन ड्यूटी करने के बाद घर लौट रहे डॉ. युवराज सिंह और डॉ. रितुपर्णा पर पुलिसकर्मी ने हमला कर दिया. बता दें, दोनों डॉक्टर एम्स भोपाल में फोरेंसिक मेडिसिन विभाग में पीजी निवासी डॉक्टर हैं. पुलिस के इस हमले से डॉ. युवराज सिंह के हाथ में फ्रैक्चर हो गया. वहीं डॉ. रितुपर्णा के पैर में चोट लग गई. पुलिस के इस हमले के बारे में डॉ. रितुपर्णा जना ने कहा, 'हम आपातकालीन ड्यूटी से घर लौट रहे थे, जब हमें एक पुलिस गश्ती दल ने रोका था. हमारे पहचान पत्र दिखाने के बावजूद पुलिस ने हमारे साथ केवल मारपीट नहीं की. बल्कि दुर्व्यवहार भी किया और हमे कोरोनावायरस फैलाने के लिए जिम्मेदार ठहराया.' 

डॉक्टरों को पुलिस द्वारा पीटा जाने की इस घटना को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शर्मनाक करार दिया है. उन्होंने ट्वीट किया, 'पुलिसकर्मियों ने महिला डॉक्टर सहित दो पीजी डॉक्टरों की पिटाई की. यह बेहद शर्मनाक है. हमें उन डॉक्टरों पर गर्व है जो अपनी जान जोखिम में डालकर महामारी के दौरान लोगों की सेवा कर रहे हैं.' बता दें, डॉक्टरों के साथ मारपीट करने वाला कांस्टेबल सुनील नाहरिया पुलिस लाइंस से जुड़ा हुआ है और इस घटना के जांच के आदेश दे दिए गए हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com