कॉलेज प्रिंसिपल के देवी सरस्वती पर अपमानजनक कमेंट पर बवाल, वीडियो वायरल; आरोपी गिरफ्तार

वीडियो वायरल होने के बाद प्राचार्य एसएस गौतम को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर समाज के सभी वर्गों के लोग सड़कों पर उतर आए

कॉलेज प्रिंसिपल के देवी सरस्वती पर अपमानजनक कमेंट पर बवाल, वीडियो वायरल; आरोपी गिरफ्तार

मध्यप्रदेश के दतिया जिले के सेवड़ा में देवी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले प्रिंसिपल को गिरफ्तार कर लिया गया.

खास बातें

  • मध्यप्रदेश के दतिया जिले के सेवढ़ा के गोविंद कॉलेज की घटना
  • प्राध्यापक के सामने की गई अनुचित टिप्पणी का वीडियो वायरल हुआ
  • आरोपी प्राचार्य को दो सप्ताह के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा गया
भोपाल:

मध्यप्रदेश के दतिया में एक सरकारी कॉलेज के प्रिंसिपल को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. उन पर कथित रूप से देवी सरस्वती पर अपमानजनक टिप्पणी करने का आरोप है. उसी कॉलेज के एक शिक्षक को भी इस मामले में गिरफ्तार किया गया है.

मामला दतिया जिले के सेवढ़ा के गोविंद कॉलेज का है. कुछ दिन पहले कॉलेज के प्राचार्य एसएस गौतम ने अपने अधीनस्थ प्राध्यापक डॉ मनोज व्यास से चर्चा के दौरान मां सरस्वती पर कथित तौर पर अभद्र टिप्पणी की थी. यह भी कहा था कि उन्होंने कॉलेज कैंपस की दीवारों पर देवी सरस्वती की तस्वीरें लगाने से मना कर दिया था. यह सारी बातें  प्रोफेसर व्यास ने रिकॉर्ड कर लीं. बाद में यह वीडियो वायरल हो गया.

वीडियो वायरल होने के बाद इलाके में एसएस गौतम को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर समाज के सभी वर्गों के लोगों के साथ-साथ सभी दलों के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए. बाद में उन्होंने पुलिस स्टेशन में आत्मसमर्पण कर दिया और स्थानीय अदालत ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

फिर मुश्किल में पड़े सिद्धू, PM मोदी पर अपमानजनक टिप्पणी करने पर चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस

पुलिस अधीक्षक डी कल्याण ने कहा, "एक वीडियो हमारे सामने आया है जिसमें कुछ आपत्तिजनक बातें थीं. हमने एफआईआर दर्ज कर ली है. एफआईआर आईपीसी की धारा 153 ए और 295 के तहत, यानी धार्मिक भावनाएं भड़काने और वैमन्स्य बढ़ाने जैसी धाराओं के तहत दर्ज की गई है.

VIDEO : जया प्रदा पर अपमानजनक टिप्पणी करने पर आजम खान के खिलाफ मामला दर्ज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कड़े सुरक्षा बंदोबस्त के बीच गौतम को शुक्रवार को अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें दो सप्ताह के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.