बैल बन खेत जोतती है महिला, कंधे पर हल रखकर बेटी संग खेती करने को मजबूर

मध्यप्रदेश के आदिवासी बहुल जिले झाबुआ में एक महिला बैल की जगह अपने कंधे पर हल रखकर खेत जोतने के लिए मजबूर है.

बैल बन खेत जोतती है महिला, कंधे पर हल रखकर बेटी संग खेती करने को मजबूर

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

मध्यप्रदेश के आदिवासी बहुल जिले झाबुआ में एक महिला बैल की जगह अपने कंधे पर हल रखकर खेत जोतने के लिए मजबूर है. इस काम में वह अपनी बेटी की मदद लेती है. बैल के अभाव में खुद बैल का काम कर रही इस महिला की ओर अब प्रशासन का ध्यान गया है. प्रशासन ने इस मामले को गंभीरता से लिया है और जांच करा रहा है. मामला झाबुआ जिले के उमर कोट का है. यहां की राम ली के पास दो बीघा जमीन है.

अमेठी: लूट का विरोध करने पर सेना के रिटायर कैप्टन को रस्सी से बांध पीट-पीट कर मार डाला

इस जमीन पर वह मूंगफली, मक्का, तोरई और मिर्ची उगाकर अपना और परिवार का उदर-पोषण करती है. बैल खरीदना उसके लिए संभव नहीं है, क्योंकि एक जोड़े बैल कम से कम 25 हजार रुपये में आएंगे और इतना पैसा उसके पास है नहीं. उसकी माली हालत किराए पर जोड़ा बैल लेने की भी नहीं है.

राम ली के पांच छोटे-छोटे बच्चे हैं. एक बेटी 12 साल की है, जिसकी मदद वह खेत की जुताई में लेती है. राम ली का पति रतन गुजरात के भारोब में मजदूरी करता है. जिलाधिकारी प्रबल सिपाहा ने आईएएनएस को बताया कि उनके सामने यह मामला आया है, जिसकी वह जांच करा रहे हैं.

यूपी के नए राज्यपाल के शपथग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए 'परंपरा' तोड़ेंगे राम नाईक

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने कहा, "प्रारंभिक तौर पर जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक महिला हल नहीं चला रही है. उसके हाथ में दूसरा औजार देखा गया है. जांच रिपोर्ट आने पर ही कहा जा सकेगा कि मामला क्या है." 

Video: दिल्ली के स्कूल में बच्चों से मजदूरों की तरह काम लिया



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)