NDTV Khabar

महात्मा गांधी का अस्थिकलश चोरी, बापू की तस्वीर पर लिखा....

मध्य प्रदेश के रीवा शहर के बापू भवन में लगी महात्मा गांधी की तस्वीर पर अज्ञात लोगों ने ‘राष्ट्रदोही’ लिखने के साथ-साथ वहां रखे उनके अस्थिकलश को चुरा लिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महात्मा गांधी का अस्थिकलश चोरी, बापू की तस्वीर पर लिखा....

महात्मा गांधी

खास बातें

  1. रीवा से महात्मा गांधी का अस्थिकलश चोरी
  2. गांधी की तस्वीर पर अज्ञात लोगों ने लिखा ‘राष्ट्रदोही’
  3. भारत भवन में यह अस्थिकलश 1948 से रखा था
मध्य प्रदेश:

देशभर में 2 अक्टूबर को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की 150वीं जयंती मनाई गई, उसी दिन मध्य प्रदेश के रीवा शहर के बापू भवन में लगी महात्मा गांधी की तस्वीर पर अज्ञात लोगों ने ‘राष्ट्रदोही' लिखने के साथ-साथ वहां रखे उनके अस्थिकलश को चुरा लिया. यह जानकारी पुलिस ने दी है. भारत भवन में यह अस्थिकलश 1948 से रखा था. रीवा पुलिस ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि वह इसकी जांच कर रही है. रीवा पुलिस अधीक्षक आबिद खान ने कहा कि रीवा जिला कांग्रेस अध्यक्ष गुरमीत सिंह की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है. सीसीटीवी के फुटेज के आधार पर आरोपियों की पहचान करने का प्रयास जारी है.

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले बोले- जिन्हें संविधान पसंद नहीं, उन्हें भारत में रहने का अधिकार नहीं

इससे पहले महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर पर सभी पार्टियों ने बापू की जयंती मनाई और एक-दूसरे पर निशाना भी साधा. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, आरएसएस एवं भाजपा पर निशाना साधा. उन्होंने कहा था कि जो लोग खुद को सर्वेसर्वा बताने की इच्छा रखते हों वो राष्ट्रपिता के आदर्शों को कैसे समझ सकते हैं. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी की पदयात्रा के समापन के बाद सोनिया ने राजघाट पर पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की. 


टिप्पणियां

कैथल विधानसभा सीट: क्या एक बार फिर कांग्रेस का बना रहेगा दबदबा? या विपक्ष पार्टी खेलेगी नया दांव

उन्होंने कहा था, 'आज हमारा देश और पूरी दुनिया महात्मा गांधी जी की 150वीं जयंती मना रही है तो हम सभी को इस बात पर गर्व है कि भारत आज जहां पहुंचा है वह गांधी के रास्ते पर चलकर पहुंचा है.'  सोनिया ने मोदी और भाजपा पर कटाक्ष करते हुए कहा, 'गांधी जी का नाम लेना आसान है, लेकिन उनके बताए रास्ता पर चलना मुश्किल है. गांधी जी का नाम लेकर भारत को अपने रास्ते पर ले जाने वाले पहले भी कम नहीं थे, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में साम दाम दंड भेद का खुला खेल करके वो अपना आपको बहुत ताकतवर समझते हैं.'
 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement