गोशाला खोलने और ट्रिपल तलाक के खिलाफ बोलने पर मुस्लिम महिला को जान से मारने की धमकी

आपको जानकारी हैरानी होगी कि उनको न सिर्फ बाहरी लोग धमकी या प्रताड़ित कर रहे हैं बल्कि सुसराल पक्ष के लोग भी मारपीट करते हैं.

गोशाला खोलने और ट्रिपल तलाक के खिलाफ बोलने पर मुस्लिम महिला को जान से मारने की धमकी

मेहरुन्निशा खान ने बताया कि उनको रोज धमकी दी जा रही है.

खास बातें

  • नीमच में चलाती हैं गोशाला
  • जान से मारने की मिली है धमकी
  • पीएम मोदी और सीएम शिवराज से अपील
भोपाल:

'हमलावर पूरे तरह से तैयार होकर आये थे. उन लोगों ने मुझे जान से मारने की धमकी दी है. मेरे अपहरण की भी कोशिश की गई. मैं बहुत डर गई हूं,' ये कहना की मेहरुन्निशा खान का जो मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रहती हैं और नीमच में एक गोशाला चलाती हैं. मेहरुन्निशा खान राष्ट्रीय गोसेवा समूह की प्रदेश अध्यक्ष हैं. उन्होंने बताया, 'उन लोगों ने मुझे वाट्सएप पर धमकी देते हुये कटे हुये सिर की तस्वीर भेजी है और कहा है जल्द ही इनमें से एक तुम भी हो सकती है'.  आपको जानकारी हैरानी होगी कि उनको न सिर्फ बाहरी लोग धमकी या प्रताड़ित कर रहे हैं बल्कि सुसराल पक्ष के लोग भी मारपीट करते हैं. इन लोगों ने भी धमकी देते हुये कहा कि वह गोसेवा के काम से खुद को अलग रखें. मेहरुन्निशा खान ने बताया कि उनके माता-पिता और बेटी ने भी उन्हें मदद करने से इनकार कर दिया है और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से मदद की अपील की है. 

इस देश के सांसद ने कहा- गौरक्षा भारत के लिए ‘नासूर’ बन गया है

मेहरुन्निशा ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, 'गोसेवा के काम में जुड़ने से और ट्रिपल तलाक के खिलाफ बोलने से मेरे ससुरालजनों ने मेरे साथ मारपीट की और गालियां दी हैं. मैंने चार महीने पहले पुलिस में शिकायत की थी लेकिन कोई मदद नहीं दी गई. पुलिस का कहना है कि यह 'फैमिली मैटर' है. इसीलिये मैंने पीएम और सीएम से मदद की गुहार लगाई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

नोएडा : नवरात्र पर दादागीरी, बंद कराई मीट की दुकानें​


आपको बता दें कि भोपाल से 500 किलोमीटर दूर नीमच जिले में वह गोशाला चलाती हैं. इसलिये उनको रोज धमकी दी जाती है. उन्होंने बताया कि जिस दिन से मैं इस काम में जुड़ी हूं मुझे रोज जान से मारने की धमकी दी जाती है इसमें मेरे परिवार के लोग शामिल हैं. उनका कहना है कि इससे परिवार का नाम बदनाम हो रहा है. वहीं गोशाला चलाने के लिये मेहरन्निशा की मदद कर रहे सेवानिवृत्त अध्यापक मदन ओझा का कहना है कि गोसेवा का कभी सांप्रदायिकता में नहीं बदलनी चाहिये.