NDTV Khabar

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने फूंके 5 वाहन, सड़क भी काटी

शनिवार को नक्सलियों ने कटेकल्याण-मरजूम मार्ग को दिनदहाड़े खोदना शुरू कर दिया.

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने फूंके 5 वाहन, सड़क भी काटी

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

दंतेवाड़ा: छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले के भांसी थाना क्षेत्र के कमालूर रेलवे स्टेशन पर निर्माण कार्य में लगे 5 वाहनों को नक्सलियों ने आग लगा दी. यह घटना शुक्रवार की रात 8 बजे की बताई जाती है. शनिवार को नक्सलियों ने कटेकल्याण-मरजूम मार्ग को दिनदहाड़े खोदना शुरू कर दिया. सुरक्षा बल को आते देख भाग रहे नक्सलियों में से एक अपने ही लगाए स्पाइक होल में फंसकर घायल हो गया. उधर, कांकेर में नक्सलियों ने पोस्टर लगाकर रावघाट रेल परियोजना का विरोध किया है. पुलिस ने मौके से पोस्टर बरामद किया है.

बस्तर के आईजी विवेकानंद सिन्हा ने बताया कि कामलूर रेलवे स्टेशन पर जलाए गए वाहनों में चार टिप्पर और एक पोकलेन शामिल थे. यहां रेलवे लाइन के दोहरीकरण का काम चल रहा था. सूचना मिलते ही भांसी थाने की पुलिस मौके पर पहुंची. घटना को देखते हुए विशाखापट्टनम से किरंदुल जाने वाली पैसेंजर को दंतेवाड़ा रेलवे स्टेशन पर ही रोक दिया गया.

यह भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ में इस अकेले सिपाही ने नक्सलियों के छक्के छुड़ाए, प्रशासन ने दिया इनाम

इसके साथ ही एहतियात के तौर पर रात में चलने वाली गाड़ियों का परिचालन रोक दिया गया है. रेलवे लाइन के दोहरीकरण में लगे मजदूरों और ग्रामीणों में घटना के बाद से लेकर दहशत का माहौल है. कटेकल्याण-मारजूम मार्ग को बीच से खोदे जाने की पुष्टि करते हुए आईजी सिन्हा ने कहा कि पुलिस पार्टी जैसे ही कटेकल्याण से पचेर्ली मार्ग की तरफ घुसी. रास्ते में लगे नक्सलियों के संतरियों ने सड़क खोद रहे साथियों को चौकन्ना करने के लिए पटाखे फोड़ने शुरू कर दिया.

पुलिस पार्टी को रोकने के लिए नक्सलियों ने रास्ते मे बिजली के पोल भी डाल रखे थे. पोल को हटाते हुए जब तक फोर्स पहुंची, नक्सली सड़क खोदने के समान रापा, तगाड़ी, गैती, सब्बल, छोड़कर जंगलों में भाग गए. छोड़े हुए समान में लकड़ी का बेलचा भी मिला है. ग्रामीणों के अनुसार, पुलिस पार्टी के अचानक धावा बोलने से घबराए नक्सली अपने ही स्पाइक होल में जा फंसे. इसमें एक नक्सली कटेकल्याण एरिया कमेटी का पैर बुरी तरह जख्मी हो गया.

VIDEO : पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या : क्या गौरी को नक्सलियों से खतरा था?​


नक्सलियों ने अंतागढ़ थाना इलाके के पडरगांव रेल लाइन के पास बैनर-पोस्टर लगाकर रावघाट रेल परियोजना का विरोध किया है. नक्सलियों ने बैनर में लिखा है कि रेल लाइन बिछाने के लिए हरे-भरे पेड़ों की कटाई की जा रही है. पेड़ों की कटाई तुरंत रोक देनी चाहिए और तुरंत रेलपरियोजना को बंद कर देना चाहिए. सूचना मिलने के बाद फोर्स मौके पर पहुंची और जवानों ने पोस्टर-बैनर जब्त कर लिए. उन पर रावघाट, एरिया कमेटी का नाम लिखा है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement