NDTV Khabar

दंतेवाड़ा हमला: नक्सलियों ने कहा- एम्बुश में फंसे अच्युतानंद, इसलिए मरे, मीडिया हमारा निशाना नहीं

हाल ही में छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले के बारे में नक्सलियों ने एक बयान जारी कर कहा है कि 'दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू इसलिए मारे गए, क्योंकि वह एम्बुश में फंस गए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दंतेवाड़ा हमला: नक्सलियों ने कहा- एम्बुश में फंसे अच्युतानंद, इसलिए मरे, मीडिया हमारा निशाना नहीं

डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: हाल ही में छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले के बारे में नक्सलियों ने एक बयान जारी कर कहा है कि 'दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू इसलिए मारे गए, क्योंकि वह एम्बुश में फंस गए, और हमारा मीडिया को निशाना बनाने का कोई इरादा नहीं था...'  बता दें कि इस हमले में डीडी न्यूज के एक मीडियाकर्मी अच्युतानंद समेत दो जवानों की मौत हो गई थी. हालांकि, इस नक्सली हमले में दूरदर्शन के पत्रकार धीरज और मुकुट शर्मा बाल-बाल बच गए थे. 

छत्तीसगढ़ः दंतेवाड़ा में दूरदर्शन की टीम पर हमला, कैमरामैन की मौत, दो जवान शहीद

दरअसल, दरभा डिविजन कमेटी के सचिव साईनाथ ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहाकि सुरक्षाबलों के एंबुश में डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद फंस गए थे, जिसकी वजह से उनकी मौत हुई. हमारा पत्रकारों को निशाना बनाने का कोई इरादा नहीं था. हमने जानबूझकर पत्रकारों पर हमला नहीं किया. साथ ही उन्होंने पुलिस और सुरक्षाबलों के साथ अंदर के इलाके में पत्रकारों के न आने की अपील की. 

नक्सली हमले में घायल कैमरामैन ने मां के नाम रिकॉर्ड किया भावुक संदेश, देखें वीडियो
नक्सलियों के इस बयान पर दंतेवाड़ा के SP अभिषेक पल्लव ने कहा, "कैमरा क्यों लूटा गया...? क्योंकि उसमें टारगेटेड मीडिया एम्बुश की शुरुआती मिनटों की घटनाएं सबूत के तौर पर रिकॉर्ड हो गई थीं... शहीद कैमरामैन के शरीर पर गोलियों के कई घाव और खोपड़ी की हड्डी का टूटा होना किसी भी तरह ये संकेत नहीं देता कि ऐसा गलती से हुआ..." बता दें कि नक्सलियों की plga टीम ने एंबुश लगाया था. 

टिप्पणियां
पांच बड़ी खबरें : दंतेवाड़ा में दूरदर्शन की टीम पर नक्सली हमला, केंद्र सरकार और RBI के बीच तनातनी

बता दें कि पत्रकार संगठनों ने बुधवार को सरकार से अनुरोध किया कि छत्तीसगढ के दंतेवाड़ा जिले में हुए नक्सली हमले में एक पत्रकार की हत्या मामले की जांच कराई जाए और भविष्य में इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए पर्याप्त उपाय किये जाएं. इस हमले की निंदा करते हुए ‘इंडियन वीमंस प्रेस कोर' और प्रेस एसोसिएशन ने एक संयुक्त बयान में कहा कि यह निंदनीय है कि पत्रकार और मासूम लोग संघर्ष वाले क्षेत्रों और स्थितियों में लगातार निशाना बन रहे हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement