NDTV Khabar

मध्य प्रदेश : छिंदवाड़ा में पत्थरों से खेले गए गोटमार मेले में एक व्यक्ति की मौत, 450 लोग घायल

छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्ना में जाम नदी पर दो गांवों पांढुर्ना और सांवरगांव के बीच पत्थरों से खेले गये गोटमार मेले में एक व्यक्ति की मौत हो गई और 450 लोग घायल हो गये, जिनमें से 15 की हालत गंभीर बनी हुई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्य प्रदेश : छिंदवाड़ा में पत्थरों से खेले गए गोटमार मेले में एक व्यक्ति की मौत, 450 लोग घायल

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. गोटमार मेले में एक व्यक्ति की मौत
  2. इस मेले में 450 लोग घायल हो गए
  3. 15 लोग गंभीर रूप से घायल हैं
छिंदवाड़ा: छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्ना में जाम नदी पर दो गांवों पांढुर्ना और सांवरगांव के बीच पत्थरों से खेले गये गोटमार मेले में एक व्यक्ति की मौत हो गई और 450 लोग घायल हो गये, जिनमें से 15 की हालत गंभीर बनी हुई है. करीब 300 वर्षों से इन दो गांवों के बीच यह गोटमार का खेल खेला जा रहा है और इसमें भाग लेने वाले दोनों गांवों के लोग एक दूसरे पर पत्थर फेंकते हैं. छिंदवाड़ा जिले के कलेक्टर वेदप्रकाश शर्मा और पुलिस अधीक्षक अतुल सिंह ने संयुक्त रूप से बताया, ‘‘इस गोटमार मेले में आज एक व्यक्ति की मौत हो गई और 450 लोग घायल हुए हैं, जिनमें से 15 की हालत गंभीर है.’’ उन्होंने कहा कि मृतक की पहचान 28 वर्षीय शंकर भलावी के रूप में की गई है. गोटमार के दौरान फेंके गये पत्थर से उसके पेट में अंदरूनी चोट लग गई थी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई.    

यह भी पढ़ें: 'प्यार के मेले' में चले पत्थर, 58 लोग घायल; पुलिस पर भी पथराव

टिप्पणियां
इस गोटमार मेले में सात साल बाद किसी व्यक्ति की मौत हुई है. वर्ष 2011 में भी एक व्यक्ति की मौत हुई थी. दोनों अधिकारियों ने बताया कि दोनों गांवों के लोगों के बीच समझौता कर शान्तिपूर्ण तरीके से मेले का समापन हो गया है.    इस मेले को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं. यह गोटमार खेल सुबह से शाम तक खेला जाता है. विश्व प्रसिद्ध गोटमार मेले की परंपरा निभाने के पीछे किंवदन्तियां और कहानियां जुड़़ी हैं. किंवदन्ती के अनुसार पांढुर्ना के युवक और सावरगांव की युवती के बीच प्रेम संबंध था. एक दिन प्रेमी युवक ने सांवरगांव पहुंचकर युवती को भगाकर पांढुर्ना लाना चाहा. 

VIDEO: छत्तीसगढ़ : नक्सलियों और पुलिस में मुठभेड़, 2 जवान शहीद
जैसे ही दोनों जाम नदी के बीच पहुंचे तो सांवरगांव के लोगों को खबर लगी. प्रेमी युगल को रोकने के लिए पत्थर बरसाए, जिससे प्रेमी युगल की मौत हो गई. इस किंवदन्ती को गोटमार मेला आयोजन से जोड़ा जाता है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement