NDTV Khabar

शिवराज सिंह चौहान अमेरिका की सड़कों की हालत के बारे में दिये अपने पूर्व बयान पर कायम

चौहान ने अमेरिका में बयान दिया था कि मध्य प्रदेश की कई सड़कें वाशिंगटन डीसी की सड़कों से अच्छी हालत में है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिवराज सिंह चौहान अमेरिका की सड़कों की हालत के बारे में दिये अपने पूर्व बयान पर कायम

मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

भोपाल:

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अमेरिका में दिये अपने बयान पर कायम रहते हुए रविवार को दावा किया कि अमेरिकी राजधानी वाशिंगटन की 92 प्रतिशत सड़कें खराब हालत में हैं. चौहान ने अमेरिका में बयान दिया था कि मध्य प्रदेश की कई सड़कें वाशिंगटन डीसी की सड़कों से अच्छी हालत में है. अमेरिका की एक सप्ताह की यात्रा से वापस लौटने के बाद यहां हवाईअड्डे पर चौहान ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं यह बात पूरी गंभीरता से कहना चाहता हूं कि मैं मध्यप्रदेश की ब्रांडिंग करने अमेरिका गया था. मैंने यह (सड़कों के बारे में) तब महसूस किया जब मैं वाशिंगटन हवाईअड्डे से शहर की ओर सड़क से जा रहा था. मैं कोई स्थानीय गलियों की सड़कों के बारे में बात नहीं कर रहा था.’’ चौहान ने कहा, ‘‘मैं आपको उदाहरण देना चाहता हूं कि मध्यप्रदेश में जब आप इन्दौर हवाई अड्डे से सुपर कॉरीडोर सड़क से शहर की ओर जाएंगें तो आप एक विश्वस्तरीय सड़क पाएंगे. जब अमेरिका में मैंने सड़क के बारे में कहा था तो मेरे दिमाग में यही अहसास था. मैं वहां अपने प्रदेश की ब्रांडिग करने गया था, न कि यहां की स्थानीय सड़कों की खराब हालत बताने. लेकिन हमारे कांग्रेसी मित्रों को हर चीज में राजनीति दिखती है.’’

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने प्रदेश के इन्दौर-भोपाल और इन्दौर-मंदसौर जैसे विश्वस्तरीय राजमार्गों का भी उदाहरण दिया. उन्होंने कहा, ‘‘मैं वहां अपने प्रदेश और देश के अच्छे और सकारात्मक पक्ष बताने गया था. मैंने एक रिपोर्ट में पढ़ा कि वाशिंगटन की 92 फीसद सड़कें खराब हालत में हैं.’’


उल्लेखनीय है कि चौहान ने गत सप्ताह अमेरिका की राजधानी में कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडियन इंडस्ट्री और यूएस-इंडिया स्ट्रेजिक पार्टनरशीप फोरम के एक कार्यक्रम में कहा था, ‘‘जब मैं वाशिंगटन हवाई अड्डे पर उतरकर शहर की ओर आ रहा था तो मैंने महसूस किया कि मध्यप्रदेश की सड़कें अमेरिका से अच्छी हैं... और मैं यह केवल कहने के लिये नहीं कह रहा हूं.’’ चौहान ने दावा किया की इसके अलावा मध्यप्रदेश महिला सशक्तीकरण, सिंचाई और मीडिया की निष्पक्षता जैसे मामलों में अमेरिका से कहीं आगे है.

उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिका में एक महिला राष्ट्रपति बनते बनते रह गयीं जबकि भारत में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री जैसे उच्च पदों सहित पंचायत से संसद तक सभी स्तरों पर महिलाएं आसीन रह चुकी हैं. इस प्रकार जहां तक महिला सशक्तीकरण का सवाल है हम कहीं आगे हैं.’’ उन्होंने दावा किया कि प्रदेश में पिछले कुछ वर्षो में लगभग 1.5 लाख किलोमीटर नई सड़कों का निर्माण हुआ है. मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत और मध्यप्रदेश में मीडिया निष्पक्ष है जबकि अमेरिकी मीडिया निष्पक्ष नहीं है. हमारा मीडिया तटस्थ रहता है जबकि अमेरिकी मीडिया पक्ष लेता है. वह दृढ़ता से एक पक्ष के साथ खड़ा होता है, जबकि हमारा मीडिया सभी को निशाने पर लेता है. अपनी अमेरिका यात्रा की उपलब्धियों की बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी वहां निवेशकों से काफी सार्थक चर्चा हुई. निवेशकों ने शिक्षा, स्वास्थ्य, खाद्य प्रसंस्करण, इलेक्ट्रानिक, और रक्षा उत्पादन जैसे क्षेत्रों में रुचि दिखाई है.

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश से ताल्लुक रखने वाले अमेरिका के 400 डॉक्टर ‘फ्रेन्डस ऑफ मध्यप्रदेश’ संगठन के तहत इकट्ठे हुए हैं और उन्होंने यहां के डॉक्टरों को प्रशिक्षण देने की पेशकश की है. इसके साथ ही हमें शिक्षा के क्षेत्र में भी सहयोग करने के प्रस्ताव मिले हैं. चौहान ने बताया कि फ्रेन्डस ऑफ मध्यप्रदेश की एक बैठक अगले साल 4-5 जनवरी को इन्दौर में रखी गयी है.

टिप्पणियां

मुख्यमंत्री ने बताया कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्मशताब्दी वर्ष के अवसर पर वह पंडित जी के ‘एकात्म मानववाद’ की अवधारणा पर व्याख्यान देने के लिये आमंत्रण पर वहां गये थे. विश्व में साम्यवाद, समाजवाद और पूंजीवाद की असफलता के बाद एकात्म मानववाद की प्रासंगिकता और बढ़ जाती है. उन्होंने दावा किया कि भारत और अमेरिका भी बीच बेहतर संबंधों का यह स्वर्णकाल है. उन्होंने कहा, ‘‘बराक ओबामा (अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति) के बाद डोनाल्ड ट्रम्प भी भारत के साथ अमेरिका के मजबूत संबंधों के समर्थन में हैं. अमेरिका में भारतीयों को काफी सम्मान के साथ देखा जाता है.’’

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement