NDTV Khabar

मध्य प्रदेश में दुष्कर्मियों को फांसी के लिए हस्ताक्षर अभियान चलेगा : शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों और महिलाओं के प्रति कुत्सित पुरुष प्रधान मानसिकता को बदलने के लिए व्यापक अभियान चलाने की आवश्यकता है.

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्य प्रदेश में दुष्कर्मियों को फांसी के लिए हस्ताक्षर अभियान चलेगा : शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. महिला शक्ति को जागृत होना पड़ेगा, समाज को अपनी शक्ति का अनुभव कराना होगा.
  2. मुख्यमंत्री की पत्नी साधना सिंह भी मौजूद थीं.
  3. महिलाओं की ओर से चौहान को अभिनंदन पत्र भेंट किया गया.
भोपाल: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के महिला संगठनों से आग्रह किया है कि वे बेटियों के साथ ज्यादती करने वाले नरपिशाचों को फांसी देने वाले कानून के पक्ष में सभी जिलों में हस्ताक्षर अभियान चलाएं और कानून के पक्ष में वातावरण का निर्माण करें, ताकि पूरे देश को इसका लाभ मिले. प्रदेश भर के महिला संगठनों द्वारा यहां गुरुवार को दशहरा मैदान में महिलाएं बेटियों की गरिमा की रक्षा के लिए बनाए गए, क्रांतिकारी कानून बनाने के लिए मुख्यमंत्री चौहान का अभिनंदन करने के लिए एकत्रित हुई थीं. इस अवसर पर हजारों महिलाओं ने हाथ उठाकर दुष्कर्मियों को फांसी के फैसले पर मुख्यमंत्री का आभार जताया और हामी भी भरी. 

मुख्यमंत्री ने प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली महिलाओं से कहा कि यह अभिनंदन का नहीं, बल्कि बेटियों की गरिमा और सम्मान की रक्षा करने के संकल्प लेने का अवसर है. महिलाओं को बेटियों की रक्षा और सम्मान में आगे बढ़कर जन-जागरण अभियान करने नेतृत्व करने का आग्रह किया. 

यह भी पढ़ें : मध्‍य प्रदेश में बलात्‍कारियों को फांसी की सजा देने वाले विधेयक को मिली मंजूरी

मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों और महिलाओं के प्रति कुत्सित पुरुष प्रधान मानसिकता को बदलने के लिए व्यापक अभियान चलाने की आवश्यकता है. महिला शक्ति को जागृत होना पड़ेगा और समाज को अपनी शक्ति का अनुभव कराना होगा. चौहान ने कहा कि महिलाओं के विरुद्ध अपराधों पर निगरानी रखने के लिए अलग से एडीजी की नियुक्ति की जाएगी. साथ ही चार आईजी भी उनके सहयोग के लिए होंगे. वे महिलाओं से संबंधित अपराधों पर सतत् निगरानी रखेंगे. 

उन्होंने बताया कि आदि शंकराचार्य की विशाल प्रतिमा स्थापित करने के लिए और प्रदेश के कोने-कोने से धातु और मिट्टी एकत्र करने के लिए 19 दिसंबर से एकात्म यात्रा शुरू हो रही है. इसमें शामिल होने वाले संत-महात्मा भी यात्रा के साथ 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' संदेश समाज को देंगे. 

VIDEO : मध्य प्रदेश में दम तोड़ रही दीनदयाल रसोई​


उन्होंने कहा कि बेटियों पर बुरी नजर रखने वालों के लिए सरकार ने फांसी जैसी कठोर सजा का प्रावधान किया है, लेकिन समाज को पुरुष प्रधान मानसिकता बदलनी होगी कि महिलाएं सिर्फ उपभोग की वस्तु हैं. इस अवसर पर भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विनय सहस्रबुद्धे, राज्य भाजपा इकाई के अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और मुख्यमंत्री की पत्नी साधना सिंह भी मौजूद थीं. मुख्यमंत्री ने सपत्नीक कन्याओं के पैर धोकर उनकी आरती उतारी. बेटियों की रक्षा के लिए क्रांतिकारी कानून लागू करने की पहल के लिए महिलाओं की ओर से चौहान को अभिनंदन पत्र भेंट किया गया. 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement