NDTV Khabar

CBI ने मुंबई केे आयकर आयुक्त और एस्‍सार के एमडी को भ्रष्‍टाचार मामले में किया गिरफ्तार

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CBI ने मुंबई केे आयकर आयुक्त और एस्‍सार के एमडी को भ्रष्‍टाचार मामले में किया गिरफ्तार

एस्सार के एमडी प्रदीप मित्तल (बाएं) और मुंबई के आयकर आयुक्त (अपील) बीबी राजेंद्र प्रसाद (दाएं)...

मुंबई: सीबीआई ने मुंबई के आयकर आयुक्त (अपील-30) बीबी राजेंद्र प्रसाद को विशाखापत्तनम में गिरफ्तार किया है. सीबीआई के मुताबिक, आयकर आयुक्त पर 2 करोड़ रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप है. बीबी राजेंद्र प्रसाद 1992 बैच के आईआरएस अफसर हैं. उनके साथ ही 5 अन्‍य लोग भी गिरफ्तार किए गए हैं, जिनमें एस्सार के एमडी प्रदीप मित्तल और कंपनी के सीए श्रेयस पारिख प्रमुख हैं.
 
सीबीआई के मुताबिक, मुंबई में आयकर आयुक्त अपील राजेंद्र प्रसाद छुट्टी लेकर अपने घर विशाखापत्तनम गए थे. वहां 19 लाख 34 हजार की पहली किश्त लेते हुए उन्हें गिरफतार कर लिया गया. साथ में सुरेश जैन नामक उस रियल एस्टेट एजेंट को भी गिरफ्तार किया गया, जिसके पास हवाला से रिश्वत की रकम मुंबई से विशाखापत्तनम भेजी गई थी.

सीबीआई का दावा है कि बाद में उनके और बाकी के आरोपियों के घर और दफ्तर की तलाशी में 1 करोड़ 50 लाख भी बरामद हुए. मामला एस्सार और बालाजी ट्रस्ट से जुड़ा है. सीबीआई का आरोप है कि मुंबई के आयुकर आयुक्त अपील बीबी राजेंद्र प्रसाद ने कंपनी के पक्ष में फैसला देने के लिए 2 करोड़ रुपये की मांग की थी और रुपये मुंबई के एक रियल एस्टेट एजेंट मनीष जैन को दिए गए, जिसने रुपयों को विशाखापत्तनम के रियल एस्टेट एजेंट सुरेश जैन तक पहुंचाया.

सीबीआई का दावा है कि गुप्त सूत्रों से मामले की भनक लगने के बाद सभी पर नजर रखी गईं और फिर 19 लाख 34 हजार रुपये की एक क़िस्त लेते हुए आयकर आयुक्त को पकड़ लिया गया. मामले में 4 आरोपी मुंबई से भी गिरफ्तार किए गए, जिनमें एस्सार पावर के एमडी प्रदीप मित्तल सहित वो सीए भी है, जिसके जरिये लेनदेन हो रही थी. हालांकि एस्सार ने मामले में कंपनी या उनके एमडी और एग्जीक्यूटिव की कोई भी भूमिका से इनकार किया है.

टिप्पणियां
अदालत में ट्रांजिट रिमांड का विरोध करते हुए वरिष्ठ वकील सतीश माने शिंदे ने कहा कि कंपनी की अपील पर फैसला 21 अप्रैल को ही हो चुका था, जबकि सीबीआई ने मामला 1 मई को दर्ज किया. ये जरूर है कि कंपनी के दोनों अधिकारी अपील में सुनवाई के लिए उपस्थित रहे, लेकिन उसका इस रिश्वतकांड से कोई संबंध नहीं है.

मुंबई की अदालत में सीबीआई ने यहां गिरफ्तार आरोपियों को विशाखापत्तनम ले जाने के लिए ट्रांजिट रिमांड की मांग की. आरोपियों की तरफ से विरोध के बावजूद अदालत ने सभी को 6 मई तक के लिए ट्रांजिट रिमांड में भेज दिया. जबकि विशाखापत्तनम में गिरफ़्तार आयकर आयुक्त राजेंद्र प्रसाद और रियल एस्टेट कारोबारी सुरेश जैन को वहां की अदालत में 6 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया. आगे की तहकीकात विशाखापत्तनम में होगी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement