NDTV Khabar

बालिग-नाबालिग में उलझी एटीएस की जांच, आईएस संदिग्ध को अदालत ने बाल सुधार गृह भेजा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बालिग-नाबालिग में उलझी एटीएस की जांच, आईएस संदिग्ध को अदालत ने बाल सुधार गृह भेजा

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

मुंबई:

आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट से जुड़े मालवणी मोड्यूल की जांच कर रही महाराष्ट्र एटीएस को बड़ा झटका लगा है। एटीएस उत्तर प्रदेश के कुशी नगर से पकड़े गये जिस संदिग्ध को भारत के अलग-अलग राज्यों से पकड़े गए 14 संदिग्धों का नायब अमीर बता रही थी, उसकी उम्र को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। जिसके चलते अदालत ने शनिवार को उसे बाल सुधार गृह में भेज दिया।


महाराष्ट्र एटीएस ने कुशी नगर से गिरफ्तार किए संदिग्ध को दूसरी बार रिमांड के लिए पेश कर अदालत को बताया कि ये भारत में इस्लामिक स्टेट आतंकी संगठन के मददगारों के मोड्यूल में मुदब्बिर शेख के बाद दूसरे नंबर पर है। संगठन में इसे नायब अमीर के तौर पर जाना जाता है। युवकों को बरगलाकर आईएस जुड़ने के लिए मनाना और उनकी आर्थिक मदद करना इसी के जिम्मे था। इस काम के लिए इसने मुंबई में पनवेल के पास और गोवा में एक-एक सेफ हाउस बनाया था। मालवणी के अयाज़ सुल्तान को विदेश भेजने से लेकर उसके 3 दोस्तों को बरगलाने का आरोप भी इसी पर है, इसलिये इसकी पुलिस रिमांड बढ़ाई जाये।

लेकिन संदिग्ध के परिवार की तरफ से अदालत में मौजूद वकील चिराग शाह ने ये कहकर एटीएस के दावों की हवा निकाल दी कि संदिग्ध तो नाबालिग है।
चिराग शाह ने सबूत के तौर पर उसके स्कूल पासिंग सर्टिफिकेट का हवाला दिया जिसके मुताबिक उसकी उम्र साढ़े सोलह साल के करीब ही होती है।


टिप्पणियां

जवाब में एटीएस ने अदालत को बताया कि ऑनलाइन मतदान कार्ड के मुताबिक उसकी उम्र 20 साल है। शिवडी की अदालत में इस मुद्दे पर तक़रीबन 2 घंटे बहस चली। अंततः कोई नतीजा नहीं निकलता देख अदालत ने संदिग्ध को 11 फ़रवरी तक बाल सुधार गृह भेज दिया और दोनों पक्षों को आदेश दिया कि वो अगली सुनवाई में अपने दावों को साबित करने के लिए प्रमाणित सबूतों के साथ हाजिर रहे।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने पिछले हफ्ते देश में भर के 5 राज्यों से 14 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि ये सभी इस्लामिक स्टेट की ही तरह "जनुद उल खलीफा ए हिन्द"  से जुड़े हैं। मुंब्रा का मुदब्बिर संगठन का मुखिया यानी अमीर होने का दावा करता है और कुशी नगर का संदिग्ध नायब अमीर। एटीएस के मुताबिक कुशी नगर के संदिग्ध ने ही मालवणी के अयाज़ सुल्तान और बाकी के लड़कों को बरगलाया है। ये भारत में सुरक्षा जवानों, अहम ठिकानों और विदेशी मेहमानों पर हमले की योजना बना रहे थे। इनके पास से बम बनाने की आईडी, सनसनीखेज दस्तावेज और कई इलेक्ट्रॉनिक वस्तुएं मिली हैं।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement