NDTV Khabar

मुंबई के 4,500 रेजिडेंट डॉक्टरों ने खत्म की हड़ताल, काम पर लौटे, सरकार ने दिया सुरक्षा का भरोसा

75 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई के 4,500 रेजिडेंट डॉक्टरों ने खत्म की हड़ताल, काम पर लौटे, सरकार ने दिया सुरक्षा का भरोसा

महाराष्ट्र सरकार ने डॉक्‍टरों को उचित सुरक्षा मुहैया कराने का भरोसा दिया है.

मुंबई: पांच दिनों के सामूहिक अवकाश के बाद महाराष्ट्र के क़रीब 4,500 रेज़िडेंट डॉक्टर काम पर वापस लौट गए हैं. सरकार के सख़्त अल्टीमेटम के बाद देर रात डॉक्टरों ने काम पर लौटने का फ़ैसला किया. इधर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने जानकारी दी है कि न सिर्फ़ मुंबई बल्कि महाराष्ट्र के सुदूर इलाक़ों के अस्पतालों में भी सुरक्षा मुहैया करा दी गई है.

अस्पतालों में सीसीटीवी समेत दूसरे सुरक्षा उपायों के लिए 33 करोड़ का फ़ंड दिया गया है. हाल के दिनों में महाराष्ट्र में डॉक्टरों पर मरीज़ों के परिजनों के हमले की घटनाए बढ़ गई थीं, जिसके विरोध में डॉक्टर सामूहिक अवकाश पर चले गए थे.

इससे पहले विरोध प्रदर्शन कर रहे डॉक्टरों के मामले में बंबई उच्च न्यायालय ने चेतावनी दी थी कि वे शनिवार तक काम पर लौटें नहीं तो सरकार एक्शन लेगी. वहीं डॉक्टरों की एसोसिएशन MARD ने हाईकोर्ट में हलफनामा दिया कि सुबह 8 बजे तक डॉक्टर काम पर लौट आएंगे. डॉक्टर काम पर न लौटे तो सरकार एक्शन ले सकती है. वहीं IMA ने भी शुक्रवार को हड़ताल वापस ले ली. आईएमए के मुताबिक- सरकार ने सभी मांगें मान ली हैं.

उधर, शुक्रवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस एक बार फिर डॉक्टरों के प्रतिनिधियों से मिले और हड़ताल ख़त्म करने की गुज़ारिश की. इस बैठक से पहले फडणवीस ने कहा था कि वह आखिरी बार बातचीत करने जा रहे हैं और इसके बाद भी अगर हड़ताल नहीं टूटी तो वह एक्शन लेंगे. उन्होंने कहा कि अब बहुत हो चुका. डॉक्टरों को सुरक्षा का भरोसा दिया गया है. हमने उनकी सभी मांगें मान ली हैं.

हड़ताल के बाद 135 मरीजों की मौत
डॉक्टरों की हड़ताल के बाद से मुंबई में 135 मरीज़ों की मौत होने की खबर है. अकेले सायन अस्पताल में 48 मरीज़ों की मौत हुई. सायन अस्पताल के डीन ने मौतों की पुष्टि की है. केईएम अस्पताल में हड़ताल के बाद 53 मौतें हुई हैं.

सोमवार से हड़ताल पर थे
गौरतलब है कि करीब 4000 रेजिडेंट डॉक्टर राज्य में सरकारी अस्पतालों में मरीजों के रिश्तेदारों द्वारा अपने सहकर्मियों पर किये जाने वाले हमलों के मद्देनजर सुरक्षा बढ़ाने की मांग को लेकर सोमवार से हड़ताल पर थे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement