मुंबई: कई अस्पतालों ने भर्ती करने से किया इनकार, वकील की दिल के दौरे से मौत

बुलेंस में एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल दौड़ने के बाद 56 वर्षीय जयदीप सावंत को अंतत: एक चिकित्सा केंद्र में भर्ती कराया गया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. सावंत की पत्नी दीपाली ने यह बात बताई.

मुंबई: कई अस्पतालों ने भर्ती करने से किया इनकार, वकील की दिल के दौरे से मौत

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • दो अस्पतालों ने पेशे से वकील उसके पति को भर्ती करने से इनकार कर दिया
  • महिला के पति को दिल का दौरा पड़ा था
  • समय से मदद न मिलने के कारण हुई मौत
मुंबई:

देश में जारी लॉकडाउन के बीच नवी मुंबई की एक महिला उस वक्त पूरी तरह बेबस हो गई जब दो अस्पतालों ने पेशे से वकील उसके पति को भर्ती करने से इनकार कर दिया. महिला के पति को दिल का दौरा पड़ा था. एंबुलेंस में एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल दौड़ने के बाद 56 वर्षीय जयदीप सावंत को अंतत: एक चिकित्सा केंद्र में भर्ती कराया गया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. सावंत की पत्नी दीपाली ने यह बात बताई. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लागू बंदी के शुरुआती दिनों में उनके पति ने परेशान पड़ोसियों को जरूरी सामान पहुंचाने की पहल की थी, लेकिन उन्हें समय से मदद न मिलने के कारण उनकी मौत हो गई.

नवी मुंबई के वाशी इलाके के सेक्टर-17 के निवासी सावंत को 14 अप्रैल को दिल का दौरा पड़ा था. दिन का खाना खाने के बाद वह बेहोश हो गए थे. उनकी पत्नी ने कहा, 'उनकी नब्ज चल रही थी. वह उस वक्त तक जिंदा थे. मैंने तुरंत एंबुलेंस बुलाई और उन्हें पास के अस्पताल में ले जाया गया.' दीपाली ने कहा, 'लेकिन अस्पताल के सुरक्षा गार्ड ने गेट तक नहीं खोला. 

उन्होंने कहा कि वे बस कोविड-19 मरीजों को भर्ती करते हैं और किसी अन्य आपात मामले को नहीं.' वे फिर सेक्टर 10 के निगम अस्पताल गए लेकिन उन्हें भीतर नहीं जाने दिया गया. इसके बाद वे नेरूल के डी वाई पाटिल अस्पताल गए. सावंत की शोकसंतप्त पत्नी ने कहा, 'जब तक हम वहां पहुंचे, 30 मिनट बर्बाद हो चुके थे और उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.'



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com