फर्ज़ी कॉल सेंटर घोटाला : मास्टरमाइंड ने काली कमाई से प्रेमिका को 2.5 करोड़ की कार दी

फर्ज़ी कॉल सेंटर घोटाला : मास्टरमाइंड ने काली कमाई से प्रेमिका को 2.5 करोड़ की कार दी

मास्टरमाइंड सागर ठक्कर और उसकी बहन रीमा ठक्कर

खास बातें

  • फर्जी कॉल सेंटर मामले में FBI अधिकारी ठाणे पुलिस से मिलेंगे
  • इस रैकेट के आरोपी सागर और रीमा ठक्कर के दुबई में छुपने की आशंका है
  • सागर ने काली कमाई से 2.5 करोड़ की कार प्रेमिका को तोहफे में दी थी
मुंबई:

ठाणे में फर्जी कॉल सेंटर मामले में शुक्रवार को अमेरिकी जांच एजेंसी FBI ठाणे पुलिस आयुक्त से मिलेगी. ठाणे पुलिस के मुताबिक जबरन वसूली के मामले में पीड़ित अमेरिकी नागरिक हैं. FBI अधिकारी ठाणे पुलिस आयुक्त से मिलकर उनके पास आई शिकायतों की जानकारी साझा करेंगे. साथ ही ठाणे पुलिस अब तक की जांच की जानकारी उन्हें देगी. चूंकि मामला अंतरराष्ट्रीय है इसलिये दोनों ही एजेंसियां मिलकर जांच को आगे बढ़ा सकती है.

ठाणे पुलिस के मुताबिक फर्जी कॉल सेंटर रैकेट के सरगनाओं की तलाश में भी वह भी FBI की मदद लेंगे क्यूंकि उन्हें शक है कि फरार आरोपी और पूरे रैकेट का मास्टरमाइंड सागर ठक्कर उर्फ़ शैगी और उसकी बहन रीमा ठक्कर दोनों देश छोड़ कर जा चुके हैं. दोनों के दुबई में छिपे होने की खबर है. पता चला है कि सागर ने अपनी काली कमाई से 2.5 करोड़ की कार अपनी गर्ल फ्रेंड को जन्मदिन पर गिफ्ट किया था.
 

प्रतीकात्मक चित्र

इस बीच जांच में पता चला है कि कॉल सेंटरों से डरा धमकाकर जबरन वसूली के इस गोरखधंधे की रकम 5 हिस्सों में बंटती थी. इसमें सबसे बड़ा हिस्सा यानी 60 फीसदी सागर ठक्कर का होता था, जबकि 30 फीसदी हिस्सा अहमदाबाद के आईटी एक्सपर्ट पुष्पेन, अखिलेश और तपेश गुप्ता के बीच बराबर बराबर  बांटा जाता था. वहीं मीरारोड से पकड़े गए हैदर अली मंसूरी और अर्जुन वासुदेव  को पांच-पांच फीसदी हिस्सा मिलता था. सूत्रों के मुताबिक अहमदाबाद का रहने वाला सागर ठक्कर और तपेश गुप्ता सिर्फ जरूरत पड़ने पर ही मीरा रोड के कॉल सेंटरों में आते थे. ज्यादातर वो विदेश में ही रहते थे.

मामले में हवाला कारोबारियों से भी पूछताछ चल रही है. कुछ को हिरासत में भी लिया गया था लेकिन बाद में छोड़ दिया गया. पुलिस वित्तीय लेनेदन की जांच के लिए चार्टर्ड एकाउंटेंट और आई टी एक्सपर्ट की भी मदद ले रही है.
ठाणे पुलिस अब 72 लोगों को मामले में गिरफ्तार कर चुकी है. जबकि सागर ठक्कर उर्फ़ शैगी, सागर की बहन रीमा ठक्कर ,राहुल उर्फ़ कटप्पा ,नीरज जिगर थॉमस , प्रोसेस सिंह, उमेश कोठारी, मोहम्मद अली, राम सिंह, मुर्तुजा, तपस गुप्ता, जिमी पटनी, रचित जोशी, जय, दिनेश जैसे गोरख के प्रमुख सूत्रधार अब भी फरार हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com