NDTV Khabar

हलाल की कमाई के नाम पर ठगी, कर्नाटक की नेता मुंबई पुलिस की गिरफ्त में

वकील शान ए इलाही तुर्की ने बताया कि इसमें सिर्फ मुसलमान इनवेस्टरों का पैसा इन्वेस्ट किया गया है औऱ उन्हें अल्लाह और रसूल का हवाला देकर हलाल की कमाई देने की बात की गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
हलाल की कमाई के नाम पर ठगी, कर्नाटक की नेता मुंबई पुलिस की गिरफ्त में

मुंबई में महिला नेता को पुलिस ने लिया हिरासत में

मुंबई: कर्नाटक चुनाव में अचानक से वो सुर्खियों में आई. दिल्ली में बड़ी पत्रकारपरिषद लेकर कर्नाटक विधानसभा की सभी सीटों पर चुनाव लड़ने काऐलान कर सबको हैरान कर दिया था. ऑल इंडिया महिला एम्पावरमेंट की नेता नोव्हेरा शेख अब तकरीबन 500 करोड़ की ठगी के आरोप में सलाखों के पीछे हैं. सब्जी विक्रेता से 17 कंपनियों की डायरेक्टर बनीं नोव्हेरा शेख हजारों मुस्लिम परिवारों की उम्मीद थी. लेकिन अब सभी परेशान हैं क्योंकि कुछ लोगों की शिकायत पर नोव्हेरा अब पुलिस की गिरफ्त में हैं. आरोप है कि नोव्हेरा ने अपनी चिट फंड स्कीम के जरिये गरीबों की गाढ़ी कमाई डुबा दी है. निवेशकों के वकील शान ए इलाही तुर्की ने बताया कि इसमें सिर्फ मुसलमान इनवेस्टरों का पैसा इन्वेस्ट किया गया है औऱ उन्हें अल्लाह और रसूल का हवाला देकर हलाल की कमाई देने की बात की गई.

यह भी पढ़ें: लोन दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, दिल्ली पुलिस ने 3 को पकड़ा 

सलमानों में नियम है कि हलाल इनकम खा सकते हैं हराम की कमाई नहीं. नोव्हेरा ने बताया था कि पैसे ग्रुप ऑफ कंपनी में लगाए जाएंगे जो प्रॉफिट होगा वो हलाल इनकम दी जाएगी. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. निवेशकों की तरफ से ही अदालत में मौजूद दूसरे वकील आदिल खत्री के मुताबिक कई ऐसे निवेशक हैं जिनकी मृत्यु हो चुकी है लेकिन उनकी रकम वापस नहीं मिल पायी है. ऐसा नहीं है कि नोव्हेरा ने सभी के रुपये डुबा दिए. बहुत से ऐसे निवेशक हैं जिन्हें सालों से उनके निवेश पर मुनाफे की रकम मिलती आ रही थी लेकिन बताते हैं कि इसी साल मई महीने से गड़बड़ शुरू हुई. हैरानी की बात है कि बहुत से निवेशकों को अब भी लगता है कि इसमें नोव्हेरा की कोई गलती नहीं है.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें: विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी, दो आरोपी गिरफ्तार

धारावी के रहने वाले ज़ाकिर ने 12 लाख निवेश किये हैं लेकिन उन्हें पैसे डूबने का गम नहीं क्योंकि उनका कहना है कि रुपये लेते समय कंपनी की तरफ से बताया गया था कि व्यापार में लगाया जाएगा. नफा होगा तो नुकसान भी हो सकता है. अब नुकसान हुआ तो उसमे नोव्हेरा की क्या गलती? जबकि दूसरे निवेशक अब्दुल रहीम चांद का कहना है कि पैसे नहीं मिलने से बड़ा नुकसान हो रहा है. सभी को उनकी निवेश की गई रकम मिलनी चाहिए. पहले हैदराबाद पुलिस फिर मुंबई और अब ठाणे पुलिस की गिरफ्त में आयी नोव्हेरा का निवेश पर 30 से 40 फीसदी मुनाफे का जादू लोगों में इस कदर चला था कि देखते ही देखते कर्नाटक, आंध्रा, तेलंगाना और महाराष्ट्र में भी लोगों ने लाखों रुपयों का निवेश किया और कई सालों तक मुनाफा भी पाया. लेकिन अब जब कि नोव्हेरा सलाखों के पीछे पहुंच चुकी है तो इस कदर परेशान हैं कि पिछली सुनवाई के दौरान शिकायकर्ता के वकील पर ही हमलाकर दिया था. इसलिये मुंबई सत्र न्यायालय में गुरुवार को नोव्हेरा की पेशी पर कड़ा सुरक्षा बंदोबस्त रखा गया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement