NDTV Khabar

मुंबई : पोस्ट आफिस ने सर्विस टैक्स के लाखों रुपये जमा नहीं किए

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई : पोस्ट आफिस ने सर्विस टैक्स के लाखों रुपये जमा नहीं किए

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

आम आदमी के लिए सर्विस टैक्स भरना जरूरी है। ऐसा नहीं करने पर उसे जुर्माना या जेल, या फिर दोनों की सजा हो सकती है, लेकिन डाक विभाग में महाराष्ट्र सर्किल का एक हेड पोस्ट ऑफिस ऐसा है जिस पर लाखों का सर्विस टैक्स बकाया है। खबर इसलिए अहम है क्योंकि देश में डेढ़ लाख से ज्यादा पोस्ट ऑफिस हैं।

27 लाख रुपये बकाया
मुंबई के कालबादेवी हेड पोस्ट ऑफिस के तहत 10 सब ऑफिस हैं। हर पोस्ट ऑफिस की तरह यहां भी, टिकट, पोस्टकॉर्ड, रजिस्ट्री, स्पीड पोस्ट सबका कारोबार होता है। जिन सेवाओं पर सर्विस टैक्स लगता है, उस पर सर्विस टैक्स वसूला भी जाता है, लेकिन दस्तावेज बताते हैं कि 2010 से 2013 तक महकमे ने सर्विस टैक्स वसूलने के बावजूद उसे अदा नहीं किया। वर्ष 2014-15 में अदाएगी की रकम थी 80,08,473 रुपये, जबकि पोस्ट ऑफिस ने अदा किए, 53,34, 863 रुपये यानी कुल 26,73,610 रुपये बकाया।

लग सकता है 200 फीसदी जुर्माना
दरअसल 30 अप्रैल 2006 तक पोस्टल डिपार्टमेंट सर्विस टैक्स के दायरे में नहीं था, लेकिन 1 मई 2006 से पोस्ट ऑफिस में कुछ सेवाओं पर सर्विस टैक्स लगने लगा, मसलन स्पीड पोस्ट, इंश्योरेंस सर्विस, कमीशन पर चलने वाला कारोबार जैसे म्युचूअल फंड, बॉन्ड, पासपोर्ट एप्लीकेशन, बिजली-टेलिफोन बिल। अगर कोई आम आदमी सर्विस टैक्स न चुकाए तो उसे सजा हो सकती है, लेकिन सरकारी महकमों पर अलग कानून लागू है। वरिष्ठ वकील एचपी रनीना के मुताबिक "अगर कोई विभाग ऐसा नहीं करता है तो उस पर 200 फीसदी तक जुर्माना और ब्याज लग सकता है।"


टिप्पणियां

मंत्री और अधिकारी गंभीर नहीं
आम लोगों पर शिकंजा कसने को एजेंसियां तैयार रहती हैं, लेकिन अपने महकमों को लेकर मंत्री-अधिकारी कोई गंभीर नहीं दिखता। इस मुद्दे पर जब हमने संचार एवं सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद से बात की तो उन्होंने कहा " इस बारे में मुझे जानकारी नहीं है, लेकिन मैं जानकारी लूंगा। वैसे हमारा विभाग टैक्स अदा करने में बहुत अच्छा माना जाता है।'' इस मुद्दे पर महाराष्ट्र सर्किल के चीफ पोस्ट मास्टर जनरल अशोक कुमार दास ने कहा " मुझे खुशी होगी अगर आप अपना सूत्र बता दें। हम पता करके जरूरी कदम उठाएंगे।"

देशभर में कुल 1,54,866 पोस्ट ऑफिस हैं। 22 पोस्ट सर्किल में यह पोस्ट ऑफिस बंटे हुए हैं जिनके मुखिया होते हैं चीफ पोस्ट मास्टर जनरल। कालबादेवी की कहानी बताती है कि अगर एक सर्किल का एक एचपीओ सर्विस टैक्स नहीं भर रहा, तो देशभर में सर्विस टैक्स नहीं चुकाने की सूरत में यह रकम कितनी बड़ी हो सकती है।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement