NDTV Khabar

मुंबई भगदड़ : शवों के माथे पर नंबर चिपकाने के मामले ने तूल पकड़ा, डॉक्टर को पीटा

शिवसेना कार्यकर्ता लोगों के माथे पर नंबर लिखे जाने से नाराज़ था जिसके बाद उसने डॉक्टर के माथे पर नंबर लिखने की कोशिश की.

26 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई भगदड़ : शवों के माथे पर नंबर चिपकाने के मामले ने तूल पकड़ा, डॉक्टर को पीटा

मुंबई भगदड़ : शवों के माथे पर नंबर चिपकाने के मामले ने तूल पकड़ा, डॉक्टर को पीटा (फाइल फोटो)

मुंबई: मुंबई में एलफिन्सटन रेलवे पुल पर भगदड़ में घायल लोगों के पहचान को लेकर कथित तौर पर शिवसेना के दो कार्यकर्ताओं ने केईएम अस्पताल के डॉक्टर के साथ बदसलूकी की और पिटाई कर दी. शिवसेना कार्यकर्ता लोगों के माथे पर नंबर लिखे जाने से नाराज़ था जिसके बाद उसने डॉक्टर के माथे पर नंबर लिखने की कोशिश की. डॉक्टर की पिटाई तक कर दी. उसके बाद डॉक्टर ने इसकी शिकायत पुलिस में दर्ज कराई. पुलिस ने शिवसेना कार्यकर्ता के ख़िलाफ़ मामला दर्ज कर लिया.


सालों से ब्रिज बनाने की उठ रही थी मांग, पर रेलवे ने सिर्फ बदला 'एलफिंस्‍टन' का नाम

बता दें कि जिस वक्त एलफिन्सटन रोड स्टेशन हादसे में मारे गए अपने परिजनों के शवों की तलाश के लिए इधर उधर भटक रहे थे, उस समय अस्पताल प्रशासन के एक बोर्ड पर एक फोटो चस्पा करने के बाद बवाल खड़ा हो गया.  फोटो में मारे गए लोगों के शव दिखाए गए थे और इन शवों के माथे पर उनकी शिनाख्त के लिए नंबर चिपकाए गए थे. शवों को इस तरह से सार्वजनिक करने और उन पर नंबर चिपका देने को लेकर अस्पताल प्रशासन की जमकर आलोचना हुई. 

मुंबई के एलफिंस्टन रेलवे स्टेशन की भगदड़ देख याद आया इलाहाबाद हादसा, ऐसा था मंजर

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि यह घटना शनिवार शाम हुई जब शिवसेना के कार्यकर्ता माने जा रहे दोनों व्यक्तियों ने केईएम अस्पताल के फॉरेंसिक विज्ञान विभाग के प्रमुख की पिटाई कर दी. उन्होंने कहा, ‘दोनों शख्स डॉ. हरि पाठक के केबिन में घुस गए और उनकी पिटाई कर दी. एक आरोपी अपने साथ स्केच पेन लेकर आया था और उसने पाठक के माथे पर कोई नंबर लिखने की कोशिश की.’ अधिकारी के मुताबिक, दोनों आरोपियों के पांच अन्य सहयोगियों की तलाश जारी है.

VIDEO- एल्फिंस्टन हादसे में जान गंवाने वालों की संख्या 23 हुई

उन्होंने कहा, ‘हमने एक आरोपी के पास से शिवसेना का सदस्यता पहचान-पत्र बरामद किया है.’ पुलिस अधिकारी ने कहा कि आईपीसी की धारा 353, 323, 143, 145 और 149 के तहत दोनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. बता दें कि तस्वीर को लेकर मचे बवाल पर केईएम अस्पताल ने दावा किया था कि यह उपाय ‘अराजकता से बचने’ के लिये किया गया था. इसने बताया कि मृतकों की पहचान की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिये अस्पताल ने बोर्ड पर मृतकों की तस्वीरें लगायी थीं. 

इनपुट- एजेंसी


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement