मुंबई की पहली टेस्ट ट्यूब बेबी बनी मां

मुंबई की पहली टेस्ट ट्यूब बेबी बनी मां

हर्षा चावड़ा शाह अस्पताल में अपने नवजात बच्चे के साथ (पीटीआई फोटो)

मुुंबई:

करीब 29 वर्ष पहले मुंबई में पहली टेस्ट ट्यूब बेबी के रूप में जन्म लेकर सुखिर्यां बटोरने वाली हर्षा चावड़ा शाह का नाम एक बार फिर चर्चा में है, क्योंकि वह खुद मां बन गई हैं। हर्षा ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस से ठीक एक दिन पहले सोमवार को जसलोक अस्पताल में स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। ये भी संयोग है कि वर्ष 1986 में जिस डॉक्टर ने हर्षा की मां के प्रसव में सहयोग किया था, उसी डॉक्टर की देखरेख में हर्षा का प्रसव हुआ।

प्रसव कराने वाली डॉक्टर इंदिरा हिंदुजा ने बताया कि हर्षा के बच्चे का जन्म 'शिवरात्रि' के शुभ दिन पर हुआ है और वह स्वस्थ है। उसकी मां भी तेजी से ठीक हो रही है। उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि जच्चा और बच्चा दोनों को अगले चार से पांच दिन में अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

आईवीएफ तकनीक के जरिये अगस्त 1986 में हर्षा के जन्म के समय डॉक्टर हिंदुजा ने ही टीम का नेतृत्व किया था। केईएम अस्पताल में उसके जन्म के समय डॉक्टर कुसुम झावेरी ने भी डॉक्टर हिंदुजा का सहयोग किया था और हर्षा के बच्चे के जन्म में भी उन्होंने अहम योगदान दिया। उपनगरीय माटुंगा की रहने वाली हर्षा का जन्म उस समय सुखिर्यों में रहा था।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

डॉक्टर हिंदुजा ने कहा, हर्षा ने प्राकृतिक तरीके से गर्भधारण किया था। और अब यह तथ्य साबित हो चुका है कि टेस्ट ट्यूब से जन्म लेने वाले बच्चे भी सामान्य जीवन जी सकते हैं। उन्होंने कहा कि हर्षा ने 3.18 किलोग्राम के एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया है और इससे अच्छा क्या हो सकता है।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है)