NDTV Khabar

यूपी के बाद अब महाराष्ट्र में भी तेल चोरी को लेकर पेट्रोल पंपों के खिलाफ बड़े पैमाने पर कार्रवाई शुरू

ठाणे पुलिस अब तक 13 पेट्रोल पंपों पर चोरी पकड़ कर उसे सील कर चुकी है. इसमें नासिक, भिवंडी, रायगढ़, कल्याण और कसारा के पेट्रोल पंप शामिल हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी के बाद अब महाराष्ट्र में भी तेल चोरी को लेकर पेट्रोल पंपों के खिलाफ बड़े पैमाने पर कार्रवाई शुरू
मुंबई: उत्तर प्रदेश के बाद अब मुंबई समेत महाराष्ट्र के अन्य शहरों में भी तेल चोरी के खिलाफ मुहिम शुरू की गई है. ठाणे पुलिस ने तो धरपकड़ भी शुरू कर दी है. राज्य का माप तौल विभाग अपने अफसरों को प्रशिक्षित कर बड़े पैमाने पर कार्रवाई शुरू कर चुका है.

ठाणे पुलिस अब तक 13 पेट्रोल पंपों पर चोरी पकड़ कर उसे सील कर चुकी है. इसमें नासिक, भिवंडी, रायगढ़, कल्याण और कसारा के पेट्रोल पंप शामिल हैं. अभी तक की जांच में उत्तर प्रदेश की तरह ही पेट्रोल पंपों पर डिस्पेन्सर यूनिट के पल्सर में आईसी लगाकर छेड़छाड़ करने के अलावा कीपैड, कंट्रोल कार्ड और सॉफ्टवेयर में छेड़छाड़ कर तेल चोरी किए जाने की बात सामने आई है.

पुलिस की अब तक की छानबीन से पता चला है कि सबसे ज्यादा पेट्रोल और डीजल की चोरी भिवंडी के कोनगांव स्थित पेट्रोल पंप से होती थी. यहां पर प्रति 5 लीटर पेट्रोल-डीजल पर 700 मिलीलीटर की चोरी की जाती थी. ठाणे के वागले इस्टेट के पेट्रोल पंप से प्रति 5 लीटर में 200 मिली लीटर की चोरी होती थी. कसारा में प्रति 5 लीटर में डेढ़ सौ मिलीलीटर चोरी होती थी. पुलिस सूत्रों के मुताबिक इन सभी पेट्रोल पंपों पर उत्तर प्रदेश एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार किए गए विवेक शेट्टी और उमेश नाईक के बनाए गए और बेचे गए तकनीकी का इस्तेमाल कर चोरी का कारोबार हो रहा था.

महाराष्ट्र माप-तौल विभाग के कंट्रोलर अमिताभ गुप्ता ने बताया कि राज्य भर के पेट्रोल पंपों पर चिप के जरिये बड़े पैमाने पर तेल चोरी की ख़बरों के बाद जांच पड़ताल के लिए बड़ी तैयारी की गई है. इसके लिए दो अफसरों को दिल्ली भेजकर उन्हें ट्रेनिंग दी गई है और उनके जरिये विभाग के सभी 280 इंस्पेक्टरों को प्रशिक्षित किया जा रहा है. इसके अलावा तेल कंपनियों के अफसरों के साथ मिलकर एक समिति भी बनाई गई है. यह समिति तेल चोरी को रोकने के लिए जरूरी सुधार और नए तरीकों पर एक रिपोर्ट तैयार करेगी.

टिप्पणियां
इधर ठाणे में पुलिस की कार्रवाई से पेट्रोल पंप मालिकों में हड़कंप मच गया है. ठाणे, पालघर और रायगढ़ डीलर एसोसिएशन ने पुलिसिया कार्रवाई को नियम के खिलाफ बताया. एसोसिएशन के सचिव मयूर पारिख ने आरोप लगाया कि जांच पूरी होने के पहले ही उन्हें आरोपी बना दिया जा रहा है, इससे सभी दहशत में हैं. पंपों पर काम करने वाले मजदूर भी काम करने में डर रहे हैं.

ठाणे पुलिस आयुक्त परमवीर सिंह के मुताबिक जिस तरह से मामले उजागर हो रहे हैं, उससे अंदेशा जाहिर होता है कि राज्य के करीब दो हजार पेट्रोल पंपों पर चिप के जरिये चोरी हो रही है. राज्य के डीजीपी की तरफ से ठाणे पुलिस को राज्य में किसी भी स्थान के पेट्रोल पंप की जांच की विशेष परमिशन दी गई है. ठाणे पुलिस की कुल 6 टीमें पेट्रोल पंपों की छानबीन के लिए बनाई गई हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement