शिवसेना सांसद ने की रेलवे से लोकल ट्रेन पास धारकों को पैसा लौटाने की मांग

शिवसेना सांसद अनिल देसाई ने मांग की कि रेलवे मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) में लोकल ट्रेन पास धारकों के पैसे वापस कर दे या सेवाओं की बहाली पर उनकी यात्रा अवधि बढ़ा दे

शिवसेना सांसद ने की रेलवे से लोकल ट्रेन पास धारकों को पैसा लौटाने की मांग

शिवसेना सांसद ने मांग की कि रेलवे मुंबई महानगर क्षेत्र में लोकल ट्रेन पास धारकों के पैसे वापस कर दे.

खास बातें

  • शिवसेना सांसद अनिल देसाई ने मांग की
  • रेलवे एमएमआर में लोकल ट्रेन पास धारकों के पैसे वापस कर दे
  • या सेवाओं की बहाली पर उनकी यात्रा अवधि बढ़ा दे
मुंबई:

शिवसेना सांसद अनिल देसाई ने मांग की कि रेलवे मुंबई महानगर क्षेत्र (एमएमआर) में लोकल ट्रेन पास धारकों के पैसे वापस कर दे या सेवाओं की बहाली पर उनकी यात्रा अवधि बढ़ा दे. सोमवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल को लिखे पत्र में देसाई ने कहा कि मुंबई और उपनगरों में अधिकांश यात्री मासिक या त्रैमासिक रेलवे पास लेते हैं क्योंकि यह आर्थिक रूप से व्यवहार्य है. राज्यसभा सदस्य ने कहा कि ये यात्री मध्यम वर्ग के लोग है, जिनका बजट बहुत सीमित होता है. ऐसे यात्रियों की संख्या लाखों में है.

सांसद ने कहा कि उनमें से कई लोगों ने मार्च के अंतिम सप्ताह से ट्रेनों से यात्रा नहीं की है. उन्होंने मांग की कि रेल मंत्रालय या तो पैसा वापस कर दे या स्थानीय रेल सेवाओं को फिर से शुरू करने पर उनकी यात्रा की अवधि को आगे बढ़ा दे. मार्च में लॉकडाउन लागू होने के बाद उपनगरीय ट्रेन सेवाओं को निलंबित कर दिया गया था.

Newsbeep

वहीं बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) के आयुक्त आईएस चहल ने कहा कि मुंबई में कुछ प्रयोगशालाएं कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच के लिए नमूने की रिपोर्ट देने में 18 दिन लगाए हैं. पिछले महीने बीएमसी के आयुक्त के रूप में पदभार संभालने वाले वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने कहा कि उन्हें पता चला कि 4 अप्रैल को लिए गए नमूने की रिपोर्ट 22 अप्रैल को दी गई थी. चहल ने सोमवार को एक टीवी चैनल से कहा, 'कुछ प्रयोगशालाएं 18 दिन बाद रिपोर्ट सौंपकर गंभीर अपराध कर रही हैं. इसके लिए वे सजा पाने के हकदार हैं.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: मुंबई के अस्पतालों पर मरीजों की देखरेख में लापरवाही के लगे आरोप



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)