NDTV Khabar

'हंसी के पात्र' टिप्पणी का शिवसेना ने दिया जवाब, अब भी अच्छे दिन का इंतजार है

उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी केंद्र और महाराष्ट्र में भाजपा की अगुआई वाली सरकारों का हिस्सा है. शिवसेना ने महंगाई और पेट्रोल के बढ़ते दामों के खिलाफ प्रदर्शन किया था.

1.4K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
'हंसी के पात्र' टिप्पणी का शिवसेना ने दिया जवाब, अब भी अच्छे दिन का इंतजार है

शिवसेना ने साधा बीजेपी पर निशाना

खास बातें

  1. चंद्रकांत पाटिल ने कहा था-हंसी का पात्र
  2. शिवसेना बोली- अच्छे दिन का इंतजार
  3. गरीबों के मुद्दे सुलझाए बीजेपी सरकार
मुंबई: शिवसेना ने कहा कि लोग अब भी ‘अच्छे दिन’ का इंतजार कर रहे हैं जिसका वादा राजग सरकार ने किया था और उसने पार्टी के खिलाफ टिप्पणी करने के लिए महाराष्ट्र में भाजपा के एक मंत्री की आलोचना की. राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि शिवसेना जिस सरकार का हिस्सा है, उसी के खिलाफ सड़कों पर उतरकर ‘हंसी का पात्र’ बन गई है. उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी केंद्र और महाराष्ट्र में भाजपा की अगुआई वाली सरकारों का हिस्सा है. शिवसेना ने महंगाई और पेट्रोल के बढ़ते दामों के खिलाफ प्रदर्शन किया था. पार्टी ने अहम मुद्दों पर उसके प्रदर्शन की पाटिल द्वारा आलोचना किए जाने को खारिज कर दिया.

मोदी सरकार पर हमले लगातार जारी, अब शिवसेना बोली- विकास तो पागल हो गया

शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र सामना में एक संपादकीय में कहा, जिन्हें लगता है कि शिवसेना ने अपना मजाक बनाया है, वे सत्ता के नशे में चूर हैं हमारे पैर जमीन पर हैं. क्या आप (पाटिल) तब भी हम पर हंसोगे जब हम कहेंगे कि हर जगह आज लोग हंस रहे हैं क्योंकि सत्ता में आने के बाद भी अच्छे दिन कभी नहीं आए जिसका भाजपा ने वादा किया था. मराठी दैनिक अखबार में कहा गया है कि अगर भाजपा चाहती है कि शिवसेना प्रदर्शन करना बंद कर दें तो उन्हें उन मुद्दों को सुलझाना चाहिए जो गरीबों और किसानों की तकलीफों का सबब हैं.

PM मोदी ने स्वच्छता अभियान को लेकर तेंदुलकर और आदित्य ठाकरे की सराहना की

संपादकीय में कहा गया है, महंगाई नियंत्रित करें और पेट्रोल तथा डीजल के दामों में कटौती करें. फसल कर्ज माफी का मुद्दा भी अभी अधर में लटका हुआ है. किसानों को सरकार द्वारा लगाई गई शर्तों को पूरा करने में मुश्किलें आ रही है. पार्टी ने पाटिल को चेतावनी देने के लिए वरिष्ठ भाजपा नेता एकनाथ खडसे का हवाला दिया, जिन्होंने अपने खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद पिछले साल राज्य मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था.

शिवसेना ने संपादकीय में कहा, चंद्रकांत पाटिल के पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के साथ अच्छे संबंध हैं और वह राज्य मंत्रिमंडल के सदस्य भी हैं, वह मुख्यमंत्री के पद के भी दावेदार हैं लेकिन उन्हें इस पद के मजबूत दावेदार रहे एकनाथ खडसे के साथ जो हुआ उससे सीख लेनी चाहिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement