NDTV Khabar

शिवसेना को अब बीएमसी की तिजोरी की फिक्र, बीजेपी से लगाई मदद की गुहार

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शिवसेना को अब बीएमसी की तिजोरी की फिक्र, बीजेपी से लगाई मदद की गुहार

खास बातें

  1. GST लागू होने से BMC की तिजोरी में सालाना 7000 करोड़ रुपये की चपत लगेगी.
  2. इतनी कटौती BMC के रोजमर्रा के कामों पर प्रतिकूल असर डालेगी.
  3. शिवसेना की मांग, GST से जमा होने वाले पैसे से BMC को उसका हिस्सा मिले.
मुंबई:

पिछले दो दशक से ज्यादा समय से मुंबई महानगर पालिका की तिजोरी संभालने वाली शिवसेना को अब उसी तिज़ोरी की फिक्र सता रही है. नतीजतन, पार्टी ने इसके लिए बीजेपी की तरफ़ मदद की गुहार लगाई है.

शिवसेना नेता और महाराष्ट्र के उद्योगमंत्री सुभाष देसाई ने NDTV इंडिया से बातचीत में कहा कि, GST के लागू होने के बाद BMC की तिजोरी में सालाना 7 हजार करोड़ रुपये की चपत लगेगी. आमदनी में होने वाली इतनी कटौती BMC के रोजमर्रा के कामों पर प्रतिकूल असर डालेगी. ऐसे में शिवसेना की मांग है कि GST से जमा होने वाले पैसे से BMC को उसका हिस्सा मिले.

BMC देश की सबसे अमीर महानगर पालिका है. गत साल तक इसका बजट सालाना 37 हजार करोड़ रुपये था. जिसे इस साल करीब 26 हजार करोड़ तक नीचे लाया गया है. शिवसेना लगातार दो दशक से ज्यादा समय से इस महानगर पालिका की तिज़ोरी की चाबियां अपने कब्जे में रखे हुए है.

BMC को नुकसान से बचाने के लिए GST से हिस्सा मांगने वाली शिवसेना ने अपनी मांग को मजबूत बनाने के लिए कानूनी प्रावधान की मांग की है. देसाई बताते हैं कि कानूनन प्रावधान होने से पैसा किसी के कहने पर रूक न सकेगा और उसकी अदायगी सरकार की जिम्मेदारी रहेगी.


टिप्पणियां

दरअसल, शिवसेना को को डर सता रहा है कि कहीं बीजेपी ऐन चुनाव से पहले उसके कब्जे की महानगरपालिका की तिज़ोरी को कमजोर न कर दें. ऐसे में वह कानूनन प्रावधान पर दबाव बना रही है. इन बातों को लेकर शिवसेना के मंत्रियों ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाक़ात की.

महाराष्ट्र सरकार ने आगामी 17 मई से तीन दिनों के लिए GST संबंधी कानून को मंजूरी देने के लिए विशेष अधिवेशन बुलाया है.



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement