NDTV Khabar

मुंबई में पांव पसार रहा स्वाइन फ्लू, 6 महीने में 10 लोगों की मौत

बीएमसी के एक बयान के मुताबिक, इस साल शहर में स्वाइन फ्लू के 285 मामलों की पुष्टि हुई है. बयान में कहा गया है कि तापमान में उतार-चढ़ाव और हवा में नमी स्वाइन फ्लू के फैलने के लिए अनुकूल है. इसलिए लोगों को सलाह दी जाती है कि निवारण उपाय करें. स्वाइन फ्लू सांस संबंधी बीमारी है जिसमें व्यक्ति को बुखार, खांसी, गले में दर्द, नाक का बहना, शरीर में दर्द और थकावट के लक्षण हो सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई में पांव पसार रहा स्वाइन फ्लू, 6 महीने में 10 लोगों की मौत

मुंबई में संक्रमण के कारण एक जनवरी से 10 लोगों की मौत हो चुकी है.तस्वीर: प्रतीकात्मक

खास बातें

  1. स्वाइन फ्लू संक्रमण से 10 लोगों की मौत
  2. मानसून के शुरुआत के साथ स्वाइन फ्लू का बढ़ा खतरा
  3. स्वाइन फ्लू सांस संबंधी बीमारी है
मुंबई: मुंबई में स्वाइन फ्लू ने तीन और मरीजों की जान ले ली. इसी के साथ इस साल इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 10 हो गई है. नगर निकाय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि तीन मौतें पिछले हफ्ते वायु जनित बीमारी के कारण हुई. मुंबई में संक्रमण के कारण एक जनवरी से 10 लोगों की मौत हो चुकी है. उन्होंने कहा कि मानसून के शुरुआत के साथ ही बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) इस बीमार के प्रसार को रोकने पर ध्यान केंद्रित कर रही है. बीएमसी के एक बयान के मुताबिक, इस साल शहर में स्वाइन फ्लू के 285 मामलों की पुष्टि हुई है. बयान में कहा गया है कि तापमान में उतार-चढ़ाव और हवा में नमी स्वाइन फ्लू के फैलने के लिए अनुकूल है. इसलिए लोगों को सलाह दी जाती है कि निवारण उपाय करें. स्वाइन फ्लू सांस संबंधी बीमारी है जिसमें व्यक्ति को बुखार, खांसी, गले में दर्द, नाक का बहना, शरीर में दर्द और थकावट के लक्षण हो सकते हैं.

केरल में स्वाइन फ्लू से 23 लोगों की मौत

केरल में इस साल स्वाइन फ्लू से 23 लोगों की मौत हुई है. पिछले साल की तुलना में एच1एन1 संक्रमण के ज्यादा मामले दर्ज हुए हैं. स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि समूचे राज्य में स्वाइन फ्लू के 300-400 मामलों की पुष्टि हुई है और उनमें से 23 लोगों की मौत हुई है. एच1एन1 के लिए राज्य नोडल अधिकारी अमर फेट्टल ने कहा कि इस साल स्वाइन फ्लू के मामलों में सिर्फ केरल में बढ़ोतरी नहीं हुई है बल्कि समूचे दक्षिण भारत में हुई है.

टिप्पणियां
उन्होंने कहा कि घबराने की कोई बात नहीं है. फ्लू को फैलने से रोकने के लिए जरूरी कदम उठाए गए हैं. प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों सहित सभी सरकारी अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में दवाइयां हैं और इलाज के बाबत दिशानिर्देश जारी किए गए हैं. अमर ने कहा, 'इस साल प्रभावित लोगों की गले की राल के 27 फीसदी नमूनों का परीक्षण एच1एन1 के लिए पॉजिटिव पाया गया है.'

इनपुट: भाषा
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement