NDTV Khabar

दिल्ली के ठग, मुंबई में स्कूल... ठगी सिखाने के लिए लेते थे 50,000 रुपये फीस

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली के ठग, मुंबई में स्कूल... ठगी सिखाने के लिए लेते थे 50,000 रुपये फीस

पुलिस के हत्थे चढ़े दोनों शातिर ठग

खास बातें

  1. दिल्ली से मुंबई आकर ठगी की वारदात को अंजाम देते थे दोनों
  2. सीसीटीवी में कैद तस्वीरों के आधार पर पुलिस ने पकड़ा
  3. दूसरों को ठगी के तरकीब सिखाने के लिए मोटे पैसे लेते थे
मुंबई:

मुंबई से सटे मीरा रोड के नया नगर पुलिस ने दो ऐसे शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है, जो दिल्ली से मुंबई की हवाई यात्रा सिर्फ एटीएम कार्ड से ठगी के लिए करते थे. यही नहीं पुलिस के मुताबिक ठग विद्या सिखाने के लिए ये अपने छात्रों से मोटी फीस भी वसूलते थे. फिलहाल ठगी के ये दोनों 'मास्टरजी' पुलिस के हत्थे चढ़ चुके हैं.

एटीएम के अंदर आना, दूसरों को मदद के नाम पर बरगलाना और फिर उनके पैसों पर हाथ साफ करना. पुलिस के मुताबिक ठगी के लिए ऐसा ही कुछ तरीक़ा था 22 साल के सोनू कुमार श्याम सिंह और 32 साल के गगन कुमार निर्मल कुमार का. दिल्ली से मुंबई आने का इनका एक ही मकसद होता था- ठगी.

इनका तरीका बेहद शातिराना था. पहले ऐसे एटीएम को चुनना, जहां सिक्योरिटी गार्ड न हो, फिर मौका देखकर एटीएम मशीन के एक बटन और बटन बोर्ड के बीच के हल्के अंतर में प्लास्टिक की छोटी और पतली चिप घुसा देना, जिससे मशीन तो चालू रहती थी, लेकिन एटीएम काम नहीं करता था. बस पीछे खड़े होकर वो ग्राहक का पिन नंबर याद कर लेते. डेटा मशीन में कुछ मिनटों तक रहता था. गिरोह का दूसरा सदस्य मदद के नाम पर ग्राहक को दूसरी मशीन पर ले जाता, तब तक पहला शख्स एटीएम से पैसे निकाल लेता था.

टिप्पणियां

आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद सब इंस्पेक्टर भैरव जाधव ने कहा कि एटीएम कार्ड मशीन से बाहर निकालने के दो से ढाई मिनट तक कार्ड का डेटा उसमें बना रहता है. आरोपी वारदात को अंजाम देकर वहां से रफूचक्कर हो जाते थे. लेकिन इन दोनों आरोपियों की हर हरकत को एटीएम में लगे सीसीटीवी कैमरों ने कैद कर लिया था. उसी के आधार पर नया नगर पुलिस इन आरोपियों की तलाश में जुटी थी. ये लोग घटना को अंजाम देने के बाद दिल्ली फरार हो जाते थे, इसलिए पुलिस इन तक नहीं पहुंच पा रही थी. इसके अलावा ये दोनों आरोपी हाथ की सफाई से मदद करने के बहाने लोगों का एटीएम कार्ड भी बदल देते और बाद में उसमें से भी पैसे निकाल लेते थे.


नया नगर पुलिस ने दोनों को पकड़ने के लिए स्पेशल टीम बनाई. दोनों एक एटीएम के बाहर संदिग्ध हालत में गिरफ्तार किए गए. अकेले नया नगर पुलिस स्टेशन की ही हद में इन दोनों आरोपियों पर आधा दर्जन वारदात से लाखों की लूट को अंजाम देने की बात सामने आ रही है. पुलिस की मानें तो पकड़े गए आरोपी दूसरों को इस तरकीब को सिखाने के लिए उनसे 30 से 50 हजार रुपये लेते थे.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement