Khabar logo, NDTV Khabar, NDTV India

पुलिस कर्मी अप्रशिक्षित, मुंबई में यातायात नियम तोड़ने पर कटेगा ई-चालान

ईमेल करें
टिप्पणियां
पुलिस कर्मी अप्रशिक्षित, मुंबई में यातायात नियम तोड़ने पर कटेगा ई-चालान

प्रतीकात्मक फोटो

मुंबई: ट्रैफिक के नियम तोड़ने पर मुंबई में जेब से पैसे नहीं कार्ड निकालना होगा। शहर का ट्रैफिक पुलिस विभाग अब क्रेडिट या डेबिट कार्ड से जुर्माना वसूल करेगा। फिलहाल सिग्नल तोड़ना, हेलमेट न पहनना जैसे गुनाहों के लिए 100 रुपये का जुर्माना है। शराब पीकर गाड़ी चलाने के जुर्म में सबसे ज्यादा 2 हजार रुपए का जुर्माना वसूला जा रहा है।

महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने NDTV इंडिया से कहा कि राज्य के गृह विभाग से यह फैसला अमल में लाया जा रहा है। इससे डिपार्टमेंट को लगातार ट्रैफिक के नियम तोड़ने वालों की सूचना मिलेगी। साथ ही पुलिस की कार्यक्षमता भी बढ़ेगी।

जनवरी की बारह तारीख से लागू होने जा रहे नियमों के तहत यह व्यवस्थाएं होंगी-
  • वाहन चालक के पास मौजूद कार्ड में पैसे न होने पर या फिर कोई कार्ड ही न होने पर 15 दिन की मोहलत मिलेगी।
  • 15 दिन के अंदर NEFT के जरिए पुलिस के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के खाते में गुनाहगार को जुर्माना भरना होगा।
  • ऐसा न करने पर 16वें दिन से हर दिन बकाया राशि पर 10 रुपये जुर्माना बढ़ता जाएगा।
  • बिना जुर्माना भरे दुबारा ट्रैफिक का नियम तोड़ते पकड़े गए तो लाइसेंस जब्त होगा।

पहले पुलिस को ट्रेनिंग हो, लोगों को जानकारी हो
वैसे तेजी से ई-चालान की योजना लागू करने चली मुंबई पुलिस के सामने चुनौतियां कई हैं। वेस्टर्न इण्डिया ऑटोमोबाइल एसोसिएशन संस्था के कार्यकारी अध्यक्ष नितिन दोसा कहते हैं कि ऐसी योजना लाने से महिना भर पहले उसकी सूचना लोगों तक पहुंचाई जानी चाहिए। सड़क पर चालान काटने वाले पुलिस कर्मियों की समुचित ट्रेनिंग होनी चाहिए। यहां तो ई-चालान की मशीनें ही सीधे कार्यक्रम में पुलिस वालों को दी जा रही हैं। तो योजना का बेहतर अमल कैसे संभव होगा?

सड़कों पर प्रतिदिन 8 लाख वाहन
मुंबई की सड़कों पर रोजाना करीब 8 लाख वाहन गुजरते हैं। इसमें बाइकर्स सबसे अधिक करीब 6 लाख हैं और उन्हीं से ट्रैफिक नियमों का सबसे ज्यादा उल्लंघन होता देखा जा रहा है। WIAA ने इससे पहले मुंबई ट्रैफिक विभाग की मदद से ट्रैफिक के नियम तोड़ने वालों को 2 से 4 घंटे काउंसिलिंग क्लास में बिठाया था। क्योंकि जुर्माने से गुनाहगार को कोई फर्क नहीं पड़ता।

ई-चालान का सफल प्रयोग इन दिनों बेंगलुरु में हो रहा है, जहां चालान मोबाइल फोन से जुड़ा है। इसके अलावा तेलंगना और तमिलनाडु में भी इस प्रयोग की बात कही गई है।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement