Hindi news home page

दुनिया की सबसे भारी महिला का वजन भारत आने के बाद से 140 किग्रा कम हुआ

ईमेल करें
टिप्पणियां
दुनिया की सबसे भारी महिला का वजन भारत आने के बाद से 140 किग्रा कम हुआ

मुंबई के सैफी अस्‍पताल में इमान अहमद का इलाज हो रहा है

मुंबई: वजन घटाने के इलाज के लिए भारत आने के बाद से दुनिया की सबसे भारी महिला मानी जा रही मिस्र निवासी इमान अहमद का वजन 140 किलोग्राम कम हुआ है. चिकित्सकों ने शनिवार को यह जानकारी दी. उनका इलाज सैफी अस्पताल में डॉ. मुफज्जल लकड़ावाला के नेतृत्व वाली एक टीम कर रही है. अस्पताल ने एक बयान में कहा कि इमान का वजन अभी 358 किग्रा है. वह 11 फरवरी को मुंबई आई थी. उस वक्त उनका वजन 500 किग्रा था.

बिस्तर से उठ नहीं पाती हैं इमान
बता दें, 36 साल की इमान अहमद अब्दुलाती 25 साल से अलेक्जेंड्रिया स्थित अपने घर से बाहर नहीं निकली है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक वह अपने भीमकाय आकार की वजह से बिस्तर से उठने या हिलने-डुलने में भी असमर्थ है. भोजन करने, कपड़े बदलने और साफ-सफाई समेत अन्य दैनिक कार्यों के लिए वह अपनी मां और बहन चायमा अब्दुलाती पर निर्भर है.

जन्म के समय वजन 5 किलोग्राम था
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जन्म के समय ही उनका वजन असामान्य रूप से 5 किलोग्राम था. डॉक्टरों ने उसे एलिफेंटाइसिस से पीड़ित पाया. यह एक परजीवी संक्रमण है, जिसमें पिंडलियों में काफी सूजन आ जाती है. डॉक्टरों ने यह भी बताया कि ग्लैंड्स (ग्रंथियों) में गड़बड़ी के चलते उसके शरीर में जरूरत से ज्यादा पानी जमा हो जाता है.

बचपन में हाथों के सहारे घूम-फिर लेती थी
इमान जब छोटी थी, तब वह अपने हाथों के सहारे इधर-उधर घूम-फिर लेती थी, लेकिन 11 साल की उम्र होते-होते वह अपने भारी वजन के कारण खड़ी नहीं हो पाती थी और घर में सिर्फ खिसक पाने में सक्षम रही. सेरेब्रल स्ट्रोक होने के बाद उसे प्राइमरी स्कूल छोड़ना पड़ा और वह पूरी तरह से बिस्तर पर रहने लगी. उसके बाद से इमान बिल्कुल शिथिल और कुछ भी कर पाने में असमर्थ होकर सिर्फ अपने घर में ही पड़ी रहती हैं. अब उनका इलाज मुंबई में शुरू हो चुका है.

अस्पताल ने इमान के लिए खासतौर का कमरा
इमान के इलाज का नेतृत्‍व कर रहे डॉ. मुफज्जल लकड़ावाला ने बताया था कि सैफी अस्पताल ने इमान के लिए खासतौर पर एक कमरा तैयार किया है. उन्होंने कहा कि इमान की समस्या सिर्फ वजन है. वह पिछले दो दशक से ज्यादा वक्त से वजन के कारण बिस्तर पर हैं और कहीं आने-जाने में असमर्थ हैं. वह अपने वजन की वजह से कई चिकित्सक जटिलताओं से भी जूझ रही हैं जो सालों से बरकरार हैं. यह उनके मामले को बहुत जटिल और उच्च जोखिम वाला बनाता है.

सामान्य स्थिति आने में कुछ साल लग सकते हैं
डॉक्टर लकड़ावाला ने कहा कि इमान की जिंदगी में सामान्य स्थिति आने में कुछ साल लग सकते हैं. उनका इलाज कर रहे डॉक्टर उन्हें उनके पैरों पर खड़ा कराने और मौजूदा बीमारियों को ठीक करने के लिए प्रतिबद्ध है.

(इनपुट भाषा से...)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement