NDTV Khabar

नोएडा प्रशासन ने अधिक फीस वसूलने को लेकर 17 स्कूलों पर लगाया एक लाख रुपये तक का जुर्माना

दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) प्रशासन ने विद्यार्थियों से अत्यधिक फीस वसूलने को लेकर 17 प्राइवेट स्कूलों पर 8.30 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नोएडा प्रशासन ने अधिक फीस वसूलने को लेकर 17 स्कूलों पर लगाया एक लाख रुपये तक का जुर्माना

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नोएडा:

दिल्ली से सटे गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) प्रशासन ने विद्यार्थियों से अत्यधिक फीस वसूलने को लेकर 17 प्राइवेट स्कूलों पर 8.30 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी. गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन ने एक बयान में कहा कि एक लाख रुपये का सबसे अधिक जुर्माना नोएडा के जागरण पब्लिक स्कूल पर लगाया गया है. बयान में बताया गया कि आठ स्कूलों पर, प्रत्येक पर 75,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है. इनमें सीएलएम पब्लिक स्कूल, गगन पब्लिक स्कूल, ग्रेटर हाइट्स पब्लिक स्कूल, धर्म पब्लिक स्कूल (ये चारों स्कूल ग्रेटर नोएडा में हैं), ग्रैड्स इंटरनेशनल स्कूल, श्री रवि शंकर विद्या मंदिर, कार्ल हूबर (ये तीनों स्कूल नोएडा के हैं) और भंगेल के एसडी पब्लिक स्कूल शामिल हैं. 

टिप्पणियां

प्राइम टाइम इंट्रो : सीबीएसई के पास सभी स्कूलों की निगरानी के लिए क्या कोई तंत्र है?


इसमें कहा गया, “स्व-वित्तपोषित स्कूलों के लिए उत्तर प्रदेश शुल्क नियमन कानून 2018 के प्रावधानों के तहत जिला शुल्क नियमन समिति के एक निर्णय के बाद 17 स्कूलों पर कुल 8.30 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है”. प्रशासन ने बताया कि नोएडा के विश्व भारती पब्लिक स्कूल पर 50,000 रुपये का, जबकि रामाज्ञा पब्लिक स्कूल पर 20,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है. प्रशासन के मुताबिक छह स्कूलों - रॉकवुड, जी डी गोयनका, मॉडर्न पब्लिक स्कूल, एसेंट इंटरनेशनल, एपीजे इंटरनेशनल और रेयान इंटरनेशनल पर 10,000-10,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है. गौरतलब है कि हजारों बच्चों के परिजनों द्वारा निजी स्कूलों में अत्याधिक फीस वसूले जाने की शिकायतों के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने सितंबर 2018 में सभी जिलों से ऐसे मामलों का संज्ञान लेने के लिए शुल्क नियमन समिति गठित करने का निर्देश जारी किया था. 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement