NDTV Khabar

मेघालय में कांग्रेस को जोरदार झटका, पार्टी के 5 विधायकों ने छोड़ा 'हाथ' का साथ

कांग्रेस के पांच विधायकों के अलावा यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी के विधायक रेमिंगटन पिंग्रोप और निर्दलीय होपफुल बमन और स्टीफेंसन मुखिम ने भी विधानसभा से इस्तीफा दे दिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मेघालय में कांग्रेस को जोरदार झटका, पार्टी के 5 विधायकों ने छोड़ा 'हाथ' का साथ

कांग्रेस का चिन्ह (फाइल फोटो)

शिलांग: अगले साल मेघालय में होने वाले विधानसभा चुनाव से कांग्रेस को जोरदार झटका लगा है. मेघालय में कांग्रेस के 5 विधायकों समेत प्रदेश विधानसभा के कुल आठ सदस्यों ने शुक्रवार को इस्तीफा दिया. कायास लगाए जा रहे हैं कि सभी विधायकों ने विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में शामिल नेशनल पीपल्स पार्टी (एनपीपी) के टिकट पर चुनाव लड़ने के मकसद से इस्तीफा दिया है. 

इस्तीफा देने वाले कांग्रेस विधायकों में पूर्व उपमुख्यमंत्री रॉवेल लिंगदोह, पूर्व कैबिनेट मंत्री प्रिसटन तिनसांग, कोमिंग वाईमबन, स्नियावभलंग धर और एनजीतलंग धर शामिल हैं. इन विधायकों ने विधानसभा के आयुक्त व सचिव एंड्रयू साइमन को अपना इस्तीफा सौंपा. 

यह भी पढ़ें -  सुशील मोदी का राहुल पर निशाना, कहा- 4 राज्यों में सिमटी कांग्रेस अब शून्य पर होगी आउट

कांग्रेस के पांच विधायकों के अलावा यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी के विधायक रेमिंगटन पिंग्रोप और निर्दलीय होपफुल बमन और स्टीफेंसन मुखिम ने भी विधानसभा से इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले कांग्रेस विधायक पी. एन. सियेम विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर नवगठित पार्टी पीपल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट में शामिल हुए थे. सियेम खासी हिल्स ऑटोनोमस डिस्ट्रिक्ट काउंसिल के मुख्य कार्यकारी सदस्य भी हैं. 

वहीं, बुजुर्ग कांग्रेस विधायक और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष व चार बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे डी. डी. लपांग, मौजूदा उप मुख्यमंत्री रॉट्रे क्रिस्टोफर ललू और स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री रोशन वर्जरी को चुनावी राजनीति से अवकाश देने की घोषणा की गई है. 

यह भी पढ़ें - नरेंद्र मोदी की बीजेपी ने तोड़ दिया इंदिरा गांधी की कांग्रेस का रिकॉर्ड, 19 राज्यों में है अब सत्ता

तिनसांग ने कहा, "हमने (कांग्रेस विधायक) इस्तीफा दिया है क्योंकि प्रदेश का नेतृत्व (मुख्यमंत्री मुकुल संगमा) लोगों की की आकांक्षाओं को पूरा करने में विफल साबित हुई. साथ ही हम मुख्यमंत्री की कार्य पद्धति से भी खुश नहीं थे."

टिप्पणियां
हालांकि मुख्यमंत्री पर 'एकल-वर्चस्व' का रवैया अपनाने का आरोप लगाने के बावजूद तिंसांग ने माना कि मुकुल अच्छे नेता हैं. वह साहसी भी हैं और वह जो कहते थे वह हमें करना पड़ता था. (इनपुट एजेंसी से)

VIDEO: पशु खरीद बिक्री पर रोक के खिलाफ मेघालय विधानसभा में प्रस्ताव


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement