Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

मिजोरम में चुनाव में जीत के बाद सत्ता के लिए साथ आई बीजेपी और कांग्रेस

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने मिजोरम के चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) के लिए हुए चुनाव में सत्ता के लिए एक दूसरे का हाथ थाम लिया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मिजोरम में चुनाव में जीत के बाद सत्ता के लिए साथ आई बीजेपी और कांग्रेस

सत्ता के लिए साथ आए कांग्रेस और बीजेपी

खास बातें

  1. बीजेपी और कांग्रेस ने अलग अलग चुनाव लड़ा
  2. चुनाव के बाद दोनों दलों के नेता साथ आए
  3. कांग्रेस ने कम सीटों वाली बीजेपी को दिया अध्यक्ष पद
गोवाहाटी:

उत्तर-पूर्व राज्य मिजोरम में स्थानीय निकाय में सत्ता के लिए BJP और कांग्रेस ने गठबंधन किया है. इसके बावजूद दोनों ही दल सत्ता के करीब पहुंच कर भी चुनाव हार गए. विपक्षी गठबंधन ने सत्ता हथिया ली. बता दें कि भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने मिजोरम के चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) के लिए हुए चुनाव में सत्ता के लिए एक दूसरे का हाथ थाम लिया है. दरअसल 20 सदस्यीय सीएडीसी के चुनाव में कांग्रेस ने छह और बीजेपी ने पांच सीटों पर जीत हासिल की थी. वहीं मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने सबसे अधिक आठ सीटों पर कब्जा जमाया था.

ऐसे में सत्ता के लिए जरूरी 11 सीट हासिल करने में सभी पार्टी दूर रहीं. न तो कांग्रेस और न ही बीजेपी को बहुमत मिला. ऐसे में दोनों ही पार्टियों के स्थानीय नेताओं ने चुनाव के बाद गठबंधन कर परिषद पर कब्जा जमा लिया. सीएडीसी के लिए 20 अप्रैल को वोट डाले गये थे.

स्थानीय नेताओं के इस अप्रत्याशित कदम से राज्य बीजेपी नाराज है. वहीं, कांग्रेस ने कहा कि दोनों दलों के स्थानीय नेताओं ने समझौता किया है और चुनाव बाद यह गठबंधन बना. उन्होंने आगे कहा कि इस गठबंधन से राज्य के विधानसभा चुनावों से कोई संबंध नहीं है.

amit shah

टिप्पणियां

बता दें कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को चुनाव परिणाम के बाद कहा था कि वहां पर मिजोरम नेशनल फ्रंट और बीजेपी को बहुमत मिला है और दोनों मिलकर सत्ता चलाएंगे. लेकिन बाद में चुनाव परिणाम के बाद पार्टी के स्थानीय नेताओं के पाला बदलने की खबरें आईं. मिजोरम उत्तर पूर्व का एकमात्र ऐसा राज्य है जहां पर कांग्रेस की सरकार है. बीजेपी पूरी तरह इस प्रयास में है कि जब इस साल के अंत तक विधानसभा के चुनाव होंगे तब यहां पर कांग्रेस दोबारा सत्ता में वापस न आए.

bjp

बताया जा रहा है कि कांग्रेस ने कम सीटें जीतने वाली बीजेपी को काउंसिल का अध्यक्ष पद दिया है जबकि ज्यादा सीटें जीतने के बाद भी उपाध्यक्ष का पद अपने पास रखा है.

खबर के मुताबिक गठबंधन फॉर्मूले के तहत बीजेपी के संती जीबान चकमा चकमा स्वायत्त जिला परिषद के नेता होंगे वहीं कांग्रेस के बुद्ध लीला चकमा सदन के उपनेता होंगे. सीएडीसी एक स्वायत्त परिषद है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली चुनाव में 'वोटरों' तक पहुंचने के लिए BJP ने अपनाई थी यह तकनीक, शेयर किए डीपफेक VIDEO

Advertisement