NDTV Khabar

झारखंड : अस्पताल ने एंबुलेंस देने से किया इनकार, कंधों पर ले जाना पड़ा शव, दो डॉक्टर निलंबित

मृतक के परिजनों ने अस्पताल से शव को घर तक ले जाने के लिए एंबुलेंस मुहैया कराने की मांग की, लेकिन इनकार कर दिया गया.

31 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
झारखंड : अस्पताल ने एंबुलेंस देने से किया इनकार, कंधों पर ले जाना पड़ा शव, दो डॉक्टर निलंबित

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. झारखंड में बदहाल हो चुकी स्वास्थ्य व्यवस्था का नमूना तब सामने आया
  2. मृतक के परिजनों को अस्पताल ने एंबुलेंस मुहैया कराने से इनकार किया
  3. प्रशासन ने आनन-फानन में दो चिकित्सकों को निलंबित किया
रांची: झारखंड में बदहाल हो चुकी स्वास्थ्य व्यवस्था का नमूना तब सामने आया, जब प्रदेश के चतरा जिले में अस्पताल द्वारा एंबुलेंस देने से इनकार करने पर एक व्यक्ति तथा उसकी भाभी को अपने परिजन के शव को खुद अपने कंधों पर लादकर घर ले जाना पड़ा. सोमवार को मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, चतरा जिले के सिदपा गांव में राजेंद्र उरांव को सांप ने काट लिया था. उसे इलाज के लिए चतरा जिला सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां रविवार को उसने दम तोड़ दिया. स्थानीय लोगों का कहना है कि वक्त पर इलाज शुरू नहीं किया गया, जिसके कारण उसकी मौत हो गई.

मृतक के परिजनों ने अस्पताल से शव को घर तक ले जाने के लिए एंबुलेंस मुहैया कराने की मांग की, लेकिन इनकार कर दिया गया. इसके बाद मृतक के भाई तथा भाभी दोनों मिलकर हाथों से पकड़कर शव को घर ले गए. इस घटना को देखकर स्थानीय लोगों की आंखों में आंसू आ गए. उल्लेखनीय है कि कुछ महीने पहले चिकित्सा सुविधा से इनकार करने के बाद एक महिला को सड़क के किनारे बच्चे को जन्म देना पड़ा था.

दो डॉक्टर निलंबित
उधर, मामला मीडिया में आने के बाद प्रशासन की नींद खुली. आनन-फानन में दो चिकित्सकों को निलंबित किया गया. इस मामले में जांच के आदेश भी दिए गए कि आखिर क्या कारण था कि एंबुलेंस अस्पताल द्वारा नहीं उपलब्ध कराई गई. चतरा जिला प्रशासन ने सरदार हॉस्पिटल के व्यवस्थापक निशांत कुमार और उनके सहायक कृष्णा कुमार को निलंबित कर दिया है. 

कई मामले आ चुके हैं सामने
केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा बहुप्रचारित एम्बुलेंस सेवा के बावजूद हाल के दिनों में पात्रों को इसका लाभ नहीं मिलने की घटनाएं सामने आयी हैं. पिछले महीने कौशाम्बी में कथित रूप में एम्बुलेंस नहीं मिलने पर एक व्यक्ति को सात साल की अपनी रिश्तेदार बच्ची का शव साइकिल से ले जाना पड़ा था.
(इनपुट आईएएनएस एजेंसी भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement