बीकानेर में दलित नाबालिग लड़की से रेप और हत्या मामले में नया मोड़

बीकानेर में दलित नाबालिग लड़की से रेप और हत्या मामले में नया मोड़

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

जयपुर:

बीकानेर में हुई एक दलित नाबालिग लड़की की रहस्यमय हत्या ने अब एक नया मोड़ ले लिया है। जैन आदर्श टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज में एक 17 साल की  लड़की की बलात्कार के बाद मौत आत्महत्या थी या हत्या इसपर लेकर विवाद खड़ा हो गया है।

28 मार्च की रात को यहां हॉस्टल वार्डन और प्रिंसिपल ने 17 साल की लड़की को पीटी टीचर के कमरे में देखा। लेकिन उनपर आरोप है कि मामला को दबने के लिए उन्होंने लड़की और टीचर विजेंद्र से माफ़ीनामा लिखवा लिया। दूसरे दिन सुबह लड़की 7 बजे हॉस्टल से गायब हो गयी और 4 घंटे बाद उसकी लाश स्कूल के पानी की टंकी से बरामद हुई। पुलिस ने पहले तो बलात्कार और हत्या का मामला पीटी टीचर के खिलाफ दर्ज किया लेकिन दूसरे पोस्टमार्टम के बाद इससे आत्महत्या में बदल दिया, जिसको लेकर लड़की के परिवार वालों को आपत्ति है।

लड़की के पिता ने कहा, "पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट आई है जो मैंने ली। उसमें तो लिखा है कि पानी में डूबने से मौत नहीं हुई। दूसरे ओपीनियन में बता दिया डूबने से हुई तो दुबारा ओपीनियन किसने मांगी, हमने तो मांगा नहीं, मुझे पुलिस पर भरोसा नहीं है, हम सीबीआई से जांच की मांग करते हैं।'

मानव अधिकार संगठन का भी आरोप है कि पुलिस अहम सुराग को नज़र अंदाज़ कर रही है। लड़की की सहेलियों ने उनकी एक टीम को बताया है कि जब लड़की सुबह 7 बजे गायब हुई तो ढूंढते हुए लड़कियों ने पानी के टंकी का ढक्कन खोल था, उसमें उस समय सुबह सात बजे लड़की का शव नहीं नज़र आया था।

मानवाधिकार संगठन पीयूसीएम से जुड़ी कविता श्रीवास्‍तव ने कहा, "मेरे को कोई धक्का दे तो मैं डूब सकती हूं, मैं अंदर कूद जाऊं तो मैं डूब सकती हूं, तो ये हत्या की सम्भावना से क्यों इंकार कर रहे हैं?"

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

लेकिन पुलिस ने अब हत्या की धारा हटा कर इससे आत्माहत्या बता दिया है। बीकानेर IG गिरिराज मीणा ने बताया कि 'पहला पोस्टमॉर्टम साफ़ नहीं होने के कारण दूसरी रिपोर्ट मंगवाई गयी। पोस्टमार्टम में डूबने के पुष्टि हो गयी है और FSL से रेप की पुष्टि हो गयी है।'

लेकिन मृतिका दलित मेघवाल समुदाय से है जो पश्चिमी राजस्थान में राजनीतिक रूप से प्रभावी है और ये मामला अब राजनीतिक मोड़ भी लेता दिखई दे रहा है। कई दिन से यहां का दलित मेघवाल समाज न्याय की मांग को लेकर आंदोलन कर रहा है। इनका दुःख दर्द पूछने वहां राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट भी गए और राहुल गांधी ने समर्थन में ट्वीट भी किया है।