Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस कारण दीपा करमाकर सहित शीर्ष जिम्नास्टों का एशियाई चैंपियनशिप में भाग लेना मुश्किल

इस कारण दीपा करमाकर सहित शीर्ष जिम्नास्टों का एशियाई चैंपियनशिप में भाग लेना मुश्किल

पिछले दिनों दीपा कर्माकर वोट डालने के बाद

नई दिल्ली:

दीपा करमाकर ओर राकेश पात्रा सहित भारत के चोटी के जिम्नास्ट का एशियाई चैंपियनशिप में भाग लेने पर संदेह के बादल मंडराने लगे हैं क्योंकि भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) ने 17 मई को चयन ट्रॉयल करवाने के लिए कहा है. साइ ने मंगलवार की रात को घोषणा की कि मंगोलिया में 19 से 22 जून के बीच होने वाले एशियाई चैंपियनशिप में भाग लेने वाली टीम का चयन करने के लिए 17 मई को आईजी स्टेडियम में चयन ट्रायल कराया जाएगा.

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: इस बार विजेता को मिलेगी अभी तक की सबसे बड़ी और मोटी रकम, आईसीसी ने किया ऐलान

भारतीय जिम्नास्टिक महासंघ (जीएफआई) ने कहा कि चयन ट्रायल खुला नहीं होगा और यह केवल आठ - दस जिम्नास्ट तक सीमित हैं जिन्हें साइ ने 12 और 13 अप्रैल को ट्रॉयल के दौरान राष्ट्रीय कोचिंग शिविर के लिए चुना था.  दीपा और पात्रा के अलावा भारत के अन्य चोटी के जिम्नास्टों जैसे अरुणा रेड्डी, सिद्धार्थ वर्मा और आदित्य राणा को यहां तक अपना कौशल दिखाने का मौका भी नहीं दिया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: कुछ ऐसे आईसीसी के ट्रोल पर हावी हो गई तेंदुलकर की 'हाजिरजवाबी'
 
शीर्ष स्तर के 12 जिम्नास्ट ने ट्रॉयल को लेकर साइ, खेल मंत्रालय और जीएफआई को अपनी चिंता से अवगत करा दिया है. महासंघ ने बुधवार को साइ को कड़े शब्दों में पत्र लिखा है जिसमें ट्रायल्स में भाग लेने वाले जिम्नास्टों की पात्रता, कम समयावधि में दिए गए नोटिस, जजों की योग्यता और संपूर्ण चयन मानदंडों पर सवाल उठाए गए हैं. 

VIDEO:  पिछले साल सेरना ने बड़ी बहन को हराकर 23वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीता. 

जीएफआई के उपाध्यक्ष रियाज भाटी ने कहा, ‘साइ का यह कदम पूरी तरह से अनुचित और अस्वीकार्य है, जिससे देश के भर के जिम्नास्टों को बेमतलब की परेशानी में डाल दिया गया है'. इस संबंध में साइ से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन कोई जवाब नहीं मिला.