NDTV Khabar

दबाव में काम करने के बजाय नीतीश को सीएम पद से इस्‍तीफा दे देना चाहिए : मांझी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दबाव में काम करने के बजाय नीतीश को सीएम पद से इस्‍तीफा दे देना चाहिए : मांझी

जीतन राम मांझी (फाइल फोटो)

पटना: एनडीए के घटक दल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) सेक्युलर के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने बिहार में ताज किसी के सिर पर और शासन किसी और का चलने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सलाह दी है कि बेवजह बदनामी मोल लेने के बजाए उन्हें मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र दे देना चाहिए।

लालू के कथित तौर पर एम्‍स का निरीक्षण करने पर की टिप्‍पणी
पटना स्थित अपने सरकारी आवास पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद के हाल में पटना स्थित इंदिरा आयुर्विज्ञान संस्थान (आईजीआईएमएस) का कथित तौर पर निरीक्षण किए जाने की मीडिया में आई  खबरों का जिक्र करते हुए मांझी ने इसे लोकतांत्रिक दृष्टि से अनुचित करार दिया। उन्होंने कहा 'हिंदुस्तान में मीडिया में बिहार को लेकर चर्चा है कि ताज किसी और का राज किसी और का। बिहार में अगर ताज माना जाए तो नीतीश कुमार के माथे पर है लेकिन राज कौन कर रहा है। आईजीआईएमएस में जाकर जो निर्देश दिया गया उससे न सिर्फ बिहार बल्कि हिंदुस्तान के लोग समझते हैं कि वाकई राज किसका है।'

नीतीश से हमदर्दी, उन्‍होंने सीएम बनने का मौका दिया
मांझी ने कहा 'अगर नीतीश कुमार 'बेचारा' हो गए हैं। वे किसी के दबाव में इतना हैं कि कोई एक्शन नहीं ले सकते तो मेरी समझ ने उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए ताकि बिहार में सचमुच जिनका राज है वे ही सत्ता चलाएं, वे (नीतीश) बदनाम क्यों हो रहे हैं।' उन्होंने कहा कि नीतीशजी से वे हमदर्दी रखते हैं क्योंकि उन्होंने उन्हें बिहार में मुख्यमंत्री बनने का अवसर प्रदान किया था। इसलिए वह उन्हें एक बेहतर सलाह दे रहे हैं कि ऐसी परिस्थिति में वे बिहार के मुख्यमंत्री के पद पर बने रहकर अपना नाम बदनाम न करें क्योंकि यह उचित नहीं है।

सरकार पर 'अनुचित दबाव' होने का किया दावा
मांझी ने बिहार में महागठबंधन (जेडीयू-आरजेडी-कांग्रेस) की सरकार बनने के बाद से बढ़ते अनुचित दबाव के कारण प्रदेश में तैनात करीब 35 आईएएस और आईपीएस के द्वारा लिखित रूप से इस राज्य में काम नहीं करने तथा केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर भेजे जाने की इच्छा जताए जाने का दावा करते हुए आरोप लगाया कि इससे भी बिहार में शासन व्यवस्था की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement