NDTV Khabar

प्रतीक भूषण सिंह: पिता से विरासत में मिली राजनीति को आगे बढ़ाने की जिम्‍मेदारी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रतीक भूषण सिंह: पिता से विरासत में मिली राजनीति को आगे बढ़ाने की जिम्‍मेदारी
उत्तर प्रदेश में इस बार का विधानसभा चुनाव न सिर्फ सत्ता हासिल करने की लड़ाई है बल्कि अनेक नेताओं की अगली पीढ़ी को सियासी विरासत सौंपने का भी मौका है. इनमें एक नाम प्रतीक भूषण सिंह का भी है. प्रतीक भूषण सिंह सांसद बृज भूषण सिंह के बेटे हैं और पहली बार चुनाव में अपनी किस्‍मत आजमा रहे हैं. इससे पहले प्रतीक 2014 के लोकसभा चुनाव में अपने पिता के लिए चुनाव प्रचार कर चुके हैं. बृज भूषण सिंह उत्‍तर प्रदेश के कैसरगंज क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के सांसद हैं.

टिप्पणियां
भारतीय जनता पार्टी ने प्रतीक भूषण सिंह को इस बाद गोंडा सदर सीट से मैदान में उतारा है. वहीं सदर विधानसभा क्षेत्र से मौजूदा विधायक और सूबे के कृषि मंत्री विनोद कुमार उर्फ पंडित सिंह ने यह सीट छोड़ दी है और इस पर अब समाजवादी पार्टी से उनके भतीजे सूरज सिंह मैदान में हैं. बसपा से पूर्व विधायक जलील खां चुनावी मैदान में हैं. यही नहीं, भाजपा से टिकट कटने के बाद महेश नारायण तिवारी शिवसेना से, जबकि रूपेश कुमार उर्फ निर्मल श्रीवास्तव निर्दलिय दावा ठोंक रहे हैं.

गोंडा जिले की बात की जाए तो सबसे पहले बृज भूषण शरण सिंह का नाम जरूर सामने आ जाता है, क्‍योंकि उन्‍हें गोंडा, बलरामपुर और बहराइच का बाहुबली माना जाता है और इन क्षेत्रों उनका काफी दबदबा है. 27 साल के प्रतीक भूषण सिंह आरएसएस के सदस्‍य रहे हैं. प्रतीक ने दिल्ली और लखनऊ में पढ़ाई करने के बाद उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न यूनिवर्सिटी से एमबीए की पढ़ाई की है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement