NDTV Khabar

मणिपुर: आसान नहीं होगा सुसिंद्रो मेती के लिए चुनाव जीतना

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मणिपुर: आसान नहीं होगा सुसिंद्रो मेती के लिए चुनाव जीतना

मणिपुर विधानसभा

बीजेपी ने मणिपुर विधानसभा चुनाव की खुरई सीट से इस बार भी एल सुसिंद्रो मेती पर भरोसा जताया है और उन्हें इसी सीट से टिकट दिया है. वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में उन्हें कांग्रेस एन. बिजॉय सिंह ने 5089 मतों के अंतर से हरा दिया था. इस बार भी मेती के सामने बिजॉय सिंह ही हैं. पिछले कुछ समय में इस सीट से बीजेपी ने अपनी स्थिति को मजबूत किया है, इसलिए इस बार मुकाबला कड़ा होगा. 

खुरई सीट पर कुल मतदाताओं की संख्या 29556 है जिसमें से 14197 मतदाता पुरुष और 15359 मतदाता महिला हैं. यह सीट इंफाल शहर से महज दो किमी. की दूरी पर है.

मणिपुर की 60 सदस्यीय विधानसभा के लिए चार और आठ मार्च को दो चरणों में चुनाव होना है. चुनाव के परिणाम 11 मार्च को घोषित किए जाएंगे. पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 42 सीटों पर जीत हासिल की थी और ओ इबोबी सिंह एक बार फिर से राज्य के मुख्यमंत्री बने थे. खुरई विधानसभा सीट पर पहले चरण में ही चुनाव है. 

मणिपुर विधानसभा की 38 सीटों पर चार मार्च को होने वाले पहले चरण के मतदान के लिए कुल 168 उम्मीदवार मैदान में हैं. भारतीय जनता पार्टी ने सभी 38 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किये हैं, जबकि सत्तारूढ़ कांग्रेस के 37 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं. साथ ही 14 निर्दलीय उम्मीदवार विधानसभा चुनावों में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

बीजेपी की कोशिश है कि वो कांग्रेस के खिलाफ पैदा हुए एंटी इंकंबेंसी का फायदा उठाए. मणिपुर में कुल 60 विधानसभा सीटों में से 40 सीटें घाटी में हैं. जबकि पहाड़ पर विधानसभा की 20 सीटें हैं. बीजेपी भ्रष्टाचार मुक्त और सुशासन के वादे के साथ इस बार मणिपुर में एक पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का दावा कर रही हैं.

टिप्पणियां
प्रदेश की राजनीति में हमेशा मेतई समुदाय का ही दबदबा रहा है. मणिपुर की क़रीब 31 लाख जनसंख्या में 63 प्रतिशत मेतई है. मुख्यमंत्री इबोबी सिंह भी मेतई समुदाय से हैं.

बीजेपी यह कहती रही है कि कांग्रेस ने पहाड़ी क्षेत्र के विकास के लिए कोई काम नहीं किया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement