Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar
होम | राजनीति

राजनीति

  • ज्योतिरादित्य को सलमान खुर्शीद की नसीहत, जाने से पहले एक बार यूपी के कांग्रेसियों की तरफ देख लेते
    मध्यप्रदेश में सियासी उठापटक के दौर में ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के कांग्रेस (Congress) छोड़कर बीजेपी (BJP) में जाने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद (Salman Khurshid) ने उन पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि सिंधिया इतनी जल्दी क्यों उतावले हुए जा रहे हैं, जबकि कांग्रेस ने उनको संसद और ऊंचे ओहदों तक पहुंचाया है. उनको उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के वर्करों की तरफ देखना चाहिए जहां उनकी लंबे समय से सत्ता से दूरी बनी हुई है. सलमान खुर्शीद ने यह बात NDTV से खास बातचीत में कही.
  • बीजेपी ने राज्यसभा उम्मीदवारों का किया ऐलान, लिस्ट में 11 में से दो कैंडिडेट सहयोगी दलों के
    भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Elections) के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. बीजेपी ने अपने 9 प्रत्याशियों और सहयोगी दलों के दो प्रत्याशियों की घोषणा की. पार्टी ने नौ राज्यों की 11 सीटों के लिए अपने उम्मीदवार घोषित किए हैं. राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 13 मार्च है. चुनाव 26 मार्च को होगा. बीजेपी ने असम की दो, बिहार की एक, गुजरात की दो, झारखंड की एक, मणिपुर की एक, मध्यप्रदेश की एक, महाराष्ट्र की दो और राजस्थान की एक सीट के लिए उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं.
  • मध्यप्रदेश : संकट में कमलनाथ सरकार, स्पीकर के पास है कुछ वक्त; लेकिन बीजेपी बेफिक्र
    मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) पर संकट के बादल घिर चुके हैं. ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने कांग्रेस (Congress) छोड़कर बीजेपी (BJP) ज्वाइन कर ली है और उनके समर्थक 22 विधायकों ने भी इस्तीफा दे दिया है. इसके बाद मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार (Congress Government) का पतन तय हो चुका है. बीजेपी सूत्रों के मुताबिक नियमों के अनुसार त्यागपत्र पर निर्णय करने के लिए स्पीकर के पास सात दिनों का समय होता है. यानी सत्रह मार्च तक स्पीकर को इन इस्तीफों पर निर्णय करना है. राज्यपाल भी इसी के बाद दखल दे सकते हैं. इसके बाद ही बीजेपी अगला कदम उठाएगी.
  • ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी जिंदगी की दो तारीखों का जिक्र करते हुए भावुक हो उठे
    मध्यप्रदेश के कांग्रेस के युवा और प्रभावी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia )ने आखिरकार कांग्रेस (Congress) का दामन छोड़ दिया और बीजेपी (BJP) में शामिल हो गए. बीजेपी ज्वाइन करने के बाद मीडिया से बात करते हुए ज्योतिरादित्य भावुक हो उठे. उन्होंने कहा कि ''जीवन में ऐसे मोड़ आते हैं जो जीवन को बदलकर रख देते हैं. मेरे जीवन में दो तारीखें बहुत महत्‍वपूर्ण रहीं. 30 स‍ितंबर 2001 जब मैंने अपने पूज्य प‍िताजी माधवराव स‍िंध‍िया को खोया. दूसरी तारीख 10 मार्च 2020 है, जो उनके जीवन की 75वीं वर्षगांठ थी.'' उन्होंने कहा कि ''मैंने सदैव माना है क‍ि ज‍िंदगी में हमारा लक्ष्‍य जनसेवा होना चाह‍िए और राजनीत‍ि इस लक्ष्‍य को पाने का माध्‍यम होना चाहि‍ए. मेरे पूज्‍य प‍िता जी और मैंने इसको प्राण-प्रण से पूरा करने की कोश‍िश की. लेक‍िन मन व्‍यथ‍ित है. कांग्रेस पार्टी वह नहीं रही जो पहले थी.''
  • बीजेपी के 'होते' ही ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य स‍िंध‍िया ने मध्‍यप्रदेश की कमलनाथ सरकार पर यूं बोला हमला...
    Jyotiraditya Scindia: कांग्रेस पर न‍िशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा, पिछले 18-20 वर्षों में मुझे प्रदेश और देश की सेवा करने का मौका मिला है. मैं यह विश्वास के साथ कह सकता हूं कि जन सेवा का लक्ष्य आज उस संगठन के माध्यम से पूरा नहीं नहीं हो पा रहा है ज‍िससे मैं जुड़ा था. कांग्रेस आज वह पार्टी नहीं रही जो पहले थी. तीन मुख्य बिंदु, वास्तविकता से मुंह मोड़ना, नई बातों को समावेश न करना और नए नेतृत्व को सभी मान्यता न मिलने के कारण कांग्रेस जड़ता की स्‍थ‍ित‍ि में आ गई है.
  • राहुल गांधी के ल‍िए खतरा माने जा रहे ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य स‍िंध‍िया के पास नहीं था कोई दूसरा व‍िकल्‍प...
    Jyotiraditya Scindia: ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य ने पावर स्‍ट्रक्‍चर में प्रासंग‍िक बने रहने के ल‍िए एक आख‍िरी प्रयास क‍िया. उन्‍होंने राज्‍यसभा में मनोनयन के ल‍िए कहा लेक‍िन गांधी पर‍िवार से इससे भी इनकार कर द‍िया. कांग्रेस पार्टी के र‍िपोर्ट करने वालों के अनुसार, सोन‍िया गांधी नहीं चाहती थीं क‍ि ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य मजबूत हों और कांग्रेस पार्टी में गांधी पर‍िवार के वर्चस्‍व के ल‍िए संभाव‍ित रखना बनें. ऐसे में ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य के पास एक रास्‍ता ही बाकी था-वह था कांग्रेस पार्टी को छोड़ना.
  • ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य की दादी व‍िजयाराजे स‍िंध‍िया ने जब इस 'मास्‍टर स्‍ट्रोक' से कांग्रेस को क‍िया था 'क्‍लीन बोल्‍ड'
    'राजमाता' के नाम से लोकप्र‍िय व‍िजयाराजे स‍िंध‍िया ने अपनी राजनीति वैसे तो कांग्रेस से प्रारंभ की थीं लेक‍िन जल्‍द ही वे इस पार्टी के धुर व‍िरोध‍ियों में शाम‍िल हो गई थीं. 60-70 के दशक तक समूचे देश की तरह ही मध्‍यप्रदेश की राजनीत‍ि में कांग्रेस का बोलबाला था, इस दौर में व‍िजयराजे स‍िंध‍िया ने एक ऐसा मास्‍टर स्‍ट्रोक खेला था ज‍िससे सूबे में संव‍िद सरकार के गठन का रास्‍ता तैयार हुआ था.
  • संकट में कमलनाथ सरकार:  दादी व‍िजयाराजे से ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य तक, द‍िलचस्‍प रहा है स‍िंध‍िया पर‍िवार का स‍ियासी सफर..
    Jyotiraditya scindia: व‍िमान हादसे में माधवराव स‍िंध‍िया (Madhavrao Scindia) के आकस्‍म‍िक न‍िधन के बाद ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य का राजनीत‍ि में आगमन हुआ. बीजेपी ने इस बात की पूरी कोश‍िश की क‍ि ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य भगवा पार्टी से जुड़कर ही अपनी स‍ियासत शुरू करें लेक‍िन ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य ने कांग्रेस का ही दामन था. कांग्रेस के ट‍िकट पर वे न केवल गुना से सांसद चुने गए बल्‍क‍ि मनमोहन स‍िंह की सरकार में केंद्रीय मंत्री भी रहे. बहरहाल वर्ष 2019 से ज्‍योत‍िराद‍ित्‍य के समीकरण कांग्रेस पार्टी के साथ ब‍िगड़ते चले गए.
  • सियासी घमासान के बीच कमलनाथ दिल्ली रवाना, कांग्रेस के सामने सरकार बचाने के साथ एक और चुनौती
    मध्यप्रदेश में जारी भारी सियासी उठापटक के बीच सीएम कमलनाथ दिल्ली रवाना हो गए. मुख्यमंत्री कमलनाथ दिल्ली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर सकते हैं. माना जाता है कि उनके इस दौरे में राज्यसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों का फैसला हो सकता है. मध्यप्रदेश में रिक्त हो रहीं तीन राज्यसभा सीटों के लिए 26 मार्च को चुनाव होना है. इसके लिए नामांकन 13 मार्च तक किए जा सकते हैं.
  • बिहार में NPR और NRC पर नीतीश के स्टैंड से क्या मुसलमानों की उनको लेकर राय बदल रही?
    जब से बिहार विधानसभा ने सर्वसम्मति से एनआरसी और एनपीआर पर प्रस्ताव पारित किया है तब से बिहार की राजनीति में एक सवाल का जवाब सब ढूंढ रहे हैं कि इसका आखिरकार लाभ किसे मिलेगा? और उससे भी बड़ा सवाल है कि क्या इस कदम से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति मुस्लिम समुदाय में जो नाराजगी देखी थी, वो कम या खत्म हो गई?
  • मध्यप्रदेश का सियासी ड्रामा : निर्दलीय एमएलए शेरा भैया भोपाल लौटे, कहा- शेर का अपहरण...!
    मध्यप्रदेश के लापता चार विधायकों में से एक निर्दलीय एमएलए सुरेंद्र सिंह 'शेरा भैया' शनिवार को भोपाल लौट आए. सिंह ने कल शाम को घोषणा की थी कि वे कमलनाथ सरकार को अपना समर्थन जारी रखेंगे. सुरेंद्र सिंह ने उनका अपहरण होने की अटकलों से इनकार किया है. कांग्रेस के तीन अन्य विधायक अब भी लापता बताए जा रहे हैं. शेरा भैया बुरहानपुर विधानसभा क्षेत्र के विधायक हैं. शेरा भैया के अलावा कांग्रेस के तीन विधायक बिसाहू लाल सिंह, रघुराज कनसाना और एचएस डंग को बीजेपी नेता कथित रूप से कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने के उद्देश्य से बेंगलुरु ले गए थे.
  • यूपी में योगी सरकार के तीन साल, अब बीजेपी को हुई फिक्र; विधायकों-सांसदों को दिया यह जिम्मा
    यूपी में बीजेपी की सरकार के तीन साल पूरे होने वाले हैं, यानी कि योगी सरकार का कार्यकाल आधे से अधिक बीत चुका है. उत्तर प्रदेश में चुनाव दर चुनाव जनता अपना जनादेश बदलती रही है. यूपी में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजवादी पार्टी के बीच लंबे समय तक सत्ता की बागडोर रही है. लंबे अरसे के बाद पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी के हाथ में यूपी की सत्ता आई तो अब वह यहां अपनी जड़ें जमाए रखना चाहती है. यही कारण है कि बीजेपी को दो साल बाद होने वाले विधानसभा चुनाव की फिक्र सताने लगी है. बीजेपी सरकार ने अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा होने पर अपनी उपलब्धियों को आम लोगों में प्रचारित करने की योजना बनाई है.
  • कमलनाथ का जनता के नाम पत्र : बीजेपी को जमकर लताड़ा, सत्ता की भूख का प्रदर्शन इस तरह न करें कि...
    मध्यप्रदेश में चल रहे सियासी ड्रामे के सिलसिले में आज मुख्यमंत्री कमलनाथ की जनता के नाम एक चिट्ठी सामने आ गई. कमलनाथ ने इस पत्र के जरिए बीजेपी पर लांक्षन लगाए हैं और उसकी घोर निंदा की है. उन्होंने कहा है कि भाजपा नेताओं ने न सिर्फ प्रदेश सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की है, अपितु प्रदेश के विकास पर भी सीधा आक्रमण किया है. उन्होंने भाजपा नेताओं से अनुरोध किया है कि वे सत्ता की भूख का प्रदर्शन इस तरह न करें कि लोगों का प्रजातंत्र पर से भरोसा ही उठ जाए. कमलनाथ ने कहा है कि ''मैं प्रार्थना करता हूं कि हनुमान जी भाजपा को मर्यादा, संयम और चरित्रबल दें, ताकि हम सब पक्ष और प्रतिपक्ष मिलकर प्रदेश के विकास के स्वप्न को साकार कर सकें.''
  • मध्यप्रदेश के एक लापता एमएलए का वीडियो सामने आया, कमलनाथ सरकार को लेकर कही यह बात
    मध्यप्रदेश के लापता चार विधायकों में से एक निर्दलीय एमएलए सुरेंद्र सिंह 'शेरा भैया' ने शुक्रवार की शाम को घोषणा की कि वे कमलनाथ सरकार को अपना समर्थन जारी रखेंगे. शेरा भैया बुरहानपुर विधानसभा क्षेत्र के विधायक हैं. शेरा भैया के अलावा कांग्रेस के तीन विधायक बिसाहू लाल साहू, रघुराज कनसाना और एचएस डंग को बीजेपी नेता कथित रूप से कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने के उद्देश्य से बेंगलुरु ले गए थे.
  • बिहार : तेजस्वी की बेरोजगारी यात्रा, नीतीश कुमार के वोट बैंक में सेंध लगाने की कोशिश
    बिहार में इस साल चुनाव होने हैं लेकिन जहां एक और सत्तारूढ़ दल जनता दल यूनाइटेड का कार्यकर्ता सम्मेलन फ़्लॉप शो रहा वहीं विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव बेरोजगारी यात्रा पर राज्य का भ्रमण कर रहे हैं. अपने युवा क्रांति रथ पर विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव बिहार के समस्तीपुर के शाहपुर पटोरी में बृहस्पतिवार को थे. इस यात्रा का पूरा तानाबाना राज्य में बेरोज़गारी और बेरोज़गारों की समस्याओं को लेकर बुना गया है. इसलिए तेजस्वी हर विषय को बेरोजगारी से जोड़ते हैं.
  • लखनऊ में 'दंगाइयों' की तस्वीरों वाली होर्डिंग पर पूर्व आईपीएस की फोटो भी! नुकसान वसूलेगी सरकार
    लखनऊ में सरकार ने सड़कों पर लोगों की तस्वीरों वाली होर्डिंग्स लगाकर ऐलान किया है कि इन लोगों से सीएए प्रदर्शन के दौरान संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के कारण वसूली की जाएगी. इन तस्वीरों में पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी, एक्टिविस्ट सदफ़ जफर और दीपक कबीर की तस्वीरें भी हैं. उनका कहना है कि उनके खिलाफ तोड़फोड़ का कोई सुबूत नहीं है. इसे लेकर वे अदालत में जाएंगे.
  • कमलनाथ सरकार को झटका, कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग ने मध्यप्रदेश विधानसभा से दिया इस्तीफा
    मध्यप्रदेश के चार लापता कांग्रेस विधायकों में से एक हरदीप सिंह डंग ने विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति को अपना इस्तीफा भेज दिया है. पत्र में हरदीप डंग ने कहा कि दूसरी बार लोगों का जनादेश मिलने के बावजूद पार्टी द्वारा उनकी लगातार अनदेखी की जा रही है. उन्होंने अपने पत्र में कहा कि 'कोई भी मंत्री काम करने के लिए तैयार नहीं है, क्योंकि वे एक भ्रष्ट सरकार का हिस्सा हैं.'
  • लालू यादव ने पहली बार राबड़ी देवी को आरजेडी में बड़ा पद सौंपा, शहाबुद्दीन की पत्नी को भी दी जिम्मेदारी
    राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के अध्यक्ष लालू यादव (Lalu Yadav) ने अपनी पत्नी को पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मनोनीत किया है. यह पहली बार है जब लालू यादव ने अपनी पत्नी राबड़ी देवी को पार्टी की राष्ट्रीय इकाई में पदाधिकारी बनाया है. गुरुवार को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सूची जारी की गई. इसके अनुसार बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव और मीसा भारती राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य बनाए गए हैं.
  • बीजेपी ने न तो कोई पेशकश की, न ही मारपीट हुई; सरकार में शामिल विधायकों ने दिग्विजय के आरोप झूठे बताए
    मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार का संकट टलता तो नजर आ रहा है लेकिन नाटक पूरी तरह से खत्म हो गया हो ऐसा भी नहीं लगता. ताजा घटनाक्रम में बसपा से निलंबित विधायक रामबाई, संजीव सिंह कुशवाहा और समाजवादी पार्टी के विधायक राजेश शुक्ला ने रिश्वत की पेशकश और अगवा करने जैसे कांग्रेस के नेताओं के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया. दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया था कि बीजेपी विधायकों की खरीद-फरोख्त में जुटी है, सरकार को गिराने के लिए उन्हें न सिर्फ बंधक बनाया गया है, बल्कि उनके साथ मारपीट भी हुई है.
  • उद्दंड आचरण के लिए कांग्रेस के सात सांसद शेष संसद सत्र के लिए निलंबित
    बजट सत्र के दूसरे भाग के दौरान लोकसभा में हंगामा करने और उद्दंड आचरण के लिए कांग्रेस के सात सांसदों को शेष सत्रावधि के लिए निलंबित कर दिया गया है. ये सांसद गौरव गोगोई, टी.एन. प्रतापन, एडवोकेट डीन कुरियाकोस, बेनी बेहनन, मणिक्कम टैगोर, राजमोहन उन्नीथन तथा गुरजीत सिंह औजला हैं.
«123456»

Advertisement