NDTV Khabar
होम | चुनावी ब्लॉग

चुनावी ब्लॉग

  • सेलुलर जेल की यातना सह रहे हैं बिहारी मज़दूर
    मैंने अंडमान की सेलुलर जेल भी देखी है। दिल्ली के कापसहेड़ा और गुड़गांव के उन गांवों को भी देखा है, जहां बिहार, उत्तर प्रदेश और ओडिशा से आए मज़दूर रहते हैं। आपको हैरानी होगी।
  • आंकड़ों की बाज़ीगरी, क्या बिहार का वोटर ये समझ रहा है?
    मैं एक राष्ट्रीय रैली आयोग का प्रस्ताव करना चाहता हूं। विधि द्वारा स्थापित न होने के बाद भी मैं राष्ट्रीय रैली आयोग का अध्यक्ष बनाए जाने पर रैलियों में आने वाले लोगों की गिनती का कोई न कोई विश्वसनीय पैमाना ज़रूर बनाऊंगा।
  • निधि का नोट : बिहार में एनडीए में सीट बंटवारे को लेकर खींचतान
    बिहार चुनाव में अब गणित एनडीए खेमे का कैसा रहेगा, नज़र इस पर रहेगी। एनडीए के सीट बंटवारे पर पहली बैठक हुई भाजपा अध्यक्ष अध्यक्ष अमित शाह के घर पर, लेकिन किस दल को कितनी सीटें मिलेंगी यह तय नहीं हो सका।
  • बिहार की पोस्टर पॉलिटिक्स : मिहिर गौतम
    बिहार का पैकेज पॉलिटिक्स बेशक सुर्खियों में हो, लेकिन पटना पहुंचते ही अहसास हो जाता है कि वोट के लिए पोस्टर पॉलिटिक्स की भी अहमियत है। प्लेटफॉर्म से बाहर आते वक्त आपको चारों तरफ़ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही नज़र आते हैं।
  • मोदी के जवाब में नीतीश का पैकेज, युवा वोटर पर लगाया दांव
    सत्तर पचहत्तर दिनों से पूर्व सैनिक जंतर मंतर पर अपनी मांग को लेकर धरने पर हैं। यह धरना उन सभी वर्गों के लिए नज़ीर बनना चाहिए जिनसे चुनाव के वक्त नेता वादे करते हैं और सरकार बनने के बाद भूल जाते हैं। उनकी एकजुटता का नतीजा इतना तो निकला है कि सरकार युद्ध स्तर पर प्रयास कर रही है।
  • चुनाव से पहले अपने आप से हारता बिहार : रवीश कुमार
    बिहार अपने आप से हारता जा रहा है। चुनाव में दो में से कोई एक गठबंधन तो जीत जाएगा लेकिन इस चुनाव में बिहार की हार तय होने जा रही है। इतना उद्देश्यहीन और हल्का चुनाव कभी नहीं देखा। हर तरफ़ अनैतिक गठबंधन हैं।
  • निधि का नोट : बिहार के चुनावी समर में छवियों का घमासान
    बिहार चुनाव अब छवियों का घमासान बनता जा रहा है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से गले मिलते दिखाई दिए। दिल्ली में दोनों नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जम कर निशाना साधा और फिर खबर आई कि अरविंद केजरीवाल 27 तारीख को बिहार जाकर साझा कार्यक्रम करेंगे।
  • बिहार के विकास पर सियासत, मोदी का नीतीश पर निशाना
    विशेष दर्जा और विशेष पैकेज में क्या अंतर है इसे राजनीतिक विद्वान बांचते रहेंगे लेकिन जिन्हें मंच लूटना था वो लूट ले गए। जनता को एक फाइनल फीगर मिल गया है। चौक चौराहे पर लोग सेक्टर के आधार पर हिसाब नहीं लगाएंगे।
  • बाबा की कलम सेः डीएनए विरुद्ध डीएनए, नीतीश बनाम मोदी
    डीएनए यानि डीआॅक्सीराइबो न्यूक्लिक एसिड, इसकी खोज वाॅटसन और क्रिक ने 1953 में की थी। तब उन्होने ने सोचा भी नहीं होगा कि 62 साल बाद उसी डीएनए पर बिहार में राजनैतिक बहस होगी। उस प्रदेश के लोग इस पर बहस कर रहे हैं, जहां से कहा जाता है कि सबसे अधिक अफसर चुने जाते हैं।
  • बाबा की कलम से : दिल्ली ने 'आप' को दिया 'आपराधिक बहुमत'
    इस चुनाव में केवल बीजेपी के लिए ही सीख नहीं है, आम आदमी पार्टी के लिए भी बहुत कुछ है। दिल्ली की जनता ने ऐतिहासिक बहुमत ही नहीं, 'आपराधिक बहुमत' एक पार्टी को दे दिया है, क्योंकि लोकतंत्र में विपक्ष न होने पर शासन के निरंकुश होने की संभावना बनी रहती है।
  • अरविंद केजरीवाल की अभूतपूर्व, ऐतिहासिक जीत के पांच फायदे, पांच नुकसान
    पिछले साल 14 फरवरी को केजरीवाल ने इस्तीफा दिया था, और ठीक एक साल बाद वह उसी दिन मुख्यमंत्री का ताज पहनेंगे, लेकिन 70 सीटों वाली दिल्ली विधानसभा में 96 फीसदी सीटें जीतने वाले केजरीवाल की इस जीत के कुछ फायदे हैं, तो कुछ नुकसान भी हैं...
  • दिल्ली की सियासत में आप का डंका
    16 मई 2014 के ऐतिहासिक दिन के बाद लगा था कि भारत की राजनीति एकमुखी होती चली गई है, लेकिन 10 फरवरी 2015 को लग रहा है कि बहुमुखी बने रहने की अभी तमाम संभावनाएं मौजूद हैं।
  • मुस्लिम बहुल वाले गढ़ भी नहीं बचा पाई कांग्रेस
    हाल ये रहा कि पार्टी के चारों दिग्गज - सदर बाज़ार से अजय माकन, मटिया महल से शोएब इकबाल, बल्लीमारन से हारून युसूफ और चांदनी चौक से प्रहलाद साहनी बुरी तरह हारे। इनमें शोएब इकबाल को छोड़कर बाकि तीनों दिग्गज़ उम्मीदवार तीसरे नंबर पर खिसक गए।
  • अदिति राजपूत की कलम से : क्या बीजेपी की हार की वजह सिर्फ बेदी हैं?
    किरण बेदी को बीजेपी ने बहुत तामझाम से पार्टी में शामिल किया। इसे उसका मास्टर स्ट्रोक बताया गया। लगा कि केजरीवाल के मुकाबले पार्टी को एक चेहरा मिल गया है, लेकिन बीजेपी का ये दांव पूरी तरह उल्टा पड़ा।
  • प्रियदर्शन की बात पते की : विकराल बहुमत के खतरे
    उम्मीद करें कि यह बदला हुआ बहुमत केजरीवाल और उनके सहयोगियों को विनम्र भी बनाएगा, ज़िम्मेदार भी और अंतत: सामाजिक न्याय और बराबरी के प्रति संवेदनशील भी।
  • दरअसल, जुबान पर चढ़ गया था 'पांच साल केजरीवाल...'
    किसी भी चुनाव में नारे और गाने अहम किरदार निभाते हैं, जैसे लोकसभा चुनाव 2014 में 'अबकी बार, मोदी सरकार' और 2004 में 'कांग्रेस का हाथ, आम आदमी के साथ' बहुत मशहूर हुए थे...
  • ...तो इसलिए नरेंद्र मोदी पर भारी पड़े अरविंद केजरीवाल
    खरगोश और कछुए की कहानी में कछुआ धीरे-धीरे बस चलता रहता है और आखिर में अति-आत्मविश्वास के कारण रफ्तार का धनी होते हुए भी खरगोश सुस्त चाल वाले कछुए से हार जाता है।
  • अरविंद ने समझा दिया, 'दिल्ली में केजरीवाल, देश में मोदी...'
    चाय की दुकान पर पूछा, "भाई, किसे जिता रहे हो...?" जवाब आया, ''केजरीवाल...'' फिर पूछा, "क्यों... मोदी जी से क्या नाराज़गी है...?" बोला, ''लोकसभा के लिए उन्हें वोट दिया था... लेकिन विधानसभा के लिए केजरीवाल को दूंगा... आखिर उन्हें रोकने के लिए भी कोई चाहिए, वर्ना वह भी बेलगाम हो जाएंगे...''
  • जानिए, क्या था दिल्ली विधानसभा चुनाव का टर्निंग प्वाइंट
    कृष्णा नगर जैसी सेफ सीट से मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरण बेदी को लड़ाने का फैसला सुनाकर बीजेपी ने संदेश दिया कि उसके पास अरविंद केजरीवाल की टक्कर का कोई नेता नहीं, शायद इसीलिए नई दिल्ली सीट से पार्टी ने नूपुर शर्मा जैसे अनजान नाम को लड़ाने का फैसला किया।
  • तीन गलतियां, जो केजरीवाल ने नहीं कीं दिल्ली विधानसभा चुनाव में
    लोकसभा चुनाव 2014 के मुकाबले दिल्ली विधानसभा चुनाव 2015 में आम आदमी पार्टी का प्रदर्शन एकदम उलट इसलिए रहा है, क्योंकि पिछले चुनाव में पार्टी और उसके मुखिया अरविंद केजरीवाल ने जो गलतियां की थीं, उनसे उन्होंने सीख ली और विधानसभा चुनाव में उन्हें सुधार लिया...
«12345678»

Advertisement