इनेलो के एसवाईएल नहर फिर खोदने के आह्वान के बाद पंजाब ने तैनात की पुलिस

इनेलो के एसवाईएल नहर फिर खोदने के आह्वान के बाद पंजाब ने तैनात की पुलिस

फाइल फोटो

चंडीगढ़:

हरियाणा के इंडियन नेशनल लोकदल के सतलुज यमुना लिंक नहर (एसवाईएल) को 23 फरवरी से फिर से खोदे जाने के आह्वान के मद्देनजर पंजाब सरकार ने रविवार को चंडीगढ़ से करीब 30 किलोमीटर दूर पटियाला जिले की कपूरी और शंभू सीमा पर सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी है. पटियाला जोन के पुलिस महानिरीक्षक बी चंदर शेखर ने बताया, ‘हमने कपूरी और शंभू सीमा के लिए बलों को रवाना कर दिया.’ उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था बरकरार रखने के लिए पंजाब पुलिस ने हरियाणा में अपने समकक्षों से बात की है. उन्होंने कहा कि इसके साथ ही पंजाब सरकार ने केंद्र से 20 कंपनी अर्धसैनिक बलों की मांग की है. इनके भी जल्द ही पहुंच जाने की उम्मीद है. ये कदम इनेलो कार्यकर्ताओं और पंजाब में मौजूद दल खालसा जैसे कुछ कट्टरपंथी दलों के बीच संभावित टकराव रोकने के लिए उठाया गया है क्योंकि राज्य के लोग एसवाईएल नहर के निर्माण या खुदाई के खिलाफ हैं.

चंदर शेखर ने पुलिस की तैनाती के इंतजाम के लिए मोहाली, पटियाला और संगरूर जिलों के आला पुलिस अधिकारियो की बैठक की अध्यक्षता भी की. पंजाब पुलिस ने दूसरी तरफ से किसी भी अप्रिय घटना को टालने के लिए अगले कुछ दिनों में राज्य की सीमा को सील करने का फैसला किया है. नहर को फिर से खोदे जाने के इनेलो के ऐलान पर सत्तारूढ़ शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने पलटवार करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वो किसी भी उकसावे वाली गतिविधि में शामिल न हों.

शिअद ने कहा कि वो इस परियोजना को कभी पूरा नहीं होने देगी क्योंकि, ‘इससे पंजाब के किसान अपने ही पानी से वंचित हो जाएंगे.’ पंजाब के मंत्री और शिरोमणि अकाली दल के प्रवक्ता दलजीत सिंह चीमा ने कहा, ‘पंजाब विधानसभा और शिअद-भाजपा सरकार द्वारा परियोजना के लिए अधिग्रहित की गई जमीन किसानों को वापस लौटाने के प्रस्ताव को पारित किए जाने के बाद एसवाईएल मुद्दा हमेशा में लिए खत्म हो गया.’ उन्होंने कहा कि परियोजना के लिए ली गई जमीन उनके वास्तविक मालिकों को लौटा दी गई हैं और उस पर अब पंजाब के किसानों का कब्जा है.

Newsbeep

उन्होंने कहा, ‘ये मुद्दा सिर्फ पंजाब के किसानों के लिए ही नहीं बल्कि सभी पंजाबियों के लिए जीवन-मरण की बात है क्योंकि हाल के वषरें में राज्य में जलस्तर नीचे गया है.’ चीमा ने कहा कि यह ‘बेहद दुखद’ है कि पड़ोसी हरियाणा के सियासी दल नहर की खुदाई जैसे बयान देकर ‘उत्तेजक कार्रवाई’ का सहारा ले रहे हैं. पंजाब के कुछ कट्टरपंथी संगठनों ने एसवाईएल नहर के निर्माण की किसी भी कोशिश को रोकने के लिए पहले ही पटियाला के कपूरी में इकट्ठा होने का ऐलान कर रखा है. वहीं पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह ने पंजाब सीमा पर किसी भी तरह की हिंसा रोकने के लिए केंद्र और हरियाणा सरकार से सभी जरूरी कदम उठाने को कहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)