NDTV Khabar

पंजाब में उग्रवाद को ‘पुनर्जीवित’ करने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं: सेना प्रमुख

जनरल रावत (Bipin Rawat ) ने कहा कि असम में विद्रोह को पुनर्जीवित करने के लिए "बाहरी संबंधों" और "बाहरी उकसाव" के माध्यम से फिर से प्रयास किए जा रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पंजाब में उग्रवाद को ‘पुनर्जीवित’ करने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं: सेना प्रमुख

सेना प्रमुख ने पंजाब के हालात पर जताई चिंता

नई दिल्ली: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat ) ने शनिवार को कहा कि पंजाब में "उग्रवाद को पुनर्जीवित करने" के लिए "बाहरी संबंधों" के माध्यम से प्रयास किए जा रहे हैं और यदि जल्द ही कार्रवाई नहीं की गई तो बहुत देर हो जायेगी. वह ‘‘भारत में आंतरिक सुरक्षा की बदलती रूपरेखा: रुझान और प्रतिक्रियाएं'' विषय पर यहां आयोजित एक सेमिनार में सेना के वरिष्ठ अधिकारियों, रक्षा विशेषज्ञों, सरकार के पूर्व वरिष्ठ अधिकारियों और पुलिस को संबोधित कर रहे थे. जनरल रावत (Bipin Rawat ) ने कहा कि असम में विद्रोह को पुनर्जीवित करने के लिए "बाहरी संबंधों" और "बाहरी उकसाव" के माध्यम से फिर से प्रयास किए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि पंजाब शांतिपूर्ण रहा है लेकिन इन बाहरी संबंधों के कारण राज्य में उग्रवाद को फिर से पैदा करने के प्रयास किये जा रहे है. उन्होंने कहा कि हमें बहुत सावधान रहना होगा. हमें नहीं लगता कि पंजाब की (स्थिति) समाप्त हो गई है.

यह भी पढ़ें: युद्ध के लिए तैयार हैं, लेकिन शांति की राह पर चलना पसंद किया है : पाक सेना

पंजाब में जो कुछ हो रहा है, हम अपनी आंखें बंद नहीं कर सकते हैं और, अगर हम अब जल्द कार्रवाई नहीं करते हैं, तो बहुत देर हो जायेगी. पंजाब ने 1980 के दशक में खालिस्तान समर्थक आंदोलन के दौरान उग्रवाद का एक बहुत बुरा दौर देखा था जिस पर अंतत: सरकार ने काबू पा लिया था. पैनल चर्चा में उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी प्रकाश सिंह ने भी इस मुद्दे को रेखांकित किया और कहा कि पंजाब में उग्रवाद को पुनर्जीवित किये जाने के प्रयास किये जा रहे है.

यह भी पढ़ें: सेना प्रमुख ने कहा- स्मार्टफोन के दौर में जवानों को सोशल मीडिया से दूर रखना मुश्किल

टिप्पणियां
उन्होंने ‘जनमत संग्रह 2020' के उद्देश्य से हाल में ब्रिटेन में आयोजित हुई खालिस्तान समर्थक रैली का जिक्र किया. गत 12 अगस्त को लंदन के ट्राफलगर स्क्वायर पर हुई खालिस्तान समर्थक रैली में सैंकड़ों की संख्या में लोग जुटे थे. जनरल रावत ने कहा कि आतंरिक सुरक्षा देश की बड़ी समस्याओं में से एक है, लेकिन सवाल यह है कि हम समाधान क्यों नहीं ढूंढ पाए हैं, क्योंकि इसमें बाहरी संबंध हैं. इस कार्यक्रम का आयोजन रक्षा थिंक टैंक ‘सेंटर फार लैंड एंड वारफेयर स्टडीज' ने किया था. रावत इसके संरक्षक है.

VIDEO: शहीद औरंगजेब के घर गए सेना प्रमुख.

सेना प्रमुख ने कहा कि उग्रवाद को सैन्य बल से नहीं निपटाया जा सकता है और इसके लिए एक ऐसा दृष्टिकोण अपनाना होगा जिसमें सभी एजेंसियां, सरकार, नागरिक प्रशासन, सेना और पुलिस एकीकृत तरीके से काम करें.  जनरल रावत ने कहा कि जहां तक असम का सवाल है, राज्य में उग्रवाद को पुनर्जीवित करने के लिए ‘‘बाहरी संबंधों'' के जरिये प्रयास फिर से किये जा रहे हैं.(इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement