Kisan Anthem: किसान आंदोलन पर पंजाबी सिंगर लाए 'पंजाबी एंथम', यूट्यूब पर ट्रेंड कर रहा Video

किसान आंदोलन के बीच पंजाबी सिंगर्स ने किसान एंथम (Kisan Anthem) सॉन्ग रिलीज किया है, जो खूब वायरल हो रहा है. 

Kisan Anthem: किसान आंदोलन पर पंजाबी सिंगर लाए 'पंजाबी एंथम', यूट्यूब पर ट्रेंड कर रहा Video

पंजाबी सिंगर्स ने किसान एंथम (Kisan Anthem) सॉन्ग किया रिलीज

नई दिल्ली:

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहा किसानों का आंदोलन शुक्रवार को 16वें दिन में प्रवेश कर चुका है. 16 दिनों से दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर डटे किसानों ने केंद्र सरकार से किसी भी तरह का समझौता करने से इनकार कर दिया है. केंद्र की तरफ से संशोधन का प्रस्ताव भेजे जाने के बाद किसानों ने इसे मानने से इनकार कर दिया था और कहा था कि अगर सरकार कानून वापस नहीं लेती है तो वो अपना विरोध-प्रदर्शन और तेज करेंगे. किसान आंदोलन को पंजाबी इंडस्ट्री के कलाकारों का भरपूर समर्थन मिल रहा है. अब पंजाबी सिंगर्स ने किसान एंथम (Kisan Anthem) सॉन्ग रिलीज किया है, जो खूब वायरल हो रहा है. 

Sunny Leone ने 'मराठी मुलगी' लुक से मचाया धमाल, वायरल हुआ डांस Video

किसान एंथम (Kisan Anthem) सॉन्ग को सोशल मीडिया पर भी खूब समर्थन मिल रहा है. इस गाने को मनप्रीत औलाख, निशवान भुल्लर, जस बाजवा, जॉर्डन संधु, फैजिलपुरिया, दिलप्रीत, ढिल्लन, डीजे फ्लो,  श्री बर्रार, अफसाना खान और बॉबी संधु जैसे सिंगर ने मिलकर गाया है. गाने में फ्लेम ने अपना म्यूजिक दिया गया है, जबकि श्री बर्रार ने इसके बोल लिखे हैं. फतेह खान और श्री बर्रार किसान एंथम गाने के प्रोड्यूसर हैं. यूट्यूब पर यह गाना फिलहाल 8वें नंबर पर ट्रेंड कर रहा है.


धोनी की बेटी जीवा दुबई में बन गईं कैप्टन, फिर यूं चलाई वाटर मोटर बाइक- खूब देखा जा रहा है Video

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


किसान एंथम (Kisan Anthem) सॉन्ग पर सोशल मीडिया यूजर्स जमकर अपनी प्रतिक्रियाएं भी दे रहे हैं. बता दें कि किसान आंदोलन के बीच जानकारी है कि भारतीय जनता पार्टी बड़ी योजना तैयार कर रही है. कृषि कानूनों पर विरोध के बीच ही बीजेपी इनके पक्ष में बड़ा अभियान चलाने जा रही है. पार्टी कृषि कानूनों को ज्यादा स्पष्ट करने के लिए पूरे देश में बड़ा अभियान चलाएगी. जानकारी है कि इस अभियान के तहत देश के 700 जिलों में प्रेस कांफ्रेंस, किसान सभाएं और चौपाल होंगी. इसके तहत 100 प्रेस कांफ्रेंस और 700 किसान सभाएं और चौपाल आयोजित करने की योजना है. इस अभियान में कैबिनेट मंत्री और वरिष्ठ मंत्री भी जुटेंगे.