NDTV Khabar
होम | राजस्थान

राजस्थान

  • महापंचायत में गुर्जरों का सरकार को अल्टीमेटम- मांगें न मानीं तो 1 नवंबर को चक्का जाम
    गुर्जरों की मांग है कि बैकलॉग भर्ती में 35000 नियुक्तियां गुर्जर समुदाय के लोगों को दी जाए. इसके अलावा आंदोलन में शहीद हुए लोगों की विधवाओं को सरकारी नौकरी दी जाए
  • राजस्थान: जिंदा जलाए गए पुजारी के परिवार को मनाने के बाद उनका अंतिम संस्कार किया गया
    राजस्थान (Rajasthan) के करौली (Karauli) जिले में पुजारी बाबूलाल वैष्णव का आज अंतिम संस्कार कर दिया गया. करौली जिले के एक छोटे से गांव बुंका में राधा-कृष्ण मंदिर में पुजारी बाबूलाल वैष्णव की हत्या बुधवार को हुई थी. गांव के कुछ दबंग लोगों ने जमीन विवाद के चलते बाबूलाल को जला दिया था. बाबूलाल के आक्रोशित परिवार ने पहले अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया था लेकिन बाद में प्रशासन के समझाने पर वे मान गए.
  • भारत दर्शन करने के बजाय राजस्थान के जिले-जिले में जाएं राहुल गांधी : प्रकाश जावड़ेकर
    केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने राजस्थान (Rajasthan) में पुजारी की जिंदा जलाकर हत्या की घटना को लेकर कहा है कि ''राजस्थान में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गई है. राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को भारत दर्शन करने के बजाय राजस्थान के जिले-जिले में जाना चाहिए. वे राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) से या तो इस्तीफा ले लें, या फिर सुधार करने के लिए कवायद करें. वे कुछ नहीं करेंगे, केवल राजनीति करेंगे. यह राजनीति भी लोग बर्दास्त नहीं करेंगे. करौली में पुजारी की हत्या बेहद संगीन मामला है. इस पर सरकार को फौरन एक्शन लेना चाहिए. राहुल गांधी को वहां तुरंत पहुंचना चाहिए.''
  • गहलोत बोले, पुजारी बाबूलाल वैष्णव के हत्यारों पर कड़ी कार्रवाई होगी
    राजस्थान में पुजारी को जिंदा जलाने की घटना के सियासी तूल पकड़ने के बीच राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि हत्यारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी. मुख्यमंत्री ने आला अधिकारियों से घटना की जानकारी ली और कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए.
  • महिनों तक पांच सितारा होटल में रहने वाली सरकार अपनी ही सुरक्षा कर सकती है, जनता की नहीं: राठौड़
    राजस्थान (Rajasthan) में जमीन विवाद को लेकर मंदिर के पुजारी को जिंदा जलाने की घटना पर भारतीय जनता पार्टी के सांसद  राज्यवर्धन राठौड़ (Rajyavardhan Singh Rathore) ने राज्य की कांग्रेस सरकार (Congress Government) और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को निशाना बनाया है. राज्यवर्धन राठौड़ ने इस घटना को लेकर कहा कि ''राजस्थान के अंदर आज कोई सुरक्षित नहीं है, न महिला, न बच्चे. पुलिस का मनोबल गिर रहा है. यहां तक कि मंदिर में पूजा करने वाले पुजारी तक सुरक्षित नहीं हैं. जो सरकार महिनों तक पांच सितारा होटल में रहती है वह अपनी ही सुरक्षा कर सकती है, जनता की नहीं.''
  • अलवर गैंगरेप केस में चार दोषियों को आजीवन कारावास, एक को पांच साल की सजा
    Alwar Gang Rape Case: राजस्थान (Rajasthan) के अलवर में 2019 में हुए सामूहिक बलात्कार (Gang Rape) के मामले में अलवर की एक विशेष अदालत ने पांच दोषियों में से चार को उम्रक़ैद (Life Imprisonment) की सज़ा सुनाई है और एक को पांच साल का कठोर कारावास दिया है. एक आरोपी की सुनवाई जुवेनाइल कोर्ट में चल रही है. अलवर के थांगजी का ये मामला काफी सुर्ख़ियों में रहा था. दो मई 2019 को पीड़ित एफआईआर दर्ज करवाने गई तो उस समय चल रहे लोकसभा चुनाव को कारण बताते हुए पुलिस ने मामला दर्ज करने में देरी कर दी. यह मामला लोकसभा चुनाव में राजनीतिक मुद्दा बन गया था और इसको लेकर राजस्थान की गहलोत सरकार की काफ़ी आलोचना भी हुई  थी.
  • Home Remedies For Damaged Hair: डैमेज बालों को स्वस्थ बनाने के लिए अपनाइए ये घरेलू नुस्खे
    हम चाहे जितनी भी कोशिश कर लें, लेकिन डैमेज बालों(Damaged Hair) की समस्या से बच नहीं सकते. लेकिन, क्या आप जानते हैं आपके बाल आपकी ही कुछ गलतियों की वजह से खराब होते हैं. जैसे, आपकी लाइफस्टाइल का तरीका, नुकसानदायक कॉस्मेटिक वाले शैम्पू, बहुत से हेयर ट्रीटमेंट और अनहेल्दी डाइट ये सभी चीजें आपके बालों पर असर करती हैं और उन्हें रूखा और बेजान बना देती है.
  • कोविड से रिकवरी के हफ्ते भर बाद राजस्थान के कांग्रेसी विधायक की मौत, 3 बार चुने गए थे MLA
    त्रिवेदी राजस्थान के सहाधा विधान सभा क्षेत्र से तीन बार विधायक चुने गए थे.2 अक्टूबर को उन्हें जयपुर से गुड़गांव के मेदांता अस्पताल एयरलिफ्ट किया गया था.
  • बारां केस की तुलना हाथरस गैंगरेप एंड मर्डर से करना जनता को गुमराह करना: अशोक गहलोत
    उन्होंने लिखा है, "हाथरस में हुई घटना बेहद निंदनीय है, उसकी जितनी निंदा की जाए उतनी कम है लेकिन दुर्भाग्य से राजस्थान के बारां में हुई घटना को हाथरस की घटना से कम्पेयर किया जा रहा है.."
  • राजस्थान : डूंगरपुर में शिक्षक भर्ती को लेकर हिंसक प्रदर्शन, अब तक 2 की मौत
    प्रदर्शनकारियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज राजस्थान के मंत्री अर्जुन सिंह बामनिया, वरिष्ठ अधिकारियों और अन्य जन प्रतिनिधियों से मुलाकात की. बामनिया, जो जनजातीय विकास विभाग रखते हैं, ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा. “हमने प्रदर्शनकारियों से शांति को रोकने और बहाल करने की अपील की है. बैठक में इस पर आम सहमति थी. क्षेत्र के सभी जन प्रतिनिधि उपस्थित थे, "
  • जसवंत सिंह : सैनिक, राजनेता और वाजपेयी सरकार के संकटमोचक
    सैन्य और विदेशी मामलों में गहरी रुचि रखने वाले एक विद्वान और राजनयिक, जसवंत सिंह ने आठ से अधिक पुस्तकें लिखीं. उनकी पुस्तक "ए कॉल टू ऑनर" ने विवाद को आकर्षित किया जब उन्होंने 1995 में नरसिम्हा राव सरकार में एक गुप्तचर के बारे में लिखा था, जिसके कारण सरकार ने अमेरिका के दबाव में अपनी परमाणु योजना को आगे नहीं बढ़ाया
  • राजस्थान : COVID-19 केस बढ़ने से 11 जिलों में धारा-144 लागू, 4 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर रोक
    सीएम गहलोत ने रविवार देर रात अपने ट्वीट में लिखा- "कल से प्रदेश के कई जिलों में धारा-144 लागू हो रही है, यह फैसला जनहित में किया गया है. मेरी सभी से अपील है कि इसे पालन करें. बल प्रदर्शन के बजाय सरकार चाहती है कि इसका पालन करने में पब्लिक आगे बढ़कर सहयोग करे. कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर यह जनहित के लिए है.
  • राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अगले एक महीने के सभी व्यक्तिगत मुलाकात कार्यक्रम स्थगित किए 
    कोरोना वायरस संक्रमितों की बढ़ती संख्या के बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अगले एक महीने तक किसी से भी व्यक्तिगत रूप से मुलाकात नहीं करने का फैसला किया है. गहलोत के एक महीने के सभी मुलाकात कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए हैं. 
  • जोधपुर में NLU के छात्र की मौत की जांच CBI को सौंपने की याचिका पर फैसला सुरक्षित
    जोधपुर (Jodhpur) में नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (NLU) के छात्र विक्रांत नगाइच (Vikrant Nagaich) की मौत के मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने केस को सीबीआई (CBI) को ट्रांसफर करने की छात्र की मां की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा है. कोर्ट ने मामले की जांच करने वाली राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) की केस को बंद करने के लिए फाइनल रिपोर्ट पर नाराजगी जताई.
  • राजस्थान : नजदीकी होटलों को भी कोविड देखभाल केंद्र के रूप में इस्तेमाल कर सकेंगे निजी अस्पताल
    कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए बिस्तर संख्या बढ़ाने के लिए राजस्थान सरकार ने निजी अस्पतालों को अपने निकटवर्ती होटलों का इस्तेमाल कोविड देखभाल केंद्र के रूप में करने की अनुमति शनिवार को दे दी. इस तरह के केंद्रों में लक्षणमुक्त मरीजों को रखा जा सकेगा.
  • राजस्थान में कोविड-19 के गंभीर मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में मिलेगा मुफ्त में इलाज
    राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य में कोविड-19 के गंभीर रोगियों को जरूरत होने पर निजी अस्पतालों में भी मुफ्त में इलाज मिल सकेगा. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने राजकीय अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड की उचित व्यवस्थाएं की हैं. इसके बाद भी भविष्य में और बेड की आवश्यकता होने पर निजी अस्पतालों से सहयोग लिया जाए.
  • सचिन पायलट ने इशारों-इशारों में फिर सब कुछ कह दिया?
    राजस्थान कांग्रेस में सचिन पायलट सहित उनके कैंप के 18 विधायकों की वापसी के बाद राजस्थान में कांग्रेस सरकार ने ध्वनिमत से विश्वास मत हासिल कर लिया है. यानी अब अशोक गहलोत सरकार को अब कोई संकट नहीं है.. आज जब 11 बजे राजस्थान विधानसभा की कार्यवाही शुरू हुई तो बैठने की व्यवस्था की गई कि सचिन पायलट विपक्ष के नेताओं के करीब पहुंच गए. दरअसल अब वो कैबिनेट का हिस्सा नही हैं और उनको उप मुख्यमंत्री पद से भी हटा दिया गया था. वो पहले सत्तापक्ष में सीएम गहलोत की कुर्सी के पास बैठते थे. आज सदन के इस नजारे पर  उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने हालिया राजनीतिक व अन्य घटनाक्रम, पुलिस के विशेष कार्यबल द्वारा नोटिस दिए जाने सहित अनेक बातों में पायलट का जिक्र किया. इस पर सचिन पायलट ने उन्हें बीच में टोकते हुए 'वह (राठौड़) बार- बार मेरा नाम ले रहे हैं. मैंने सोचा कि हमारे अध्यक्ष व मुख्य सचेतक ने मेरी सीट यहां क्यों रखी है? मैंने दो मिनट सोचा और फिर देखा कि यह सरहद है एक तरफ पक्ष है और दूसरी तरफ विपक्ष.... तो सरहद पर किसको भेजा जाता है.  सबसे मजबूत योद्धा को भेजा जाता है.' पायलट ने कहा, 'आज इस विश्वास मत में जो चर्चा हो रही है...उसमें बहुत से बातें बोली गयीं बहुत सी बातें बोली जाएंगी. समय के साथ साथ सब बातों का खुलासा होगा.'
  • राजस्थान सरकार के मंत्री शांति धारीवाल ने कहा- गहलोत ने छठी का दूध याद दिला दिया
    सचिन पायलट की वापसी के बाद राजस्थान में कांग्रेस का आत्मविश्वास चरम पर है. सरकार की ओर से विश्वास मत का प्रस्ताव सदन में पेश कर दिया गया है. जिस पर चर्चा जारी है. बीजेपी और कांग्रेस की ओर से चार-चार विधायकों को बोलेंगे.  संसदीय कार्यमंत्री और सीएम गहलोत के सबसे करीबियों में से एक शांति धारीवाल ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा, हमने यहां मध्य प्रदेश या गोवा की तरह नहीं होने दिया. जिस तरह से महाराणा प्रताप ने हराया था उसी तरह से अशोक गहलोत ने भी हराया  गहलोत ने छठी का दूध याद दिला दिया है.'इसके साथ ही शांति धारीवाल ने कहा गृहमंत्री अमित शाह और पीएम मोदी पर हमला बोला. इससे पहले सदन की कार्यवाही सुबह 11 बजे शुरू हुई.
  • राजस्‍थान: जीत की कोई उम्‍मीद नहीं होने के बावजूद बीजेपी इस‍लिए लाना चाहती है अविश्‍वास प्रस्‍ताव..
    जानकारी के अनुसार, बीजेपी ने इस संभावना पर चर्चा की है कि गहलोत विश्‍वास प्रस्‍ताव लगाए और इसे 'वाइस वोट' के आधार पर पास करा लेंगे. ऐसे में विपक्ष के पास अहम मुद्दों को उठाने का मौका ही नहीं बचेगा. बीजेपी से जुड़े सूत्र बताते हैं कि उसकी रणनीति बहस के लिए जोर देकर गहलोत सरकार को कोरोना वायरस सहित अहम मुद्दों पर 'बैकफुट' में लाने की है.
  • राजस्थान : पायलट से मिलकर बोले CM गहलोत - जो बातें हुईं भूल जाओ, क्योंकि अपने तो अपने होते हैं...
    सीएम ने बैठक में कहा, 'जो बातें हुई उन्हें अब भूल जाओ हम इन 19 विधायकों के बिना भी बहुमत साबित कर देते लेकिन फिर वह खुशी नहीं मिलती क्योंकि अपने तो अपने होते हैं.' इसके पीछे गहलोत का संदेश बीतों बातों यानी कड़वाहट को भुलाकर आगे को ओर देखने का रहा.
12345»

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com