डिलीवरी के वक्त नर्सों ने बच्चे को इतनी जोर से खींचा, सिर गर्भाशय में ही रह गया

जैसलमेर के रामगढ़ हेल्थ सेंटर में नर्सों ने एक प्री-मैच्योर डिलीवरी के दौरान कथित रूप से बच्चे को इतनी ज़ोर से खींचा कि उसका सिर गर्भाशय में ही रह गया.

डिलीवरी के वक्त नर्सों ने बच्चे को इतनी जोर से खींचा, सिर गर्भाशय में ही रह गया

राजस्थान के जैसलमेढ़ में सरकारी स्वास्थ्य केंद्र की लापरवाही (तस्वीर प्रतीकात्मक)

जयपुर:

राजस्थान के जैसलमेर में रामगढ़ स्वास्थ्य में नर्सों की लापरवाही का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिस पर न सिर्फ यकीन करना मुश्किल होगा, बल्कि जानकर शरीर में सिहरन भी पैदा हो जाएगी. दरअसल, जैसलमेर के रामगढ़ हेल्थ सेंटर में नर्सों ने एक प्री-मैच्योर डिलीवरी के दौरान कथित रूप से बच्चे को इतनी ज़ोर से खींचा कि उसका सिर गर्भाशय में ही रह गया. महिला को बाद में जैसलमेर के एक अस्पताल में रेफर किया गया, और फिर जोधपुर भेजा गया, जहां बच्चे का सिर गर्भाशय में से निकाला गया.

तमिलनाडु में HIV पीड़ित युवक की मौत, गर्भवती महिला को चढ़ाया गया था उसका खून 

जैसलमेर के जवाहर अस्पताल के डॉ सांखला ने बताया, "रामगढ़ हेल्थ सेंटर से मिली रिपोर्ट में कहा गया कि डिलीवरी कर दी गई है... इसके अलावा परिवार ने भी नहीं बताया कि बच्चे का सिर गर्भाशय के भीतर ही है... उसकी जांच करने पर प्लेसेन्टा (placenta) को सख्त पाया गया, और फिर उसे जोधपुर रेफर किया गया."

सात बेटियों के बाद ससुरालवालों को थी बेटे की चाहत, 10वीं बच्चे को जन्म देते वक्त हुई महिला की मौत

राजस्थान राज्य मानवाधिकार आयोग ने घटना का संज्ञान ले लिया है, और जैसलमेर के SP तथा CMHO से रिपोर्ट तलब की है. बता दें कि अस्पतालों या फिर नर्सों की लापरवाही का यह पहला मामला नहीं है. गुरुवार को भी अस्पताल में डॉक्टर की गैरमौजूदगी की वजह से एक गर्भवती महिला को फर्श पर ही बच्चे को जन्म देने के लिए मजबूर होना पड़ा. 


वीडियो - गर्भावस्था में भी अकेली हैं ये

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com