NDTV Khabar
होम | राजस्थान

राजस्थान

  • मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ के बाद अब राजस्थान सरकार ने भी किया किसानों का कर्ज माफ
    मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ के बाद अब राजस्थान की कांग्रेस सरकार (Rajasthan loan waiver) ने भी कर्जमाफी की घोषणा की है. राजस्थान में 2 लाख रुपये तक के कर्ज माफ किए जाएंगे. इससे राज्य सरकार पर 18 हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा. बता दें कि तीनों राज्यों में कांग्रेस द्वारा नई सरकार के गठन के बाद किसानों का कर्जमाफ किया गया है.
  • राजस्थान में गहलोत सरकार बनने के बाद 40 आईएएस, 8 आरएएस अधिकारियों के तबादले
    पर्यटन और वन विभाग के प्रमुख शासन सचिव कुलदीप रांका को मुख्यमंत्री का प्रमुख सचिव बनाया गया है.
  • CM गहलोत के शपथ ग्रहण में जब सारे मतभेद भूल वसुंधरा ने भतीजे ज्योतिरादित्य को लगाया गले
    वसुंधरा राजे ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता माधवराव सिंधिया की बहन हैं. माधवराव सिंधिया की साल 2001 में प्लेन हादसे में मौत हो गई थी. ज्योतिरादित्य सिंधिया को गले लगाए वसुंधरा राजे की तस्वीर काफी वायरल हो रही है. तस्वीर में देखा जा सकता है कि वसुंधरा ने ज्योतिरादित्य को गले लगा रखा है और स्नेह से उनकी आंखें बंद हैं.
  • तीसरी बार राजस्थान के मुख्यमंत्री बने अशोक गहलोत के पास है कुल इतनी संपत्ति
    पहली बार 1 दिसबंर 1998 में वो मुख्यमंत्री बने थे और पांच साल तक कांग्रेस सरकार चलाई थी. साल 2008 में कांग्रेस पार्टी राजस्थान में फिर से सत्ता में आई और गहलोत दूसरी बार मुख्यमंत्री बने थे.
  • युवाओं की बात करने वाले राहुल गांधी ने आखिर क्यों 'अनुभवी चेहरों' को चुना?
    राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में क्रमश: अशोक गहलोत, कमलनाथ और भूपेश बघेल मुख्यमंत्री बने. हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के फैसले पर सवाल भी उठे कि आखिर उन्होंने खासकर राजस्थान और मध्यप्रदेश में युवा चेहरों- सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया को मौका क्यों नहीं दिया? 
  • राजस्थान : शपथ समारोह में विपक्ष एकजुट, लेकिन अखिलेश और मायावती नदारद; जानिए- क्या हैं इसके मायने
    कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्ष को एकजुट करने की कवायद काफी दिनों से चल रही है लेकिन कुछ दल एक झंडे के तले आने में परहेज करते दिख रहे हैं. हालिया विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को तीन राज्यों में मिली फतह से एकजुटता का रास्ता प्रबल तो हुआ लेकिन जब स्टालिन ने लोकसभा चुनाव में विपक्ष के नेतृत्व के लिए राहुल गांधी का नाम लिया तो कुछ दलों की भौंहें टेढ़ी हो गईं. इसका असर सोमवार को राजस्थान में नए मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री के शपथ समारोह में दिखाई दिया.
  • राजस्थान में शपथग्रहण के बाद राहुल गांधी ने कहा- हम अपनी ज़िम्मेदारी पूरी तरह निभाएंगे
    राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के शपथ ग्रहण के बाद  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस राज्य की जनता की सेवा करने की अपनी जिम्मेदारी पूरी तरह से निभाएगी.
  • राजस्थान के उप मुख्यमंत्री बने सचिन पायलट के बारे में 5 अहम बातें
    राजस्थान में अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है उनके साथ सचिन पायलट ने भी शपथ लिया है. उनको उप मुख्यमंत्री बनाया गया है. राजस्थान में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीच का रास्ता निकालते हुए तय किया है कि अशोक गहलोत को सीएम और सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री बनाया. हालांकि दोनों के समर्थकों के बीच जमकर नारेबाजी हुई. सचिन पायलट के एक समर्थक ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा है कि अगर पायलट को सीएम नहीं बनाया गया तो लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को इसका नुकसान उठाना पड़ सकता है. आपको बता दें कि सचिन पायलट ने उमर अब्दुल्ला की बेटी सारा से प्रेम विवाह किया था. बताया जाता है कि सारा ने अपने परिवार के खिलाफ जाकर सचिन से शादी की थी. दोनों की मुलाकात विदेश में हुई थी. सचिन पायलट ने इस बार टोंक विधनासभा सीट से चुनाव जीता है. चार साल पहले राजस्थान के प्रदेशाध्यक्ष का पद संभाला था. उनके सामने पस्त पड़ी कांग्रेस में फिर से जान फूंकने की बड़ी चुनौती थी. पायलट ने इस जिम्मेदारी को बखूबी निभाया और लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस को दो सीटें जिताकर अपने तेवर दिखा दिए.
  • 2019 में लोकसभा चुनाव जीतने के लिए अब कांग्रेस को संभाल कर रखने होंगे 65 'कदम'
    कई सालों के बाद कांग्रेस को खुशी नसीब हुई है. उसके आज तीन-तीन मुख्यमंत्रियों का शपथग्रहण है. छत्तीसगढ़ में रविवार को भूपेश बघेल को सीएम बनाने का ऐलान किया है. इस फैसले कांग्रेस ने एक तीर से दो शिकार किए हैं. बघेल ओबीस समुदाय से आते हैं.
  • UPDATES: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर कमलनाथ ने ली शपथ, समारोह में राहुल गांधी समेत अन्य वरिष्ठ नेता रहे मौजूद
    सके बाद भोपाल में कमलनाथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. वहीं शाम करीब चार बजे भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ सीएम की शपथ लेंगे. इन तीनों राज्यों में विधानसभा चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस सरकार बना रही है. राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ तीनों ही राज्यों में कांग्रेस ने जीत हासिल की है. इन तीनों राज्यों में भाजपा की सरकार थी.
  • अशोक गहलोत, कमलनाथ और भूपेश बघेल आज लेंगे CM पद की शपथ, विपक्षी एकता का होगा प्रदर्शन
    मध्यप्रदेश में कांग्रेस विधायक दल के नेता कमलनाथ सोमवार को यहां एक भव्य समारोह में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. कमलनाथ दोपहर 1 बजे शपथ लेंगे.
  • बीजेपी शासन के दौरान 6 महीने जेल में रहा यह किसान नेता, अब बीजेपी प्रत्याशी को ही दी चुनाव में पटखनी
    बलवान पूनिया ने राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के भद्रा विधान सभा क्षेत्र से बीजेपी प्रत्याशी संजीव कुमार को लगभग 23 हजार वोटों से मात दी है. आपको बता दें कि संजीव कुमार 2013 में बीजेपी टिकट से यहां चुनाव जीते थे, जबकि 1998 में कांग्रेस केे टिकट से जीत हासिल की थी, लेकिन इस बार बलवान पूनिया ने धूल चटा दी. 
  • कर्नाटक के बाद एक बार फिर दिखेगी विपक्षी एकता, जानें- राजस्थान, MP और छत्तीसगढ़ में शपथ ग्रहण में कौन-कौन होगा शामिल
    कांग्रेस ने शुक्रवार को एलान किया था कि अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री और सचिन पायलट बतौर डिप्टी सीएम शपथ लेंगे. दोनों ही सोमवार को जयपुर के अल्बर्ट हॉल परिसर में शपथ लेंगे. मध्य प्रदेश में कमलनाथ बतौर सीएम दोपहर करीब 1.30 बजे लाल परेड ग्राउंड में शपथ ग्रहण करेंगे. इसके अलावा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री का एलान रविवार दोपहर किया जाएगा, यहां शपथ ग्रहण समारोह सोमवार शाम करीब 4.30 होगा.
  • जयपुर में तीन जगह बम की सूचना से हड़कंप, पुलिस को अफवाह की आशंका
    जयपुर के तीन इलाकों में बम रखे होने की एक कथित सूचना से शनिवार को पुलिस में हड़कंप मच गया. पुलिस ने तुरत फुरत उक्त इलाकों की घेराबंदी कर दी और वहां से वाहनों की आवाजाही रोक दी. पुलिस के अनुसार एक अज्ञात व्यक्ति ने शनिवार देर शाम नियंत्रण कक्ष में फोन किया कि चांदपोल के हनुमान मंदिर, सांगानेरी गेट व जयपुर हवाई अड्डे पर बम रखे हुए हैं.
  • अशोक गहलोत होंगे राजस्थान के मुख्यमंत्री, सचिन पायलट चुने गए डिप्टी सीएम
    राजस्थान में कांग्रेस की जीत के बाद से ही इस बात पर सबकी नजरें टिकीं थीं कि आखिर राजस्थान का सीएम कांग्रेस किसे बनाती है. मगर अब राजस्थान के सीएम पर से सस्पेंस खत्म हो गया है. राहुल गांधी ने अशोक गहलोत के नाम पर मंजूरी दे दी है.
  • राजस्थान का 'पायलट' कौन? पर बोले अशोक गहलोत- BJP ने यूपी में 7 दिन लगाए थे
    राजस्थान के मुख्यमंत्री के नाम को लेकर कांग्रेस के भीतर माथापच्ची जारी है. राजस्थान की कमान अशोक गहलोत के हाथ में होगी या सचिन पायलट संभालेंगे सत्ता की कमान, इस पर अबब भी संशय बना है. हालांकि, माना जा रहा है कि आज राहुल गांधी के साथ बैठक के बाद इस बात पर फैसला हो जाएगा कि अशोक गहलोत या फिर सचिन पायलट. हालांकि, राजस्थान के लिए सीएम का नाम तय नहीं होने पर कांग्रेस की आलोचनाएं भी हो रही हैं और बीजेपी इस पर हमला बोल रही है. इसके जवाब में खुद अशोक गहलोत सामने आए हैं. 
  • सचिन के पक्ष में सड़कों पर उतरा गुर्जर समुदाय, सीएम नहीं बनाने पर कांग्रेस को बर्बाद करने की धमकी
    मध्य प्रदेश में भले ही कांग्रेस ने काफी माथापच्ची के बाद सीएम के नाम का ऐलान कर दिया हो, मगर राजस्थान में मुख्यमंत्री को लेकर कांग्रेस में अब भी दुविधा बनी हुई है.  आज यानी शुक्रवार को फिर राजस्थान के सीएम के नाम को लेकर राहुल गांधी के घर बैठक होनी है. मुख्यमंत्री पद के दोनों दावेदार अशोक गहलोत और सचिन पायलट दिल्ली में ही जमे हुए हैं. देर रात भी दोनों नेता राहुल गांधी के घर पहुंचे, मगर अभी तक स्थिति साफ नहीं हो पाई. इससे पहले गुरुवार के दिन में भी दोनों नेताओं ने राहुल गांधी से मुलाक़ात कर अपनी-अपनी दावेदारी पेश की. हालांकि, अब सचिन पायलट के समर्थन में लोग सड़कों पर उतरने लगे हैं और सचिन को मुख्यमंत्री न बनाए जाने पर अंजाम भुगतने की भी धमकी दे रहे हैं. 
  • मुख्यमंत्री पर मंथन : राजस्थान के मुख्यमंत्री होंगे अशोक गहलोत, सचिन पायलट डिप्टी सीएम, छत्तीसगढ़ पर सस्‍पेंस
    मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में मुख्यमंत्री के नाम पर बना सस्पेंस खत्म हो गया है और लोकसभा चुनाव 2019 से पहले अनुभव को तरजीह देते हुए कांग्रेस ने कमलनाथ के नाम को मुख्यमंत्री पद लिए हरी झंडी दे दी है. हालांकि, राजस्थान (Rajasthan) और छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) पर फैसला अभी भी बाकी है. राजस्थान में मुख्यमंत्री के नाम को लेकर सुबह से शुरू हुआ सियासी ड्रामा देर रात तक चला. मगर तब भी किसी एक नाम पर सहमति नहीं बनी. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों पर फैसला शुक्रवार के लिए टाल दिया है क्योंकि वह इस विषय पर पार्टी नेताओं से और चर्चा करना चाहते हैं. सूत्रों के अनुसार गांधी ने छत्तीसगढ़ के नये मुख्यमंत्री पर फैसला करने के लिए गुरुवार को प्रदेश के पार्टी नेताओं से चर्चा की मगर दावेदारों से और चर्चा करने के लिए फैसला शुक्रवार के लिए टाल दिया. कांग्रेस अध्यक्ष ने राजस्थान के मुख्यमंत्री पद के दावेदारों अशोक गहलोत और सचिन पायलट के साथ कई बैठकें कीं, लेकिन उनके बीच कोई सहमति नहीं बन पायी. पायलट ने इस शीर्ष पद के लिए दावा किया. राहुल गांधी के निवास के बाहर पायलट के समर्थकों ने उनके समर्थन में नारे भी लगाए.
  • जनता ने चंदा देकर चुनाव लड़वाया और बीजेपी-कांग्रेस को धूल चटाकर विधायक बन गया यह कर्जदार किसान
    लोकतंत्र में सब संभव है. राजस्थान के विधानसभा चुनाव में एक विरला उदाहरण सामने आया जहां एक कर्ज से दबे रहने वाले किसान ने बीजेपी और कांग्रेस के दमदार उम्मीदवारों को धूल चटा दी. और चुनाव में भी इस किसान को कोई राशि खर्च नहीं करनी पड़ी. चुनाव पर भारी व्यय करने में असमर्थ यह किसान जनता द्वारा एकत्रित पैसों से चुनाव लड़ा और विधायक चुना गया.
  • जनता ने चंदा देकर चुनाव लड़वाया और बीजेपी-कांग्रेस को धूल चटाकर विधायक बन गया यह कर्जदार किसान
    लोकतंत्र में सब संभव है. राजस्थान के विधानसभा चुनाव में एक विरला उदाहरण सामने आया जहां एक कर्ज से दबे रहने वाले किसान ने बीजेपी और कांग्रेस के दमदार उम्मीदवारों को धूल चटा दी. और चुनाव में भी इस किसान को कोई राशि खर्च नहीं करनी पड़ी. चुनाव पर भारी व्यय करने में असमर्थ यह किसान जनता द्वारा एकत्रित पैसों से चुनाव लड़ा और विधायक चुना गया.
«1234567»

Advertisement