NDTV Khabar
होम | राजस्थान

राजस्थान

  • राजस्थान विधानसभा चुनाव परिणाम : वसुंधरा राजे सरकार के कई दिग्गज मंत्रियों को मिली पराजय
    वसुंधरा राजे सरकार में कद्दावर रहे कई मंत्री विधानसभा चुनाव हार गए हैं. इनमें परिवहन मंत्री युनुस खान, खान मंत्री सुरेंद्र पाल सिंह टीटी, यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी शामिल हैं. जीतने वाले मंत्रियों में गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया व शिक्षा मंत्री किरण महेश्वरी का नाम प्रमुख है.
  • Election Results 2018: पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में इन पार्टियों को मिला नोटा से भी कम वोट
    Final Election Results: पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के लिये मंगलवार को हुयी मतगणना (Assembly Election Results 2018) में सभी उम्मीदवारों को खारिज करने (नोटा) के विकल्प को भी मतदाताओं ने तमाम क्षेत्रीय दलों से ज्यादा तरजीह दी है. चुनाव आयोग द्वारा जारी चुनाव परिणाम के मुताबिक देर शाम तक की मतगणना के आधार पर छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh Election Results) में सर्वाधिक 2.1 प्रतिशत वोट नोटा के खाते में गये.
  • Rajasthan Election Results 2018: अजीत सिंह की पार्टी RLD का राजस्थान में खुला खाता, भरतपुर सीट जीती
    Assembly Elections 2018: राजस्थान विधानसभा चुनावों (Rajasthan Election Results) में अजीत सिंह की पार्टी राष्ट्रीय लोकदल (RLD) का भी खाता खुल गया है. राजस्थान विधानसभा चुनाव में RLD कुल दो सीटों पर चुनाव लड़ी थी, जिसमें से भरतपुर सीट पर पार्टी ने जीत दर्ज की है. भरतपुर से आरएलडी के डॉ. सुभाष गर्ग चुनाव जीतने में कामयाब रहे हैं.
  • Election Commission Of India Assembly Polls Results: राजस्थान, मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना चुनाव के नतीजे यहां देखें
    Vidhan Sabha Results Live Updates: चुनाव आयोग (Election Commission Of India) ने पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे जारी करना शुरू कर दिया है. कांग्रेस ने बीजेपी से राजस्थान और छत्तीसगढ़ छीन लिया है. वहीं, मध्यप्रदेश में अब भी पेंच फंसा हुआ है. दूसरी तरफ तेलंगाना में पूर्व मुख्यमंत्री और के. चंद्रशेखर राव की पार्टी टीआरएस को बहुमत मिल गया है. टीआरएस ने 80 से ज्यादा सीटों पर बढ़त बनाई हुई है. मिजोरम में शुरुआत से ही एमएनएफ ने बढ़त बनाई हुई है, जबकि कांग्रेस पिछड़ी हुई दिख रही है. कुल मिलाकर अभी तक के रुझानों में बीजेपी के लिए झटका है. कांग्रेस को जहां लगता था कि सत्ता विरोधी लहर का फायदा उठाकर वह मध्य प्रदेश और राजस्थान में बीजेपी को साफ कर देगी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया, लेकिन छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को सफलता मिली है. देखने वाली बात यह है कि लोकसभा चुनाव से कुछ महीने पहले आए इन चुनाव परिणामों का देश की राजनीति पर क्या असर पड़ता है. 
  • बीजेपी के 'चाणक्य' अमित शाह को ऐसे मिला 'चौथा झटका', कांग्रेस मुक्त भारत का सपना हुआ चकनाचूर!
    लोकसभा चुनाव 2019 से पहले राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में बीजेपी को बड़ा झटका लगा है. राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को मिली जीत ने एक बार फिर से बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह की रणनीति पर सवाल उठने लगे हैं. हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब अमित शाह की रणनीति असफल रही है. बल्कि इससे पहले भी तीन बार अमित शाह की सारी रणनीति धरी की धरी रह गई थी. पांच राज्यों के चुनाव के नतीजों से पहले भी तीन राज्यों मसलन, कर्नाटक, दिल्ली और बिहार ने अमित शाह की चुनावी रणनीति को ध्वस्त कर दिया है. अभी तक के रुझानों और नतीजों में बीजेपी को जबरदस्त झटका लगा है. राजस्थान और छत्तीसगढ़ बीजेपी के हाथों से निकल गया वहीं, एमपी में भी सरकार बनाने का दावा कर चुकी है. 
  • आखिरकार राहुल गांधी की मेहनत लेकर आई रंग? कुछ हफ्तों में की थी 82 रैलियां
    कांग्रेस के महासचिव अशोक गहलोत का कहना है कि इन चुनावों में खासकर राजस्थान में पार्टी के अच्छे प्रदर्शन का श्रेय राहुल गांधी के नेतृत्व को जाता है. मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के चुनाव प्रचार अभियान से जुड़े पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी के मुताबिक, राहुल गांधी ने 7 अक्टूबर को चुनाव आयोग द्वारा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करने के बाद सबसे अधिक 25 जनसभाएं मध्य प्रदेश में कीं. उन्होंने मध्य प्रदेश में 4 रोड शो भी किए. इसके अलावा उन्होंने राजस्थान और छत्तीसगढ़ में 19-19 चुनावी सभाओं को संबोधित किया. वहीं राजस्थान में 2 और छत्तीसगढ़ में एक रोड शो भी किया.
  • राजस्थान में कांग्रेस का 'राजतिलक', मगर अब पार्टी के सामने है यह 'बड़ा सिरदर्द'
    राजस्थान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत हुई है. कांग्रेस राजस्थान में बहुमत के आंकड़े से भले एक सीट दूर रह गई, मगर अपने सहयोगियों के समर्पाथन से सरकार बनाने के आंकड़े को पार कर चुकी है. बीजेपी के पास मौका था राजस्थान के सियासी इतिहास को बदलने का, मगर सचिन पायलट और अशोक गहलोत की जोड़ी ने वसुंधरा राजे की सरकार को पटखनी दे दी और राजस्थान में कांग्रेस का राजतिलक करवा दिया. चुनावी नतीजों में राजस्थान में कांग्रेस की सरकार तो अब बनती दिख रही है, मगर कांग्रेस के भीतर असल माथा-पच्ची अब शुरू होने वाली है. आज के परिणाम के नतीजों से यह स्पष्ट हो चुका है कि राजस्थान में कांग्रेस का राजतिलक तो होगा, मगर मुख्यमंत्री का ताज किसके सिर पर होगा, यह अभी भी बड़ा सवाल है और इस सवाल पर अब तक कोई खुलकर बोलने के लिए तैयार नहीं है. हालांकि, यह बात तय है कि अशोक गहलोत या फिर सचिन पायलट में से ही कोई एक राजस्थान में कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद का दावेदार होगा. लेकिन सचिन पायलट और अशोक गहलोत दोनों में से किसी एक को सीएम के रूप में चुनना इतना आसान भी नही हैं. 
  • राजस्थान विधानसभा चुनाव परिणाम : क्या 'भितरघात' ने कांग्रेस को बहुमत से पीछे कर दिया?
    राजस्थान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए सहयोगियों की जरूरत पड़ सकती है. खबर है कि सचिन पायलट 8 निर्दलीयों से संपर्क कर रहे हैं.
  • राजस्थान में बहुमत के करीब कांग्रेस, सरकार बनाने के लिए सचिन पायलट ने चला यह दांव
    राजस्थान विधानसभा चुनावों के रुझानों में कांग्रेस बहुमत के करीब जाती दिख रही है. ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि वसुंधरा राजे की सरकार इस बार इतिहास नहीं बना पाएगी और कांग्रेस सत्ता में आ जाएगी. राजस्थान में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस ने अब अपनी तैयारियां शुरू कर दी है.  सूत्रों की मानें तो बहुमत का आंकड़ा छूने के लिए कांग्रेस के सचिन पायलट 8 निर्दलीयों के संपर्क में हैं.
  • राजस्थान में नतीजों से पहले अशोक गहलोत का हमला- कांग्रेस मुक्त भारत की बात करने वाले खुद मुक्त हो जाएंगे
    राजस्थान विधानसभा चुनावों के रुझानों में कांग्रेस बहुमत के करीब जाती दिख रही है. ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि वसुंधरा राजे की सरकार इस बार इतिहास नहीं बना पाएगी और कांग्रेस सत्ता में आ जाएगी. हालांकि, अभी तक नतीजों की तस्वीर पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो पाई है. हालांकि, नतीजों से पहले कांग्रेस के दिग्गज नेता अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनेगी और इसके लिए उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशियों को भी साथ आने का न्योता दिया है. 
  • Rajasthan Elections Results 2018: कांग्रेस ने बीजेपी के हाथों से छीना राजस्‍थान
    राजस्थान विधानसभा चुनाव परिणाम 2018:राजस्थान में कांग्रेस बनी सबसे बड़ी पार्टी, सरकार बनाने की तैयारी शुरू.
  • BJP विधायक और जयपुर राजघराने की राजकुमारी ने 21 साल पहले समाज से लड़कर किया था प्रेम विवाह, अब मांगा तलाक
    जयपुर राजपरिवार (Jaipur Royal Family) की दीया कुमारी (Diya Kumari) ने शादी के 21 साल बाद अपने पति नरेंद्र सिंह (Narendra Singh) से तलाक लेने का फैसला किया है. दोनों ने प्रेम विवाह किया था. राजकुमारी दीया कुमारी और उनके पति नरेंद्र सिंह की ओर से जारी बयान में कहा गया है 'हमारे लिए यह बहुत निजी मामला है, इसलिये इस बारे में सिवाय इसके कि हम लोगों ने आपसी रजामंदी से अलग होने का निर्णय लिया है, और कुछ नहीं बताना चाहते हैं.'
  • EVM पर फिर सवाल! राजस्थान में गांववालों को हाईवे पर पड़ी मिली EVM बैलेट यूनिट
    पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में ईवीएम अनियमितता की कई घटनाएं सामने आने के बीच राजस्थान में बैलेट यूनिट सड़क पर पड़ी मिलने पर और सवाल उठने लगे. मध्य प्रदेश में सबसे पहले ईवीएम अनियमितता की घटना देखने को मिली थी, जहां कांग्रेस सांसद विवेक तन्खा ने चुनाव आयोग में शिकायत की थी कि मतदान के दो दिन बाद सागर जिला कलेक्टर ऑफिस में एक बिना रजिस्ट्रेशन वाली स्कूल बस में ईवीएम लाई गई थीं. उन्होंने इनके साथ छेड़छाड़ होने की संभावना जताई थी.
  • राजस्थान की CM वसुंधरा राजे को 'मोटी' बोलने के बाद अब शरद यादव ने गलती मानी, कही यह बात...
    बिहार के वरिष्ट नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव (Sharad Yadav) ने राजस्थान विधानसभा चुनाव-प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) पर एक विवादित टिप्पणी की थी. दरअसल, राजस्थान के अलवर में चुनाव प्रचार के आखिरी दिन शरद यादव ने वसुंधरा राजे को 'मोटी' बताया था और कहा था कि उन्हें आराम देने की जरूरत है.
  • Exit Polls: कांग्रेस राजस्थान में किसे बनाएगी मुख्यमंत्री, MP और छत्तीसगढ़ में बुरी तरह फंसी बीजेपी, 10 बातें
    मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग का दौर खत्म हो चुका है और अब उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद है. मगर परिणाम से पहले टीवी चैनलों के एग्जिट पोल ने इस बात के संकेत दे दिए हैं कि किस राज्य में कौन सी पार्टी बहुमत में आएगी और कौन सी पार्टी सत्ता से बेदखल होगी. राजस्थान और तेलंगाना में वोटिंग खत्म होने के बाद शुक्रवार को आए एग्जिट पोल के नतीजों के देखें तो बीजेपी के लिए ये संकेत अच्छे नहीं हैं. एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्स में बीजेपी मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में बुरी तरह फंस गई है और राजस्थान में बाजी कांग्रेस के खेमे में पलट गई है. एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्स के मुताबिक, मध्य प्रदेश में बीजेपी भले ही कांग्रेस पार्टी से एक सीट अधिक हो, मगर वह वहां बुरी तरह फंसी हुई नजर आ रही है. मध्य प्रदेश में बीजेपी को 110 और कांग्रेस को 109 सीटें मिलती नजर आ रही है. वहीं, कांग्रेस प्लस को राजस्थान में 110 और बीजेपी को 78 सीटें मिलती नजर आ रही हैं. वहीं, छत्तीसगढ़ में भी बीजेपी फंस चुकी है. बीजेपी को 41 और कांग्रेस को 42 सीटें मिलती दिख रही हैं. बहुजन समाज पार्टी व उसके सहयोगी दलों को 4 और अन्य को 3 सीटें मिलती दिख रही हैं. तो चलिए जानते हैं एग्गिट पोल की 10 अहम बातों को....
  • एग्जिट पोल ने कराया कांग्रेस का राजस्थान में 'राजतिलक', मगर मुख्यमंत्री कौन, जानें अशोक गहलोत का जवाब
    भले ही राजस्थान में शुक्रवार को जारी एग्जिट पोल के मुताबिक कांग्रेस की सरकार बनती दिख रही है, मगर कांग्रेस के भीतर असल माथा-पच्ची अब शुरू होने वाली है. 11 दिसंबर के परिणाम में अगर एग्जिट पोल के नतीजे सही साबित होते हैं तो राजस्थान में कांग्रेस का राजतिलक तो होगा, मगर मुख्यमंत्री का ताज किसके सिर पर होगा, यह अभी भी बड़ा सवाल है और इस सवाल पर अब तक कोई खुलकर बोलने के लिए तैयार नहीं है. हालांकि, यह बात तय है कि अशोक गहलोत या फिर सचिन पायलट में से ही कोई एक राजस्थान में कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद का दावेदार होगा. साथ ही जब तक नतीजों की घोषणा नहीं हो जाती, कांग्रेस पार्टी यह फैसला सुरक्षित रखना चाहती है. 
  • Rajasthan Assembly Elections Exit Polls: राजस्थान में इतिहास नहीं बना पाएगी बीजेपी, कांग्रेस के हाथ में आ सकती है सत्ता
    Rajasthan Assembly Elections : एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्‍स के अनुसार यहां कांग्रेस को 110 सीटें मिलती दिख रही हैं जबकि बीजेपी को 78 सीटें. बसपा के खाते में एक सीट जाती दिख रही है जबकि अन्‍य 10 सीटों पर जीत सकते हैं.
  • शरद यादव की राजस्थान की मुख्यमंत्री पर विवादित टिप्पणी, बोले- वसुंधरा को आराम दो, क्योंकि...
    बिहार के वरिष्ट नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव (Sharad Yadav) ने राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए एक रैली के दौरान एक बार फिर से विवादों में आ गए हैं. शरद यादव ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) पर एक विवादित टिप्पणी की है. दरअसल, राजस्थान के अलवर में चुनाव प्रचार के आखिरी दिन शरद यादव ने वसुंधरा राजे को 'मोटी' बताया और कहा कि उन्हें आराम देने की जरूरत है. 
  • Assembly Election 2018: ताबड़तोड़ रैलियों के बाद अब जनता की बारी, राजस्थान और तेलंगाना में वोटिंग आज, 10 बातें
    विधानसभा चुनाव 2019 में राजस्थान की 200 और तेलंगाना की 119 सीटों के लिए आज वोटिंग है. राजस्थान विधानसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी के लिए काफी अहम है, क्योंकि यहां बीजेपी के लिए सत्ता बचाने की चुनौती है. वहीं कांग्रेस के लिए 2019 लोकसभा चुनाव से पहले जीत हासिल कर पटरी पर लौटने का मौका है. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जीत की उम्मीद लगाए बैठी हैं और उनका दावा है कि फिर से बीजेपी की वहां जीत होगी. उधर, तेलंगाना में मुख्यमंत्री केसीआर यानी के चंद्रशेखर राव के लिए दोहरी मुसीबत है. इस बार उनके सामने कांग्रेस और टीडीपी साथ-साथ है. टीआरएस के सामने कांग्रेस और चंद्रबाबू नायडू ही नहीं, बल्कि बीजेपी भी है. राजस्थान में आज 199 सीटों पर वोटिंग हो रही है, वहीं तेलंगाना की पूरे 119 सीटों पर. पांचों राज्यों में हो रहे चुनाव के परिणामों का ऐलान 11 दिसंबर को होगा. हालांकि, आज हो रही वोटिंग के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. 
  • Rajasthan Election 2018 Updates:  राजस्थान में मतदान खत्म, 72.14 फीसद हुई वोटिंग
    राजस्थान  में शुक्रवार को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान जारी है. 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा की फिलहाल 199 सीटों पर चुनाव के लिए मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच है.
«123456789»

Advertisement