NDTV Khabar

मॉब लिंचिंग के शिकार पहलू खान के बेटे पर कोर्ट जाने के दौरान जानलेवा हमला

राजस्थान में शनिवार को अज्ञात बदमाशों ने उस कार पर गोलीबारी की, जिसमें लिंचिंग में मारे गए डेयरी किसान पहलू खान का बेटा इरशाद और 2017 में हुए इस वारदात का एक अन्य मुख्य गवाह सवार था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मॉब लिंचिंग के शिकार पहलू खान के बेटे पर कोर्ट जाने के दौरान जानलेवा हमला

पहलू खान की पिछले वर्ष गायों की तस्करी के संदेह में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी.

जयपुर: राजस्थान में शनिवार को अज्ञात बदमाशों ने उस कार पर गोलीबारी की, जिसमें लिंचिंग में मारे गए पहलू खान का बेटा इरशाद और 2017 में हुए इस वारदात का एक अन्य मुख्य गवाह सवार था. ये लोग सुनवाई के लिए राजस्थान के बहरूद में स्थित एक अदालत जा रहे थे. पहलू खान की पिछले वर्ष गायों की तस्करी के संदेह में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी. इरशाद ने अलवर में मामला दर्ज कराया, जिसमें उसने कहा कि 'कुछ अज्ञात अपराधियों ने उसकी कार पर गोलीबारी की, जब वे लोग सुनवाई के लिए बहरूद जा रहे थे.'

यह भी पढ़ें : अलवर मॉब लिंचिंग का आरोपी बोला, मैंने ही रोका था पहलू खान का ट्रक और निकाली थी चाबियां

इरशाद के साथ मामले का मुख्य गवाह मौजूद था, जिसे अपना बयान दर्ज कराने के लिए अदालत के समक्ष पेश होना था. इसके अलावा कार में अजमत, रफीक, आरिफ और मानवाधिकार कार्यकर्ता असद मौजूद थे. इरशाद ने कहा कि सुबह 9 बजे के करीब एक बिना नंबर प्लेट वाली कार उनसे आगे बढ़ गई और कार में सवार एक बदमाश ने उनसे मामले में गवाह के तौर पर अदालत में पेश नहीं होने के लिए कहा.

यह भी पढ़ें : NDTV का खुलासा : जब भीड़ की हिंसा के मुख्‍य आरोपियों ने खुफिया कैमरे पर कबूला अपना गुनाह...

उसने कहा कि उसे कार को रोकने के लिए कहा गया, जब उन्होंने कार नहीं रोकी तो बदमाशों ने कार पर गोलीबारी की. इसके कुछ देर बाद, बदमाश बहरूद की तरफ चले गए और पहलू खान का बेटा और गवाह अलवर वापस आ गए. अलवर के पुलिस अधीक्षक राजेंद्र सिंह ने कहा कि मामले की पूरी जांच की जा रही है. उन्होंने कहा कि सीसीटीवी से एकत्रित फूटेज की जांच की जा रही है.

VIDEO : NDTV के स्टिंग को सबूत की तरह पेश करेगी पुलिस


टिप्पणियां
यह पूछे जाने पर कि उनलोगों ने अपनी शिकायत बहरूद में क्यों नहीं दर्ज करवाई? इरशाद ने कहा, 'वे लोग बहुत डर गए थे और इसलिए उन्होंने अपनी कार को अलवर में रोका.' हालांकि सिंह ने कहा कि उनलोगों ने अपनी शिकायत बहरूद में दर्ज करा दी है. पहूल खान के बेटे ने अधिकारियों से मामले को अलवर या तिजारा स्थानांतरित करने का आग्रह किया और कहा कि उन्हें लगातार धमकियां मिल रही हैं, इसलिए मामले की सुनवाई के लिए हर बार बहरूद की यात्रा करना उनके लिए खतरनाक है.

(इनपुट: IANS)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement