NDTV Khabar
होम |   रवीश से पूछें 

आपके सवाल, रवीश के जवाब

प्राइम टाइम एंकर, तीन बार रामनाथ गोयनका पुरस्कार से सम्मानित, 20 साल की पत्रकारिता, ब्लॉगर, फेसबुक पेज @RavishKaPage, ट्विटर @ravishndtv, लेखक - The Free Voice, इश्क़ में शहर होना.

सवाल

नमस्कार सर, आपसे जानना चाहता हूं कि झूठी राष्ट्रभक्ति और दिखावे को सब लोग क्यों नहीं पहचान पाते और कोई टिप्स दें, ताकि ये पहचाने जा सकें...

प्रशांत कुमार यादव
जवाब

@Anonymous , अंध देशभक्ति का असर होता है. भारत जैसे देश में जहां ज्ञान की असमानता भयंकर है, जहां पढ़ाई-लिखाई ढंग से नहीं हुई, ऐसे लोगों के बीच इस तरह के भावुक मुद्दे चल जाते हैं.

सवाल

आप दावा करते हैं कि बाकी न्यूज़ वाले सरकार के हाथों बिक चुके हैं और सिर्फ आपका चैनल सही ख़बरें देता है... क्या हर बात पर सरकार की आलोचना करना ही सही पत्रकारिता है...?

रूपेश अग्रवाल
जवाब

@रूपेश अग्रवाल , पत्रकारिता का काम है सत्ता से सवाल करना. 'गोदी मीडिया' आज के समय की सच्चाई है. एंकर एक विशेष राजनीतिक दल के लिए काम कर रहे हैं. अगर आपको यह ठीक लगता है, तो क्या किया जा सकता है.

सवाल

'चौकीदार' इतना झूठ क्यों बोलते हैं... क्या झूठ बोलकर ही सत्तासुख मिल सकता है...?

Ahmad ali
जवाब

@Ahmad ali , प्रधानमंत्री झूठ बोलते हैं. झूठ के साथ सवालों से ध्यान हटाने के लिए तरह-तरह की कहानियां बनाते हैं. जादू करते हैं. हां, भारत की जनता ने साबित किया है कि झूठ बोलकर चुनाव जीता जा सकता है.

सवाल

सर, जनता इस चुनाव में किस मुद्दे पर वोट करे...? देश में इस समय बेरोज़गारी बहुत बढ़ी हुई है, लेकिन किसी भी प्लेटफॉर्म पर इसे बड़े मुद्दे के रूप में प्रोजेक्ट नहीं किया जा रहा... इसके अलावा सभी चीज़ों पर बहस हो रही है, और मीडिया में गिनती के ही लोग हैं, जो इसे मुद्दा मान रहे हैं...

राकेश कुमार
जवाब

@राकेश कुमार , क्या बेरोज़गार चाहते हैं कि वही मुद्दा हो...? वे चाहते, तो ज़रूर नेता मजबूर होते बेरोज़गारी पर बोलने के लिए.

सवाल

क्या आज की तारीख में मीडिया पर विश्वास किया जा सकता है...?

आलोक
जवाब

@आलोक , मैं मीडिया के सीमित हिस्से पर ही विश्वास करता हूं. 90 प्रतिशत मीडिया 'गोदी मीडिया' हो गया है और भारत के लोकतंत्र को बर्बाद करने पर तुला है. जो ठीक मीडिया है, उनके यहां भी कई समस्याएं हैं, इसलिए मीडिया को ध्यान से देखिए, विश्वास से नहीं.

«1234567»

Advertisement