NDTV Khabar
होम |   रवीश से पूछें 

आपके सवाल, रवीश के जवाब

प्राइम टाइम एंकर, तीन बार रामनाथ गोयनका पुरस्कार से सम्मानित, 20 साल की पत्रकारिता, ब्लॉगर, फेसबुक पेज @RavishKaPage, ट्विटर @ravishndtv, लेखक - The Free Voice, इश्क़ में शहर होना.

सवाल

आप कभी शिक्षकों और विद्यार्थियों पर भी कार्यक्रम करें. शिक्षकों का वेतन बहुत है, और परिणाम खराब आने पर उन्हें सज़ा नहीं मिलती, विद्यार्थियों को मिलती है, ऐसा क्यों?

Raj
जवाब

@Raj , आपके प्रश्न से साफ़ है कि आप प्राइम टाइम नहीं देखते और न ही गंभीर दर्शक हैं। मैं एक साल से लगातार शिक्षा पर ही कार्यक्रम कर रहा हूँ।

सवाल

क्या राजनैतिक दलों और सरकारों की नाकामी के लिए मीडिया को दोष देना उचित है?

Sohan Lal Raturi
जवाब

@Sohan Lal Raturi , अगर मीडिया उनकी नाकामी पर पर्दा डाले, सांप्रदायिक हो जाए, चाटुकारिता करे तो मीडिया को दोष देना उचित है.

सवाल

मोदी भक्तों के मन से गलत धारणा कैसे हटाएं?

Shailender Kumar
जवाब

@Shailender Kumar , मोदी भक्तों को ग़लत सूचनाओं के आधार पर गुमराह किया गया है। इसीलिए सही सूचनाओं पर वे तिलमिला जाते हैं। ख़ुद झूठ में जीते हैं और सत्य बोलने पर दुनिया को झूठा समझते हैं। मोदी भक्तों को गीता का पाठ करना चाहिए और मेरा लेख पढ़ना चाहिए जो मैं गहन रिसर्च के बाद लिखता हूँ।

सवाल

रवीश जी, क्या आपकी राय में नरेंद्र मोदी सरकार ने कोई अच्छा काम भी किया है विगत चार सालों में...? कृपया हमें बताएं, क्योंकि आप ही एक विश्वास करने योग्य व्यक्ति हो.

Shailendra
जवाब

@Shailendra , आपके सवाल का संदर्भ समझ नहीं आया। ख़राब सी ख़राब सरकारें भी एक अच्छा काम कर लेती हैं। अच्छी से अच्छी सरकारें भी बहुत ख़राब काम कर जाती हैं। शिक्षा, स्वास्थ्य, रोज़गार के क्षेत्र संतोषजनक क्या औसत काम भी नहीं हुआ है।

सवाल

हमारे देश में अपराधी प्रवृत्ति के लोग बड़े से बड़े पदों पर पहुंच जाते हैं, जबकि पढ़े-लिखे छात्र पर एक छोटा-सा FIR भी हो जाए, तो उसे सफाईकर्मी बनने लायक भी नहीं समझा जाता, क्यों...?

DINESH KUMAR
जवाब

@DINESH KUMAR , आपकी बात सही है। अगर ऐसा है तो नहीं होना चाहिए। इससे पता चलता है कि हम नेता चुनने के मामले में कितने अगंभीर हैं...

«123456789»

Advertisement