NDTV Khabar
होम |   रवीश से पूछें 

आपके सवाल, रवीश के जवाब

प्राइम टाइम एंकर, तीन बार रामनाथ गोयनका पुरस्कार से सम्मानित, 20 साल की पत्रकारिता, ब्लॉगर, फेसबुक पेज @RavishKaPage, ट्विटर @ravishndtv, लेखक - The Free Voice, इश्क़ में शहर होना.

सवाल

क्या RSS के विस्तार के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है, क्योंकि कांग्रेस सत्ता में थी, लेकिन वह RSS को पालती रही...?

Ashok
जवाब

@Ashok , राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विचार के लिए कांग्रेस कैसे ज़िम्मेदार हो सकती है. यह सही नहीं है कि कांग्रेस ने संघ को पाला है. यह सही है कि कांग्रेस ने कभी संघ से ईमानदारी से लड़ाई नहीं लड़ी. अगर कांग्रेस को लगता है कि संघ की विचारधारा खतरनाक है, तो उसे लड़ना चाहिए. पहली बार राहुल गांधी को बोलते हुए सुना जा सकता है. उनसे पहले संघ को लेकर कांग्रेस के नेता कम ही अटैक करते थे, खासकर कांग्रेस अध्यक्ष. राहुल गांधी अपने भाषणों में बार-बार संघ के खतरे का ज़िक्र करते हैं, मगर कितना लड़ते हैं, कितना गंभीर हैं, यह वही बता सकते हैं.

सवाल

क्या सरकार विरोधी होना देशद्रोह है...?

Madan Lal Salvi
जवाब

@Madan Lal Salvi , सरकार विरोधी होना देशभक्ति है. ऐसा करके आप सरकार की निरंकुशता पर रोक लगाते हैं. देशद्रोह कहने वालों से डरा मत कीजिए. वे डरे हुए हैं आपकी देशभक्ति से.

सवाल

आरोपी का राजनीति में आना, और राजनीति में आने के बाद किसी पर आरोप लगने में कितना फर्क है...?

shamsuddin
जवाब

@shamsuddin , राजनीति में आरोप लगते रहते हैं. भारत में मुश्किल यह है कि किसी को भी फर्ज़ी आरोप में फंसाया जा सकता है, इसलिए आरोपों को लेकर थोड़ा सतर्क रहना चाहिए. अच्छा होता कि राजनीतिक आरोपों की जांच जल्दी होती, फैसला जल्दी आता. राजनीतिक ही क्यों, सभी तरह के आरोपों की जांच समय पर हो.

सवाल

रवीश जी, कातिलों और ब्लास्ट के आरोपी को टिकट दिया जाता है, और अगर इस तरह के लोग जीतकर संसद पहुंचे, तो क्या यह संसद का अपमान नहीं होगा...? हम किस पर और कैसे विश्वास करें...?

S Haider Zaidi
जवाब

@S Haider Zaidi , आप प्रज्ञा ठाकुर की बात कर रहे हैं और अन्य संगीन मामले में आरोपी उम्मीदवारों की भी. आपकी बात सही है. प्रज्ञा ठाकुर अभी बरी नहीं हैं. आतंक का आरोप चल रहा है. मेरी राय में BJP को नहीं करना चाहिए. शायद BJP को इससे बल मिलता है कि हर दल के लोग आरोपियों को टिकट देते हैं. एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक राइट की रिपोर्ट देखेंगे, तो हैरान रह जाएंगे. हमारी राजनीति में पैसे वाले और दुस्साहसी लोगों को ही उम्मीदवारी मिल रही है और जनता बिना सोचे इन्हें वोट दे रही है.

सवाल

गुनहगार को चुनाव लड़ने की इजाज़त चुनाव आयोग किस तरह दे देता है...?

Falgun Solanki
जवाब

@Falgun Solanki , जिसे अदालत से सज़ा मिलती है, वह चुनाव नहीं लड़ सकता है. यह कानून है. सज़ा मिलने पर ही कोई गुनहगार माना जाता है.

12345»

Advertisement